loader

मप्र: कमलनाथ की पीसी में शामिल पत्रकार का कोरोना टेस्ट पॉजिटिव, मचा हड़कंप

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में शामिल रहे एक पत्रकार का कोरोना टेस्ट पाॅजिटिव निकला है। कमलनाथ ने 20 मार्च को भोपाल में अपने सरकारी निवास पर यह प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई थी और इसमें उन्होंने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे का एलान किया था। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में लगभग 400 लोग (बड़ी संख्या में पत्रकारों के साथ नेता और अफसर भी) शामिल रहे थे। प्रेस कॉन्फ्रेंस में दिल्ली से भी बड़ी संख्या में पत्रकार शामिल हुए थे। 

कोरोना वायरस से संक्रमित यह पत्रकार कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में पहली पंक्ति में बैठे थे। प्रेस कॉन्फ्रेंस शुरू होने से पहले और इसके ख़त्म होने तक उनकी कई पत्रकार साथियों, नेताओं और अधिकारियों से बातचीत-मुलाक़ात हुई थी। 

ताज़ा ख़बरें

प्रेस कॉन्फ्रेंस के बाद कमलनाथ की पत्रकारों से हुई अनौपचारिक बातचीत और मुलाक़ात के दौरान भी इन पत्रकार को उनके आसपास देखा गया था। लंदन से लौटी उनकी बेटी का रविवार को कोरोना का टेस्ट पाॅजिटिव आया था। तब सवाल उठा था कि लंदन से लौटते ही उन्होंने अपनी बेटी का कोरोना वायरस का टेस्ट क्यों नहीं कराया? प्रोटोकाॅल के अनुसार वह क्वरेंटीन में क्यों नहीं रहे? घर से क्यों बाहर निकले?

हालांकि उनकी बेटी का कोरोना टेस्ट पाॅजिटिव मिलते ही जिला प्रशासन ने पत्रकार और उनके पूरे परिवार को क्वरेंटीन कर दिया था। घर के सभी सदस्यों के ज़रूरी सैंपल जांच के लिये गये थे। लेकिन पत्रकार की रिपोर्ट पाॅजिटिव आते ही भोपाल से लेकर दिल्ली तक बवाल मच गया है। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है।

मध्य प्रदेश सरकार के जनसंपर्क विभाग के सचिव पी. नरहरि ने कहा है कि इस प्रेस कॉन्फ़्रेंस में शामिल रहे सभी पत्रकारों को ख़ुद को तुरंत क्वरेंटीन कर लेना चाहिए।
भोपाल की संभाग आयुक्त कल्पना श्रीवास्तव ने भी उन सभी पत्रकारों को क्वरेंटीन करने का मशविरा दिया है जो कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में मौजूद थे। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में कमलनाथ का करीब-करीब पूरा मंत्रिमंडल, कई कांग्रेसी नेता और बड़ी संख्या में अधिकारी भी मौजूद रहे थे और सभी एक-दूसरे से मिलते रहे थे। माना जा रहा है कि पत्रकार की रिपोर्ट पाॅजिटिव आने के बाद अब इन सभी को भी स्वयं को क्वरेंटीन कर लेना चाहिए। वरना आगे भारी मुश्किलें खड़ी हो जायेंगी। 

जर्नलिस्ट क्लब के मध्य प्रदेश सचिव और वरिष्ठ पत्रकार रंजन श्रीवास्तव ने ‘सत्य हिन्दी’ से कहा, ‘मैं भी कमलनाथ की प्रेस कॉन्फ्रेंस में था। संक्रमित पाये गये पत्रकार से मेरी मुलाक़ात हुई थी और अन्य पत्रकार भी उनसे मिले थे। उनके कोरोना पाॅजिटिव होने की सूचना के बाद मैंने ख़ुद को क्वरेंटीन कर लिया है और सभी मित्रों को भी अगले 14 दिनों तक घर से  न निकलने और स्वयं को क्वरेंटीन करने का अनुरोध किया है।’

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

6 दिनों में 14 मामले पॉजिटिव 

दुनिया के साथ ही देश के अनेक हिस्सों में कहर बरपा रहे कोरोना वायरस से मध्य प्रदेश पिछले सप्ताह तक अछूता था। लेकिन अचानक से इस वायरस के पाॅजिटिव मरीजों की संख्या तेज़ी से बढ़ी है। सबसे पहले जबलपुर, उसके बाद भोपाल में एक व्यक्ति के कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई थी। देखते ही देखते कोरोना प्रदेश में तेज़ी से फैल रहा है।

मध्य प्रदेश में अब तक कुल 6 जिले कोरोना वायरस की चपेट में आये हैं। इनमें जबलपुर, भोपाल, इंदौर और उज्जैन के अलावा ग्वालियर एवं शिवपुरी शामिल हैं। इन 6 जिलों में काफी संख्या में लोग क्वरेंटीन भी किए गए हैं। बुधवार को इंदौर में 4 और उज्जैन में 1 कोराना पाॅजिटिव व्यक्ति मिला है। इन सभी की उम्र 49 से 68 साल के बीच है। इंदौर में कोराना पाॅजिटिव मिले व्यक्तियों में से 2 की हालत गंभीर बताई जा रही है। 
Satya Hindi Logo Voluntary Service Fee स्वैच्छिक सेवा शुल्क
गोदी मीडिया के इस दौर में पत्रकारिता को राजनीति और कारपोरेट दबावों से मुक्त रखने और 'सत्य हिन्दी' को आर्थिक रूप से आत्मनिर्भर बनाने के लिए आप हमें स्वैच्छिक सेवा शुल्क (Voluntary Service Fee) चुका सकते हैं। नीचे दिये बटनों में से किसी एक को क्लिक करें:
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें