loader

एमपी: बाग़ी विधायकों के लिए दिग्विजय का ‘गद्दार रेट कार्ड’ 

मध्य प्रदेश विधानसभा की 28 सीटों के लिए हो रहे उपचुनाव में कांग्रेस ने ‘टिकाऊ बनाम बिकाऊ’ को अपना मुख्य चुनावी हथियार बना रखा है। उपचुनाव के लिए प्रचार अब चरम पर है। तमाम सियासी दांव-पेच के बीच पूर्व मुख्यमंत्री और वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कांग्रेस छोड़कर ज्योतिरादित्य सिंधिया के साथ बीजेपी का दामन थाम लेने वाले पूर्व विधायकों पर जोरदार हमला बोला है। 

दिग्विजय सिंह ने शनिवार सुबह अपनी फ़ेसबुक वाॅल पर 18 पूर्व विधायकों के फोटो के साथ कथित रेट लिस्ट डाली है। ये वे पूर्व विधायक हैं जिन्होंने मार्च और इसके बाद में कांग्रेस का साथ छोड़कर सिंधिया के साथ होते हुए बीजेपी का दामन थाम लिया था। 

इन पूर्व विधायकों के कांग्रेस पार्टी छोड़ देने से मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार गिर गई थी। नाथ की सरकार जाने के बाद शिवराज सिंह चौहान की अगुवाई में बीजेपी की सत्ता में वापसी हो गई थी।

ताज़ा ख़बरें

विधायकों को बताया गद्दार 

दिग्विजय सिंह ने अपनी फ़ेसबुक वाॅल पर कांग्रेस के बाग़ी विधायकों को गद्दार करार देते हुए ‘गद्दार रेट कार्ड’ जारी किया है। रेट कार्ड में हरेक विधायक के 35 करोड़ रुपये में बिकने का दावा दिग्विजय सिंह ने किया है। हरेक विधायक को विधानसभा के 2018 के चुनाव में मिले वोटों का उल्लेख भी दिग्विजय सिंह ने फ़ेसबुक वाॅल पर डाले गये ब्यौरे में किया है। कुल मिले वोटों से 35 करोड़ की कथित मिली हुई राशि को डिवाइड किया गया है। 

डिवाइड करने के बाद आये आंकड़े का उल्लेख दिग्विजय सिंह ने हरेक संबंधित पूर्व विधायक के ब्यौरे के साथ किया है। यहां बता दें कि ये वे विधायक हैं, जिन्हें बीजेपी ने उपचुनाव के लिए टिकट दिया हुआ है। कांग्रेस के ये बाग़ी विधायक अब उपचुनाव के लिए बीजेपी के झंडे तले चुनाव मैदान में हैं। 

अपना हिस्सा लें मतदाता

पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने तमाम ब्यौरे के साथ फ़ेसबुक वाॅल पर लिखा है, ‘लोकतंत्र के बही खाते में जो लोग कांग्रेस से गद्दारी कर 35-35 करोड़ रुपये में बिके, जिन लोगों ने उन्हें वोट दिए - मिली राशि में से वोट देने वालों को उनका हिस्सा देना चाहिए। जब तक वोट देने वाले को 35 करोड़ में से उनका हिस्सा ना मिले, तब तक उन्हें (गद्दार विधायकों को) दोबारा वोट नहीं देना चाहिए।

MP by election 2020 congress attacks party rebels  - Satya Hindi
दिग्विजय सिंह द्वारा जारी बाग़ी विधायकों के रेट कार्ड।
MP by election 2020 congress attacks party rebels  - Satya Hindi
दिग्विजय सिंह द्वारा जारी बाग़ी विधायकों के रेट कार्ड।

 दिग्विजय सिंह ने फ़ेसबुक वाॅल पर दिये हैं- इन पूर्व विधायकों के नाम।

सुरेश राठखेड़ा (पोहरी सीट), रणवीर जाटव (गोहद सीट), रक्षा संतराम सिरोनिया (भांडेर सीट), प्रभुराम चौधरी (सांची सीट), मुन्नालाल गोयल (ग्वालियर ईस्ट सीट), मनोज चौधरी (हाटपिपल्या सीट), सुमित्रा कास्देकर (नेपानगर सीट), प्रद्युम्न सिंह लोधी (मलेहरा सीट), नारायण पटेल (मांधाता), राज्यवर्धन सिंह (बदनावर सीट), तुलसी राम सिलावट (सांवेर सीट), बिसाहूलाल सिंह (अनूपपुर सीट), महेन्द्र सिंह सिसोदिया (बम्होरी सीट), गिरिराज दंडोतिया (दिमनी सीट), हरदीप सिंह डंग (सुवासरा सीट), प्रद्युम्न सिंह तोमर (ग्वालियर), जसवंत जाटव (करेरा सीट) और गोविंद सिंह राजपूत (सुरखी सीट)। 

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

मध्य प्रदेश कांग्रेस के तमाम आरोप और सियासी दांव-पेच को लेकर शिवराज सरकार में गृह मंत्री और बीजेपी के वरिष्ठ नेता नरोत्तम मिश्रा कहते हैं, ‘कांग्रेस के पास मुद्दे नहीं हैं। बे-फिजूल की बातें करते हुए कांग्रेस केवल और केवल मूल मुद्दों पर से ध्यान हटाती है। विकास पर बात नहीं करना चाहती।’

मिश्रा ने कहा, ‘कमलनाथ के मुख्यमंत्रित्व काल में वल्लभ भवन दलाली का बड़ा अड्डा रहा। लोग 15 माह के उनके शासन से हलकान रहे। उन्हीं के लोगों ने सरकार को गिराया। जनता आज राहत में है। दीवाली 14 को है, लेकिन मध्य प्रदेश में असली दीवाली 10 नवंबर (उपचुनाव के नतीजे आयेंगे) वाले दिन ही हो जायेगी।’

मिश्रा ने तंज कसते हुए कहा, ‘आप भी रहियेगा और हम भी, उपचुनाव के नतीजों के बाद कमलनाथ दिल्ली उड़ जायेंगे।’

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें