loader

ABVP की शिकायत पर लॉ कॉलेज के 6 प्रोफेसर्स के खिलाफ जांच का आदेश

इंदौर के एक सरकारी लॉ कॉलेज के 6 प्रोफेसर्स के खिलाफ जांच का आदेश दिया गया है। इन प्रोफेसर्स के खिलाफ अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) ने धार्मिक कट्टरता को बढ़ावा देने सहित कई आरोप लगाए थे। एबीवीपी ने इस संबंध में कॉलेज के प्रिंसिपल इनाम उर रहमान को ज्ञापन सौंपा था। सभी प्रोफेसर्स को अस्थाई रूप से उनके काम से मुक्त कर दिया गया है। एबीवीपी राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ का छात्र संगठन है। 

क्या कहा था ज्ञापन में?

एबीवीपी के छात्रों ने ज्ञापन में प्रिंसिपल से पूछा था कि इस कॉलेज में एक ही विशेष धर्म के ज्यादा शिक्षक क्यों हैं। उन्होंने आरोप लगाया था कि इनमें से एक प्रोफेसर धार्मिक कट्टरता को बढ़ावा दे रहे हैं। 

छात्रों ने आरोप लगाया था कि यह प्रोफेसर सरकारी कर्मचारी होने के बावजूद नई शिक्षा नीति के खिलाफ अभियान चला रहे थे।

ताज़ा ख़बरें

ज्ञापन में कहा गया था कि एक अन्य प्रोफेसर हिंदू शासकों के इतिहास से खिलवाड़ कर रहे थे जबकि जबकि मुगलों के शासन की तारीफ करते थे। यह भी आरोप लगाया गया था कि कुछ अन्य प्रोफेसर लव जिहाद को बढ़ावा देने में शामिल हैं और छात्रों को नमाज के लिए मस्जिद में ले जाते हैं। 

ज्ञापन में जिन 4 प्रोफेसर के नाम लिखे गए थे, उनके नाम- अमीक खोखर, डॉ. मिर्जा मोजीज बेग, डॉ. फिरोज अहमद मीर, प्रोफेसर सुहैल अहमद वानी हैं। इसके बाद दो अन्य प्रोफेसर- मिलिंद कुमार गौतम और डॉ. पूर्णिमा बैस के नाम भी एबीवीपी की ओर से दिए गए।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक, कॉलेज में एबीवीपी के अध्यक्ष दीपेंद्र ठाकुर ने कहा कि हमने इस बात की शिकायत कॉलेज के प्रशासन से की थी कि प्रोफेसर महान शख्सियतों और सेना के खिलाफ गलत टिप्पणी करते हैं। उन्होंने कहा कि यहां लव जिहाद का भी एक मामला है और एक प्रोफेसर ने एक छात्रा को कैफे में बुलाया था और उसके साथ फोटो भी खिंचाई थी और उससे पब में चलने के लिए कहा था। 

ठाकुर ने बताया कि छात्रा ने इसकी शिकायत भी की थी लेकिन इस बारे में कोई कार्रवाई नहीं की गई। बाद में उसने हमें बताया और हमने प्रिंसिपल को अपनी मांगों के संबंध में एक ज्ञापन सौंपा है। 

क्या कहा प्रिंसिपल ने?

इस बारे में प्रिंसिपल ने बताया कि एबीवीपी के कुछ छात्र यहां आए थे और उन्होंने जोरदार नारेबाजी की। वे इन प्रोफेसर्स का निलंबन चाहते थे। उन्होंने कहा कि इससे पहले ऐसी घटना कभी नहीं हुई है और लव जिहाद का भी कोई मामला आज तक कॉलेज में सामने नहीं आया है। 

मध्य प्रदेश से और खबरें

कमेटी का गठन

एबीवीपी की शिकायत पर इन प्रोफेसर्स पर लगे आरोपों की जांच के लिए रिटायर्ड जिला जज की अध्यक्षता में एक स्वतंत्र कमेटी बना दी गई है। कमेटी पांच दिन के अंदर अपनी रिपोर्ट देगी। प्रिंसिपल ने कहा है कि सभी प्रोफेसर्स को अस्थाई रूप से उनके काम से मुक्त कर दिया गया है ताकि जांच में किसी तरह की रुकावट न हो। उन्होंने बताया कि जांच के आधार पर ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। 

प्रिंसिपल ने कहा कि हम इस मामले में रिपोर्ट आने के बाद कार्रवाई करेंगे। उन्होंने कहा कि वह साल 2019 से यहां प्रिंसिपल हैं और उन्होंने कभी ऐसी कोई शिकायत के बारे में नहीं सुना और जिन प्रोफेसर्स पर आरोप लगा है, वे यहां साल 2013-14 से विजिटिंग फैकल्टी के रूप में काम कर रहे हैं और उन्होंने भी कभी इस तरह की बातों का सामना नहीं किया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें