loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

भोपाल: कोरोना फैलाने के आरोपी 17 जमातियों को जेल, इनमें 13 विदेशी

कोरोना संक्रमण फैलाने के आरोप में पकड़े गये 17 जमातियों को भोपाल ज़िला अदालत ने गुरुवार को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। जेल भेजे गये ज़्यादातर जमाती विदेशी हैं जबकि कुछ अन्य सूबों के रहने वाले हैं। सभी जमाती कोरोना संक्रमित होने की वजह से अस्पतालों में भर्ती थे और इन्हें ठीक हो जाने के बाद हाल ही में अस्पतालों से छुट्टी मिली थी।

भोपाल के तलैया थाने में 9 और मंगलवारा पुलिस स्टेशन में 8 जमातियों के ख़िलाफ़ लाॅकडाउन के उल्लंघन और कोरोना संक्रमण फैलाने की धाराओं में मामले दर्ज हैं। कुल आरोपियों में 13 आरोपी - दक्षिण अफ़्रीका, तंजानिया, सिएरा लियोन, कज़ाकिस्तान जैसे देशों के रहने वाले हैं। जबकि तीन आरोपी महाराष्ट्र, हरियाणा और बिहार के समस्तीपुर के मूल निवासी हैं और एक भोपाल का है।

ताज़ा ख़बरें

पुलिस द्वारा पकड़े जाने के बाद हुई जाँच में ये सभी ‘कोविड-19’ से संक्रमित मिले थे। सभी को अस्पतालों में दाखिल करवा दिया गया था। ये सभी ठीक हो चुके हैं। सभी की अस्पताल से छुट्टी हो गई है। आरोपियों की ओर से भोपाल ज़िला अदालत में ज़मानत की अर्जी लगाई गई थी।

ज़मानत याचिका पर गुरुवार को सुनवाई करते हुए भोपाल ज़िला अदालत के प्रथम श्रेणी न्यायिक मजिस्ट्रेट आशीष परसाई ने आवेदन को निरस्त करते हुए सभी को 14 दिनों के लिए न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

न्यायालय ने माना कि आरोपियों ने कोरोना वायरस नियंत्रण के लिए जारी आदेशों के उल्लंघन का गंभीर अपराध किया है। कुल आरोपियों में 13 आरोपी विदेश से हैं। तीन मध्य प्रदेश के बाहर से हैं, लिहाज़ा ज़मानत मिलने पर इनके फरार होने की संभावनाओं से इनकार नहीं किया जा सकता। इसलिए जाँच पूरी होने तक ज़मानत याचिका निरस्त की जाती है। कोर्ट ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 27 मई की तारीख़ तय की है।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

जमातियों पर इन धाराओं में केस

भोपाल पुलिस ने जमातियों पर भारतीय दंड विधान की धारा 188, 269, 270 और 51 राष्ट्रीय आपदा अधिनियम लगायी है। विदेशी जमातियों पर उपरोक्त धाराओं के अलावा विदेशी विषयक अधिनियम 1946 की धारा 13 और 14 भी लगाई गई है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें