loader

पाँचवें चरण में 62% से ज़्यादा मतदान, 51 सीटों पर वोट

लोकसभा चुनाव 2019 के पाँचवें चरण में 62.56% मतदान हुआ है। बिहार में 57.76%, जम्मू एवं कश्मीर में 17.07%, मध्य प्रदेश में 63.99%, राजस्थान में 63.68%, उत्तर प्रदेश में 54.52%, पश्चिम बंगाल में 74.15% और झारखंड में 64.23% मतदान हुआ है। इस चरण में 7 राज्यों की 51 सीटों पर वोट डाले गए। लोकसभा चुनाव के पहले चरण में 69.50%, दूसरे चरण में 69.44%, तीसरे चरण में 68.40% और चौथे चरण में 65.51% मतदान हुआ था। इस चरण में बिहार की 5, जम्मू-कश्मीर की 2, झारखंड की 4, मध्य प्रदेश की 7, राजस्थान की 12, उत्तर प्रदेश की 14 और पश्चिम बंगाल की 7 सीटों पर वोट डाले गए। पश्चिम बंगाल में हुई हिंसा को छोड़कर मतदान शांतिपूर्ण रहा। 
अब 12 और 19 मई को आख़िरी दो चरणों में 118 सीटों के लिए मतदान होगा। अब तक कुल 424 सीटों पर वोटिंग हो चुकी है।
इस चरण में राजनाथ सिंह (लखनऊ), सोनिया गाँधी (रायबरेली), राहुल गाँधी (अमेठी), स्मृति ईरानी (अमेठी), पूनम सिन्हा (लखनऊ), कृष्णा पूनिया (जयपुर ग्रामीण), जयंत सिन्हा (हजारीबाग), राज्यवर्धन सिंह राठौड़ (जयपुर ग्रामीण) की सीटें अहम हैं। 2014 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने इनमें से 40 सीटों पर जीत दर्ज की थी और दो सीटों पर कांग्रेस को जीत मिली थी जबकि बाक़ी सीटों पर अन्य विपक्षी दलों ने जीत हासिल की थी।
ताज़ा ख़बरें

पश्चिम बंगाल में फिर हुई हिंसा

पश्चिम बंगाल में एक बार फिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और ममता की सियासी दुश्मनी सामने आई। बंगाल में कई जगहों पर तृणमूल और बीजेपी समर्थकों में झड़प हुई। नदिया जिले के बनगाँव में बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच हुई झड़प में बम फेंका गया। इस घटना में एक व्यक्ति के घायल होने की ख़बर है। हुगली और हावड़ा से भी हिंसा की ख़बरें आई हैं।

पश्चिम बंगाल में चुनाव के दौरान हुई हिंसा के मुद्दे को बीजेपी ने उठाया। बीजेपी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि ममता बनर्जी बूथ कैप्चरिंग करवा रही हैं। टीएमसी के गुंडे बूथ पर जाकर ख़ुद ही ईवीएम का बटन दबा रहे हैं। केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि ममता बनर्जी चुनाव हार रही हैं। 

बता दें कि पश्चिम बंगाल में पहले चरण में अलीपुरदुआर में टीएमसी और बीजेपी समर्थकों में हिंसा हुई थी। दूसरे चरण और तीसरे चरण में भी बूथों पर झड़प की ख़बर सामने आई थी। 

चौथे चरण में आसनसोल में टीएमसी कार्यकर्ताओं और सुरक्षाबलों में जमकर झड़प हुई थी। केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो की कार का शीशा भी तोड़ दिया गया था।

बीजेपी ने माँग की है कि बैरकपुर सीट पर दोबारा चुनाव होना चाहिए और चुनाव आयोग को सख़्ती से पेश आना चाहिए।  हावड़ा से तृणमूल सांसद प्रसून बनर्जी और सुरक्षा बलों के बीच मतदान के दौरान झड़प भी हो गई।

पश्चिम बंगाल में हुगली सीट से बीजेपी की प्रत्याशी लॉकेट चटर्जी ने जिलाधिकारी के कार्यालय के बाहर धरना दिया। कुछ अज्ञात लोगों ने चटर्जी की कार का शीशा तोड़ दिया था।

बैरकपुर से बीजेपी उम्मीदवार अर्जुन सिंह ने टीएमसी कार्यकर्ताओं पर उन पर हमला करने का आरोप लगाया। अर्जुन सिंह ने कहा कि टीएमसी कार्यकर्ता हमारे वोटरों को धमका रहे हैं। उधर, टीएमसी के कार्यकर्ताओं ने बीजेपी पर गुंडागर्दी करने का आरोप लगाया। 
चुनाव 2019 से और ख़बरें
दक्षिण कश्मीर के शोपियां में एक पोलिंग बूथ पर पेट्रोल बम से हमला किया गया। हमले में किसी के मारे जाने या घायल होने की ख़बर नहीं है। पुलवामा में भी एक पोलिंग बूथ पर मतदान के दौरान ग्रेनेड फटने की भी ख़बर सामने आई। 
बिहार के सारण में वोटिंग के दौरान पथराव और दो गुटों में झड़प हुई। मतदान के दौरान बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने दावा किया कि 23 मई को चुनाव नतीजे आने के बाद मुख्यमंत्री नीतीश कुमार इस्तीफ़ा दे देंगे। छपरा में एक शख़्स ने 131 नंबर पोलिंग बूथ पर ईवीएम को तोड़कर ज़मीन पर फेंक दिया। हाज़ीपुर में पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया। 

यूपी में 14 सीटों पर हुई वोटिंग

उत्तर प्रदेश में जिन 14 सीटों के लिए पाँचवें चरण में वोट डाले गए उनमें धौरहरा, सीतापुर, मोहनलालगंज (अनुसूचित जाति), लखनऊ, बांदा, फतेहपुर, कौशाम्बी (अनुसूचित जाति), बाराबंकी (अनुसूचित जाति), फ़ैज़ाबाद, बहराइच (अनुसूचित जाति), कैसरगंज और गोण्डा शामिल हैं। बीजेपी ने सोनिया गाँधी की रायबरेली सीट और राहुल गाँधी की अमेठी सीट को छोड़कर बाकी 12 सीटों पर 2014 के लोकसभा चुनाव में जीत दर्ज की थी।

अमेठी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गाँधी और केन्द्रीय मंत्री स्मृति ईरानी आमने-सामने हैं। रायबरेली में यूपीए चेयरपर्सन सोनिया गाँधी का  मुक़ाबला बीजेपी के उम्मीदवार दिनेश प्रताप सिंह से है। 

लखनऊ से बीजेपी उम्मीदवार और केन्द्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह का मुक़ाबला कांग्रेस के उम्मीदवार आचार्य प्रमोद कृष्णम और एसपी-बीएसपी गठबंधन की उम्मीदवार पूनम सिन्हा से है।धौरहरा लोकसभा सीट से कांग्रेस के टिकट पर पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद, सपा-बसपा गठबंधन के प्रत्याशी अरशद अहमद सिद्दीकी व बीजेपी की रेखा वर्मा के बीच काँटे का मुक़ाबला है। फ़ैज़ाबाद से पूर्व प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष निर्मल खत्री की भी प्रतिष्ठा दाँव पर है। बाराबंकी सीट पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता पीएल पुनिया के बेटे तनुज पुनिया को पार्टी ने मैदान में उतारा है।

हाज़ीपुर से लोकजनशक्ति पार्टी के पशुपति कुमार पारस का सीधा मुक़ाबला आरजेडी के शिव चंदर राम से है। सारण में बेहद कड़ा मुक़ाबला है। यहाँ से आरजेडी के चंद्रिका राय की चुनावी टक्कर बीजेपी के वरिष्ठ नेता राजीव प्रताप रूडी से है। 

बिहार में मधुबनी सीट पर महागठबंधन के उम्मीदवार बद्री कुमार के सामने बीजेपी के अशोक यादव और पूर्व कांग्रेस नेता शकील अहमद हैं। शकील अहमद यहाँ से निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में मैदान में हैं।
राजस्थान में श्रीगंगानगर, बीकानेर, चूरू, झुन्झुनू, सीकर, जयपुर (ग्रामीण), जयपुर, अलवर, भरतपुर, करौली-धौलपुर, दौसा, नागौर की सीटों पर वोट गए। नागौर सीट से राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी के हनुमान बेनीवाल चुनावी मैदान में हैं। कांग्रेस की ज्योति मिर्धा से उनका मुक़ाबला है। बीकानेर सीट पर बीजेपी ने केंद्रीय मंत्री अर्जुन राम मेघवाल को फिर से उतारा है और कांग्रेस ने यहाँ से मदन गोपाल को टिकट दिया है। 
राजस्थान की एक और चर्चित सीट जयपुर ग्रामीण से केन्द्रीय मंत्री कर्नल राज्यवर्धन सिंह राठौड़ का कांग्रेस की कृष्णा पूनिया के साथ कड़ा मुक़ाबला है। कांग्रेस के दिग्गज नेता भंवर जितेंद्र सिंह अलवर से मैदान में उतरे।
पाँचवें चरण का मतदान ख़त्म होने के साथ ही छठे और सातवें चरण के लिए लड़ाई तेज़ हो गई है। छठे चरण में दिल्ली में भी मतदान होना है और यहाँ आम आदमी पार्टी, कांग्रेस और बीजेपी के बीच जोरदार लड़ाई है। छठे चरण में ही हरियाणा में भी वोटिंग होनी है और उसके बाद सातवें चरण में पंजाब की सभी सीटों पर वोटिंग होनी है। इसलिए अब नरेंद्र मोदी और राहुल गाँधी इन राज्यों में चुनावी प्रचार पर फ़ोकस करेंगे।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें