loader

बीजेपी के घोषणापत्र में सिर्फ़ एक व्यक्ति के मन की बात: कांग्रेस

बीजेपी के घोषणापत्र पर कांग्रेस ने तीखी प्रतिक्रिया दी है। कांग्रेस ने बीजेपी के संकल्प पत्र को 'झाँसापत्र' बताया है। बीजेपी के घोषणापत्र के बाद कांग्रेस की ओर से रणदीप सिंह सुरजेवाला, अहमद पटेल ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस की। सुरजेवाला ने कहा कि पिछले घोषणापत्र में बीजेपी ने जो वादा किया था उसका ज़िक्र ही नहीं है।

कांग्रेस ने कहा है कि घोषणापत्र की तसवीर बताती है कि हमारे लिए देश के लोग महत्वपूर्ण हैं और उनके लिए अपना चेहरा। इसने कहा कि हमारे घोषणापत्र में देश के करोड़ों लोगों के विचारों का समावेश है, जबकि बीजेपी के घोषणापत्र में सिर्फ़ एक व्यक्ति के 'मन की बात'। अब देश अपने 'मन का फ़ैसला' सुनाएगा।

2 करोड़ रोजगार का क्या हुआ?

कांग्रेस ने कहा कि 2 करोड़ रोजगार, किसानों की आय दुगुनी करने और महिला सुरक्षा के मुद्दे पर कांग्रेस बुरी तरह फ़ेल रही है। कांग्रेस ने कहा, मोदी सरकार ने नोटबंदी और जीएसटी लागू कर आम जनता को लूटने का काम किया और जनता से इकट्ठा किए गए पैसे को नीरव मोदी और मेहुल चोकसी जैसे चंद उद्योपतियों को दे दिया। बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में रोज़गार और नोटबंदी का नाम ही नहीं लिया।

काला धन क्यों नहीं आया?

कांग्रेस ने कहा कि बीजेपी ने 2014 के लोकसभा चुनाव में 80 लाख करोड़ कालाधन लाने का वादा किया था। साथ ही लोगों के खाते में 15-15 लाख रुपये देने का भी वादा किया था, लेकिन यह सारे वादे जुमले साबित हुए।

कांग्रेस ने कहा, 'एक देश एक टैक्स' का बीजेपी का नारा था, लेकिन इसमें 900 बार बदलाव किया गया। इतने बार नियम-क़ानून बदलने से लोग संशय में रहे और व्यापार में नुक़सान हुआ।' कांग्रेस ने कहा कि रेवेन्यू कलेक्शन एक लाख करोड़ रुपये कम हुआ है।

सस्ते डीज़ल-पेट्रोल का ज़िक्र नहीं

सुरजेवाला ने कहा कि बीजेपी का वादा था सस्ता डीज़ल-पेट्रोल का, लेकिन घोषणापत्र में इसकी चर्चा ही नहीं है। सुरजेवाला ने कहा कि वादा था गंगा की सफाई का, लेकिन नमामि गंगे के पैसै ख़र्च ही नहीं हो पाये। उन्होंने कहा कि देश की जनता जाग चुकी है, अब 'न्याय' होगा।

'वादा करके तोड़ना इनकी फ़ितरत'

अहमद पटेल ने कहा कि वादा करके तोड़ना इनकी फ़ितरत है। उन्होंने ऐसे 125 से ज़्यादा वादे किये और तोड़े हैं। कांग्रेस ने कहा, ये शहंशाह 'मैं, मुझे और मेरा' के अहंकार में चूर है। कांग्रेस ने कहा, मोदी आज भी जुमलों की खेती कर रहे हैं।

'विभाजन और नफ़रत बीजेपी के डीएनए में'

रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि विभाजन और नफ़रत बीजेपी के डीएनए में है, वह एक जाति को दूसरी जाति से लड़ाना चाहती है, वह एक धर्म को दूसरे धर्म से लड़ाना चाहती है। उन्होंने कहा कि बीजेपी यूपी में हिंदू-मुसलमान की राजनीति करती है, गुजरात में पटेल-नॉन पटेल, महाराष्ट्र में मराठा-ग़ैर मराठा, राजस्थान में राजपूत-गुर्जर, हरियाणा में जाट-नॉन जाट, पंजाब में हिंदू-सिख की राजनीति करती है।

कांग्रेस ने माँग की कि संशय दूर हो, इसलिए 50 फ़ीसदी वीवीपैट मशीनों की पर्ची का मिलान किया जाए। विश्वसनीयता बनाये रखने के लिए यह ज़रूरी है। उन्होंने पूछा कि कोई समस्या नहीं थी तो वीवीपैट मशीनों पर 18 हज़ार करोड़ रुपये क्यों ख़र्च किये गये।

इससे पहले कांग्रेस ने बीजेपी के घोषणापत्र पर ट्विटर पर भी प्रतिक्रिया दी। कांग्रेस ने कहा, 'चलिए, हम आपको वो याद दिलाते हैं, जिसे आप भूल गए लेकिन, देश की जनता को याद है- 15 लाख, 2 करोड़ रोजगार, किसानों की दुगुनी आय, महिला सुरक्षा। इन मुद्दों पर आप बुरी तरह विफल हुए हो और जनता आपको माफ़ नहीं करेगी। इसलिए- अब जनता की बारी है। सरकार तुम्हारी जानी है।'

बता दें कि बीजेपी ने लोकसभा चुनाव 2019 के लिए सोमवार को संकल्प पत्र जारी कर दिया है। बीजेपी ने कहा है कि इस संकल्प पत्र के ज़रिए 130 करोड़ लोगों की आकाँक्षाएँ पेश की जा रही है और यह एक तरह का विज़न डॉक्यूमेंट है। संकल्प पत्र में कहा गया है कि राष्ट्रवाद के प्रति हमारी पूरी प्रतिबद्धता है। आतंकवाद के प्रति जीरो टॉलरेंस की नीति अपनाई जाएगी। सुरक्षा बलों को आतंकवादियों का सामना करने के लिए फ़्री हैंड की नीति जारी रहेगी। देश की सुरक्षा के साथ हमारी सरकार किसी भी सूरत में समझौता नहीं करेगी। उत्तर-पूर्व में घुसपैठ को रोकने के लिए स्मार्ट फ़ेंसिंग के साथ प्रौद्योगिकी का भी उपयोग किया जाएगा। यूनिफ़ॉर्म सिविल कोर्ड को लागू करेंगे। घुसपैठ को रोकने की कोशिश करेंगे। इसके साथ ही कई मुद्दों का बीजेपी के घोषणापत्र में ज़िक्र है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें