loader
पीपीई किट पहनकर वोट डालते विधायक कुणाल चौधरी।

राज्यसभा चुनाव: मप्र में कोरोना पाॅजिटिव विधायक कुणाल चौधरी ने डाला वोट, उठे सवाल

मध्य प्रदेश में राज्यसभा की तीन रिक्त सीटों के लिए शुक्रवार को वोटिंग हुई। लेकिन इसमें कोरोना पाॅजिटिव विधायक कुणाल चौधरी के वोट डालने को लेकर जमकर सवाल उठे। कुणाल पीपीई किट पहनकर सबसे अंत में वोट डालने पहुंचे। पिछले सप्ताह कुणाल चौधरी की रिपोर्ट पाॅजिटिव आई थी। तीन सीटों के लिए प्रदेश के सभी 206 विधायकों ने वोटिंग की। 

कोरोना संक्रमित होने के बाद कुणाल को भोपाल के सबसे बड़े सरकारी अस्पताल हमीदिया में भर्ती कराया गया था। यहां वे तीन दिन तक रहे। इसके बाद डाॅक्टरों से कथित तौर पर जबरिया छुट्टी लेकर वे भोपाल स्थित अपने घर चले आये। कोरोना के रोगी होते हुए भी उपचार की प्रक्रिया पूरी होने तथा नये सिरे से टेस्ट होने के पहले ही उनके घर जाने पर भी खूब सवाल उठाये गये।

ताज़ा ख़बरें

वोट डालने के बाद हाथ उठाकर मीडिया के सामने विक्टरी का साइन बनाते हुए कुणाल निकल गये। कुणाल चौधरी जब वोट डालने पहुंचे तो वहां वोटिंग कराने वाला अमला ही मौजूद था।

बीजेपी ने दर्ज कराई आपत्ति

कुणाल की वोटिंग को लेकर मध्य प्रदेश बीजेपी के प्रवक्ता ने लिखित में आपत्ति भी दर्ज कराई। बीजेपी प्रवक्ता डॉ. हितेष वाजपेयी ने सवाल उठाया कि कोरोना पॉजिटिव अन्य रोगियों को भी प्रशासन पीपीई किट पहनकर घूमने-फिरने की अनुमति प्रदान करेगा? उन्होंने कहा कि नियम तो सभी के लिए एक बराबर होते हैं। 

सवाल यह भी उठाया गया कि राज्यसभा के चुनाव में ऐसे हालात नहीं थे कि कुणाल के वोट डालने अथवा ना डालने पर कांग्रेस को कोई फर्क पड़ता? यदि कुणाल वोट ना डालते तो भी कांग्रेस को एक ही सीट मिल पाती और जब उन्होंने वोट डाला तब भी कांग्रेस को एक ही सीट मिल पानी मुमकिन है।

आरोप लगाया गया कि मीडिया की सुर्खी बनने के लिए कुणाल पीपीई किट पहनकर वोट डालने पहुंचे। हालांकि राज्यसभा चुनाव कराने के लिए तैनात अमले ने कुणाल को पीपीई किट पहनकर वोट डालने की अनुमति दी थी।

डाक मत पत्र की है व्यवस्था

प्रश्न यह भी खड़ा किया गया कि राज्यसभा चुनाव कराने वाले अफसरों ने कुणाल को प्रत्यक्ष तौर पर वोट डालने के लिए अनुमति आखिर क्यों दी? इस प्रश्न को लेकर दलील दी गई कि जब राज्यसभा चुनावों के लिए डाक मत पत्र की व्यवस्था है, अतः कुणाल का वोट डाक मत पत्र के जरिये डलवाया जाना चाहिए था।

बता दें, कोरोना संक्रमण से जुड़े प्रोटोकाॅल में मध्य प्रदेश में कोरोना संदिग्ध को 14 दिन क्वारंटीन रखे जाने का नियम है। कोरोना संदिग्धों को क्वारंटीन करने के लिए सेंटर निर्धारित हैं। यदि कोई कोरोना पाॅजिटिव है तो ऐसे रोगी को तब तक अस्पताल में रहना होता है जब तक कि वह पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाता।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

कोरोना पाॅजिटिव रोगी को कोरोना संक्रमण मुक्त माने जाने के लिए उसका दो मर्तबा कोरोना का टेस्ट करने का नियम है। जब तक दोनों टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव नहीं आती है तब तक रोगी को कोरोना से मुक्त नहीं माना जा सकता। अस्पतालों में भर्ती कोरोना के रोगी से ना तो किसी को मिलने देने की अनुमति है और ना ही वह किसी से मिल सकता है।

अबोध बच्चे से लेकर बुजुर्गों तक के लिए यही व्यवस्था है। बावजूद इसके कांग्रेस विधायक कुणाल का अस्पताल से छुट्टी लेकर घर चले जाना और आज वोट डालने के लिए पहुंचने पर सवाल उठने लाजिमी हैं।

राज्य की विधानसभा में यूं तो कुल 230 सीटें हैं। लेकिन दो सीटें सदस्यों के निधन से रिक्त हैं। जबकि 22 सीटें कांग्रेस विधायकों द्वारा इस्तीफा देकर बीजेपी में शामिल हो जाने के कारण खाली हैं। इस तरह वर्तमान में कुल 24 सीटें रिक्त हैं, जिनके लिए जल्द ही उपचुनाव होना है।

सिंधिया भी हैं उम्मीदवार

मध्य प्रदेश से राज्यसभा की तीन रिक्त सीटों के लिए बीजेपी ने पूर्व केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और सुमेर सिंह सोलंकी को प्रत्याशी बनाया है। उधर, कांग्रेस ने पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह और फूल सिंह बरैया को टिकट दिया है। समीकरणों के हिसाब से बीजेपी को दो और कांग्रेस को एक सीट मिलना तय माना जा रहा है।

बसों में लाए गए कांग्रेस विधायक

कांग्रेस खेमे को क्राॅस वोटिंग की आशंका थी। संभवतया इसी बात के मद्देनजर पार्टी अपने सभी विधायकों को दो अलग-अलग बसों में भरकर विधानसभा लाई थी। वोटिंग के लिए निकलने से पहले सभी विधायक पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के सरकारी आवास पर इकट्ठा हुए थे। सबसे आखिरी वोट कुणाल ने डाला। जबकि पहला वोट मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने डाला था।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें