loader

मोदी की रैली से पहले अरुणाचल सीएम के काफ़िले से करोड़ों बरामद

अरुणाचल प्रदेश के पासीघाट में प्रधानमंत्री मोदी की रैली से कुछ घंटे पहले राज्य के मुख्यमंत्री के काफ़िले से 1.80 करोड़ रुपये ज़ब्त किये जाने का मामला सामने आया है। इस पर कांग्रेस ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर कहा कि काफ़िले में मुख्यमंत्री पेमा खांडू के अलावा उप-मुख्यमंत्री चाउना माइन और और बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष तापेर गाव के नेतृत्व में यह काफ़िला जा रहा था। कांग्रेस ने कहा कि शिकायत के बाद चुनाव आयोग ने यह कार्रवाई की और ये रुपये मंगलवार रात 12 बजे बरामद किए गए। इस बीच सोशल मीडिया पर इस कार्रवाई का एक वीडियो वायरल हुआ है जिसमें एक कार से 500 रुपयों के नोटों के बंडल भरे हैं।

इस पूरे मामले में मुख्यमंत्री पेमा खांडू ने कांग्रेस के 'कैश फॉर वोट' के आरोपों को नकार दिया है। हालाँकि उन्होंने स्वीकार किया कि बीजेपी के प्रत्याशी की कार से रुपये बरामद किये जाने की सूचना उन्हें मिली है। उन्होंने कहा कि चुनाव आयोग की पड़ताल में सारी चीजें साफ़ हो जाएँगी।
प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष तापेर गाव ने कहा, 'वह बीजेपी उम्मीदवार डॉ. डाँगी परमे और उसके साथ कोई पूर्व विधायक का अपना पर्सनल कार में अपना पैसा है। उसमें तो न पेमा खांडू का नाम है न मेरा नाम है। यह बीजेपी का पैसा नहीं है।'
इससे पहले कांग्रेस के प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने प्रेस कॉन्फ़्रेंस कर आरोप लगाया था कि इससे बड़ा कैश फॉर वोट घोटाला क्या हो सकता है कि पेमा खांडू के काफ़िले की चेकिंग में 1.80 करोड़ रुपए पकड़े जाते हैं। उन्होंने कहा कि बुधवार की सुबह 10 बजे पासीघाट में पीएम मोदी की रैली आयोजित है और उसके ठीक पहले मंगलवार की रात इतना कैश पकड़ा जाना सवाल खड़ा करता है कि क्या ये नोट पीएम की रैली में लोगों को लाने के लिए दिए जाने वाले थे?
ताज़ा ख़बरें

सुरजेवाला ने पैसे बरामद किये जाने वाला वीडियो भी दिखाया। उन्होंने कहा कि उनकी जानकारी के अनुसार कुछ गाड़ियों में नोटों की गड्डी ले जायी जा रही थी जो पासीघाट में ही सियांग गेस्ट हाउस में खड़ी थी। उन्होंने कहा कि युवा कांग्रेस की शिकायत पर पाँच गाड़ियों की तलाशी ली गयी। न्यूज़ वेबसाइट 'नेशनल हेरल्ड' ने पासीघाट के डीसी और एसपी के हवाले से रिपोर्ट दी है कि नकदी की बरामदगी के बारे में पासीघाट में चुनाव के लिए लगाये गये आयकर विभाग के अधिकारी प्रिया रंजन को सूचना दी गयी। 

इसको लेकर सुरजेवाल ने बीजेपी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि कैश फॉर वोट स्कैंडल, बीजेपी का असली चेहरा उजागर कर रहा है। उन्होंने कहा कि यह प्रजातंत्र का काला दिन है, चोर की चौकीदारी और चौकीदार की चोरी रंगे हाथ पकड़ी गई है। सुरजेवाला ने आरोप लगाया कि मोदीजी का नारा है- नोट दो, वोट लो। 
चुनाव 2019 से और ख़बरें

सुरजेवाला ने इस मामले में कई सवाल भी पूछे। उन्होंने सवाल पूछे कि क्या मुख्यमंत्री पेमा खांडू, चाउना माइन और तापेर गाव पर मुक़दमा दर्ज नहीं होना चाहिए? उन्होंने कहा कि पीएम मोदी जवाब दें कि क्या कालाधन से वोट लेकर, कालाधन से लोगों को बुलाकर चुनाव जीतना चाहते हैं। उन्होंने यह भी पूछा कि क्या मुख्यमंत्री के काफ़िले का प्रयोग करेंगे, 180 लाख कालाधन है या सफेद, बीजेपी के किस खाते से इतनी राशि निकाली गई?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

चुनाव 2019 से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें