loader

एमपी: गलवान घाटी में शहीद हुआ 21 साल का जवान, 8 माह पहले हुई थी शादी

मध्य प्रदेश के रीवा शहर की मनगवाँ तहसील के फरहेदा गाँव में मातम है। इस गाँव का 21 साल का वीर सपूत सोमवार और मंगलवार की दरमियानी रात गलवान घाटी में चीनी सैनिकों के साथ हुई भारतीय सैनिकों की मुठभेड़ में शहीद हो गया। आठ महीने पहले इस जवान की शादी हुई थी। आज जवान का पार्थिव शरीर फरहेदा पहुँचेगा।

ताज़ा ख़बरें

मध्य प्रदेश के शहीद हुए जवान का नाम दीपक सिंह है। गजराज सिंह उनके पिता हैं। गलवान घाटी के निकट दीपक बिहार रेजिमेंट में तैनात थे। मंगलवार को जैसे ही चीनी सैनिकों से भारतीय सैनिकों की मुठभेड़ और उसमें हमारे कई जवानों के मारे जाने की सूचना आयी थी तभी दीपक का पूरा का पूरा परिवार चिंतित और आशंकित हो गया था।

सैन्य अधिकारियों ने चीनी सैनिकों से मुठभेड़ में दीपक के शहीद होने की सूचना पिता गजरात सिंह को दी तो पूरे परिवार पर गमों का पहाड़ टूट पड़ा। पूरे क्षेत्र में मातम छा गया। दीपक अपने परिवार में सबसे छोटे थे।

पिता बोले- सिर सम्मान से ऊँचा कर दिया 

दीपक की शादी नवंबर 2019 में हुई थी। उनके विवाह को अभी आठ महीने भी पूरे नहीं हुए हैं। दीपक अंतिम बार मार्च में होली मनाने घर आये थे। पिता ने नम आँखों से कहा, ‘किसी को क्या पता था कि अब दीपक शहीद होकर तिरंगे में लिपटकर घर वापस आएगा। दिल भारी है, लेकिन बेटे ने सिर सम्मान से ऊँचा कर दिया।’

mp youth martyred in ladakh galwan valley clash with chinese troops - Satya Hindi

भाई थे दीपक के रोल माॅडल

शहीद दीपक के रोल माॅडल बड़े भाई प्रकाश सिंह थे। प्रकाश भी सेना में हैं। सीमा पर तैनात प्रकाश से प्रेरित होकर ही दीपक ने भी सेना ज्वाइन की थी। शहीद दीपक सिंह मिलनसार स्वभाव के थे। उनके भाई को भी दीपक की शहादत की सूचना दे दी गई है।

सूचनाओं के अनुसार दीपक का पार्थिव शरीर विभागीय कार्यवाही पूरी करने के बाद गृह गाँव के लिए रवाना हुआ। अधिकारियों ने पिता गजराज सिंह को बताया कि दीपक के पार्थिव शरीर को लेह में रखा गया है। उसे गुरुवार को रीवा लाया जाएगा। यहाँ से उसे उनके गांव फरेहदा ले जाया जाएगा, जहां उनका राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार होगा।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

उनकी शहादत पर मुख्यमंत्री शिवराज ने श्रद्धांजलि दी। उन्होंने ट्वीट किया-

‘तूने सींचा है अपने लहू से वतन की मिट्टी को

वीरों की इस मिट्टी पर हम अभिमान करते हैं।

ऐ मेरे वतन के शेर तेरे जाने से चीत्कार रहा दिल  

तेरे लहू के हर कतरे, तेरी शहादत को सलाम करते हैं।

भारत-चीन की झड़प में शहीद हुए रीवा के वीर सपूत दीपक सिंह के चरणों में विनम्र श्रद्धांजलि।’

बता दें कि लद्दाख की गलवान घाटी में भारत और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए हैं। भारतीय सेना ने इसकी पुष्टि की है। इनमें एक आर्मी अफ़सर भी शामिल हैं। यह झड़प सोमवार यानी 15 जून की रात को हुई थी। झड़प के दौरान पत्थरों, धातु के टुकड़ों का इस्तेमाल दोनों ओर से किया गया लेकिन गोली नहीं चली है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें