loader

'उपचुनाव में सरकारी मशीनरी का दुरुपयोग'

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने विधानसभा के उपचुनाव में सरकारी मशीनरी के भारी दुरुपयोग का आरोप लगाया है। कमलनाथ ने अधिकारियों की नामजद शिकायतें करते हुए सत्तारूढ़ दल बीजेपी एवं उसके उम्मीदवारों को अफसरों द्वारा सीधी मदद करने और कांग्रेस प्रत्याशियों को अनावश्यक रूप से परेशान करने का आरोप भी लगाया है। 

कमलनाथ ने मध्य प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी की भूमिका पर भी सवाल उठाए हैं। उन्होंने स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव की व्यवस्था की मांग चुनाव आयोग से की है।

मध्य प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने चार पेज का लंबा खत सोमवार को मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा को लिखा है। पत्र की प्रति मीडिया को भी जारी की गई है। 

ताज़ा ख़बरें

मध्य प्रदेश के चुनावी इतिहास में यह पहला अवसर है जब किसी पूर्व मुख्यमंत्री ने भारत के चुनाव आयोग को इस तरह से अधिकारियों की नामजद लंबी शिकायत की है। कमलनाथ ने खत में विधानसभा क्षेत्रवार उन अधिकारियों के नाम दिये हैं जो कथित तौर पर पार्टी बनकर बीजेपी और उसके प्रत्याशियों के लिए काम कर रहे हैं।

बता दें, राज्य की 28 विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हो रहे हैं। करीब-करीब हरेक सीट पर कांग्रेस के प्रत्याशियों और कार्यकर्ताओं को मशीनरी द्वारा अनावश्यक तौर पर प्रताड़ित एवं परेशान करने के आरोप कांग्रेस द्वारा लगाये गये हैं। 

कमलनाथ ने क्षेत्रवार ब्यौरा दिया है कि कहां-कहां कांग्रेस के उम्मीदवारों और उनके समर्थकों के ख़िलाफ़ सरकार एवं बीजेपी के कथित इशारे पर झूठे मुकदमे तक अधिकारियों ने लाद दिए हैं।

शिकायतों पर नहीं की कार्रवाई

कमलनाथ ने मध्य प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय को भी निशाने पर लिया है। कांग्रेस की तमाम शिकायतों के लंबित होने का जिक्र करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री ने बताया है कि चुनाव आयोग से अनुमति ना मिलने की दुहाई देकर उपचुनाव में धांधलियों से जुड़ी कांग्रेस की अनेक जायज शिकायतों पर मध्य प्रदेश के सीईओ ने कार्रवाई नहीं की है और तमाम शिकायतों को लंबित कर रखा है। 

कमलनाथ ने अपने पत्र में चुन-चुनकर बीजेपी की मदद करने वाले अफसरों को नियम विरूद्ध और चुनाव आयोग की अनुमति के बिना उपचुनाव वाले क्षेत्रों में उनकी पदस्थापना का आरोप भी लगाया है। उन्होंने बताया है कि चुनाव आयोग के निर्देश पर 12 डिप्टी कलेक्टरों के तबादले की एक सूची को निरस्त किया गया था। लेकिन बाद में नौ अफसरों को उन जिलों में पदस्थ करने संबंधी आदेश जारी हो गये, जहां उपचुनाव हो रहे हैं। 

कमलनाथ ने संकेतों में कहा है, ‘मध्य प्रदेश में स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव होने की संभावनाएं पूरी तरह से धूमिल हो गई हैं। सरकार के इशारे पर हो रहे पक्षपात ने समूचे चुनाव की गरिमा को तार-तार कर दिया है।’

कमलनाथ ने स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव के लिए हस्तक्षेप और ठोस व्यवस्थाएं करने की मांग भी अपने पत्र में मुख्य चुनाव आयुक्त अरोड़ा से की है।

‘सीधा धावा’ बोला

मुख्य चुनाव आयुक्त को पत्र के अलावा कमलनाथ ने शिवराज सरकार और बीजेपी पर सीधा राजनीतिक हमला भी बोला है। उन्होंने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘उपचुनाव में आसन्न नजर आ रही करारी हार और सरकार जाने के भय से बीजेपी फिर कांग्रेस के विधायकों की खरीद-फरोख़्त पर आमादा हो गई है।’

कमलनाथ ने दावा किया है कि कांग्रेस के विधायकों को बीजेपी के लोग फोन कर रहे हैं और बीजेपी ने खरीद बाजार सजा डाला है। कांग्रेस छोड़ने के लिए बड़े-बड़े अमाउंट के आफर दिये जा रहे हैं। 

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा, ‘इस साल मार्च के महीने में भी इस तरह की सौदेबाजी हुई थी, मैं भी सौदेबाजी कर सकता था लेकिन मैं यह नहीं करूंगा और न एमपी में होने दूंगा। एमपी को पूरे देश में कलंकित किया जा रहा है।’

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

कमलनाथ ने कहा कि 10 नवंबर के बाद 11 नवंबर की तारीख भी आएगी और सभी को इस बात का ध्यान रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि हम उदाहरण देना चाहते हैं कि प्रदेश में कांग्रेस बिकाऊ राजनीति नहीं करती है। 

पार्टी विधायक राहुल लोधी के कांग्रेस छोड़ने पर पूर्व सीएम ने कहा कि तीन दिन पहले तक वह मुझसे बात कर रहे थे। पार्टी के पक्ष में चुनावी सभाएं कर रहे थे, लेकिन बीजेपी नेताओं के प्रलोभन में आ गए। यहां बता दें कि मार्च से लेकर अब तक कांग्रेस छोड़ने वाले विधायकों की संख्या 27 हो चुकी है। 

हार से बौखला गये हैं कमलनाथ: बीजेपी

मध्य प्रदेश बीजेपी के प्रवक्ता रजनीश अग्रवाल ने ‘सत्य हिन्दी’ से कहा कि उपचुनाव में सूपड़ा साफ होता दिखाई पड़ने पर कमलनाथ बौखला गये हैं। चुनाव आयोग के अधीन नियम और कायदों के तहत काम कर रहे अफसरों पर पार्टी बनने का आरोप लगाया जाना कमलनाथ और कांग्रेस की खीझ का परिचायक है। चूंकि सरकारी मशीनरी पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह के षड्यंत्रों के तहत काम नहीं कर रही है, लिहाजा कांग्रेस और कमलनाथ ज्यादा बौखलाये हुए हैं।

कांग्रेस के विधायकों की खरीद-फरोख्त से जुड़े प्रश्न के जवाब में अग्रवाल ने कहा, ‘बड़े-बड़े लोग, बड़ी-बड़ी बात कर रहे हैं। खरीदी-बिक्री करते रहने वाले लोग बीजेपी को कठघरे में खड़ा कर रहे हैं।’ 

अग्रवाल ने कहा, ‘कांग्रेस में लड़ाई राहुल और कमलनाथ के बीच की है। चूंकि कमलनाथ को उपचुनाव के नतीजों के बाद प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष और विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष का पद अपने हाथों से जाता साफ नज़र आ रहा है, लिहाजा विधायकों के टूटने का ठीकरा वे बीजेपी के सिर फोड़ने लग गये हैं। सच यह है कि क्षेत्र के विकास के लिए कांग्रेस के विधायक स्वेच्छा से बीजेपी में आ रहे हैं।’

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें