loader

जाने-माने शायर राहत इंदौरी का निधन, कोरोना से संक्रमित थे

देश-दुनिया के मुशायरों और कवि सम्मेलन मंचों की बरसों-बरस शान और जान रहे ख्याति नाम शायर राहत इंदौरी (70 वर्ष) का मंगलवार को इंदौर में निधन हो गया। वे कोरोना वायरस से पीड़ित थे। तीन दिन पहले वे कोरोना से संक्रमित मिले थे। इसके बाद उन्हें इंदौर के अरबिंदो अस्पताल में भर्ती कराया गया था। मंगलवार शाम को उन्होंने अंतिम सांस ली। रात को उन्हें सुपुर्द-ए-खाक कर दिया गया। 

राहत इंदौरी को सांस की बीमारी थी। इसके अलावा उन्हें हाई शुगर, हाई ब्लड प्रेशर और हार्ट की भी समस्या थी। तमाम बीमारियों के बावजूद वे सक्रिय रहा करते थे उन्होंने कभी बीमारियों को अपने जुदा अंदाज के आड़े नहीं आने दिया।

मध्य प्रदेश व इंदौर में कोरोना संक्रमण फैलने के बाद से अलबत्ता उन्होंने स्वयं को घर में कैद कर लिया था। करीब चार महीने से वे घर से नहीं निकले थे। पिछले चार-पांच दिनों से उन्हें सांस से जुड़ी तकलीफ बढ़ गई थी और निमोनिया हुआ था।

ताज़ा ख़बरें
तकलीफ बढ़ने के बाद राहत साहब ने कोरोना का टेस्ट भी कराया था। टेस्ट में वे पाॅजिटिव पाये गये थे। इसके बाद उन्होंने अस्पताल की शरण ली थी। कोरोना होने की ख़बर आने के बाद राहत इंदौरी के फैन्स बेहद मायूस हुए थे। राहत साहब ने अस्पताल से ट्वीट करते हुए प्रशंसकों से अपील की थी कि सब उनके जल्दी ठीक होने के लिए दुआ करें। 

राहत इंदौरी को मंगलवार दोपहर को हार्ट अटैक आया। डाॅक्टरों ने उन्हें दवाएं दीं। कुछ देर के लिए वे ठीक हुए और उसके बाद शाम होते-होते एक के बाद एक करके दो और अटैक उन्हें आये। तीसरे अटैक के बाद वे जीवन से हार गये।

राहत साहब इंदौर के अनूप नगर में रहते थे। उनके दो बेटे हैं। एक शायर हैं और दूसरे बैंक में कार्यरत हैं। राहत साहब के निधन की सूचना आते ही देश और दुनिया के उनके प्रशंसकों में शोक की लहर दौड़ गई।

अहसास हो गया था राहत साहब को

राहत साहब का करीब 40 वर्षों से इलाज कर रहे डाॅक्टर विनोद भंडारी ने मीडिया को बताया कि राहत साहब के फेफड़े दो दिन पूर्व अस्पताल में भर्ती होने पर की गई जांच में 60 प्रतिशत निमोनियाग्रस्त मिले थे। बाद में उनकी कोविड-19 की रिपोर्ट पाॅजिटिव आयी थी।

डाॅक्टर भंडारी के अनुसार राहत इंदौरी को अहसास हो गया था कि शायद वे अब बच नहीं पायेंगे। वे बार-बार इस बात के संकेत उपचार के दौरान देते रहे थे।

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

...बाप का हिन्दुस्तान थोड़े ही है’

राहत साहब ने अनेक फिल्मों में गीत लिखे। भूमरो-भूमरो, श्याम रंग भूमरो जैसा गीत भी उन्होंने ही लिखा। अपने खास अंदाज की शायरी में उनकी ख्यातिनाम बंदों की फेहरिस्त बेहद लंबी है। ऐसे ही बंदों में से एक ‘सभी का खून शामिल है यहां की मिट्टी में किसी के बाप का हिन्दुस्तान थोड़े ही है...।’ बेहद मशहूर है।

राहत इंदौरी के साथ सैकड़ों बार मंच शेयर करने वाले कवि कुमार विश्वास ने मंगलवार दोपहर को एक ट्वीट करते हुए कहा था, ‘कोरोना गलत शख्स से भिड़ गया है, अब कोरोना को मालूम पड़ेगा।’ कुमार विश्वास का ‘विश्वास’ सही साबित नहीं हो पाया और कोरोना ने राहत इंदौरी साहब को हरा दिया।

राहत इंदौरी का जन्म इंदौर में 1 जनवरी, 1950 को हुआ था। उनकी शुरुआती शिक्षा नूतन स्कूल, इंदौर में हुई थी और इसलामिया करीमिया कॉलेज, इंदौर से 1973 में स्नातक की पढ़ाई पूरी की थी। इंदौरी साहब ने 1975 में बरकतउल्लाह विश्वविद्यालय, भोपाल से उर्दू साहित्य में एमए किया था। 

शायरी के अलावा राहत इंदौरी अपनी गजलों के लिए भी जाने जाते थे। डाॅ. राहत इंदौरी के शेर व्यवस्था को आइना भी दिखाते हैं। एक शेर में वह कहते हैं- तूफ़ानों से आंख मिलाओ, सैलाबों पर वार करो, मल्लाहों का चक्कर छोड़ो, तैर के दरिया पार करो। एक दूसरे शेर में वह कहते हैं- हम से पहले भी मुसाफ़िर कई गुज़रे होंगे, कम से कम राह के पत्थर तो हटाते जाते। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें