loader

मध्य प्रदेश: शिवराज-कमलनाथ अब शिवाजी महाराज की प्रतिमा पर करेंगे राजनीति?

छत्रपति शिवाजी महाराज के नाम पर महाराष्ट्र में तो अब तक ख़ूब राजनीति होती रही है, लेकिन अब उनके नाम पर मध्य प्रदेश में भी राजनीति तेज़ हो गई है। मुख्यमंत्री कमलनाथ के गृह ज़िले छिंदवाड़ा में शिवाजी महाराज की प्रतिमा पर बीजेपी नेता और कांग्रेस नेता में जंग छिड़ी है। हाल ही में शिवाजी महाराज की प्रतिमा लगाई गई तो नगरपालिका ने इसे हटा दिया। जब राजनीति गरमाई तो कमलनाथ के बेटे नकुलनाथ ने ख़ुद के पैसे से प्रतिमा लगाने की बात कह दी। लेकिन इनके आश्वासन के बाद ठंडे पड़ते इस मुद्दे को मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने नये सिरे से हवा दे दी। इससे लगता है कि शिवाजी महाराज के नाम पर जिस तरह से पार्टियाँ महाराष्ट्र में सरकार बनाने और गिराने की कोशिश में रहती हैं कुछ वैसा ही अब मध्य प्रदेश में तो नहीं होने लगेगा?

ताज़ा ख़बरें

दरअसल, मामला यह है कि छिंदवाड़ा ज़िले के सौंसर ब्लाॅक में 12 फ़रवरी को मोहगाँव चौक पर शिवाजी महाराज की प्रतिमा स्थापित की गई थी। शिवसेना, अन्य संगठन और स्थानीय लोग इस कार्य में शामिल रहे थे। स्थापना के बाद प्रतिमा को रातों-रात नगर पालिका प्रशासन ने जेसीबी मशीन से हटवा दिया था। दिलचस्प तथ्य यह था कि क़रीब चार दिनों तक प्रतिमा की स्थापना के लिए स्ट्रक्चर खड़ा करने का काम चला था।

बहरहाल, स्थापना के बाद जेसीबी मशीन से प्रतिमा को हटा दिए जाने पर राजनीति गरमा गई थी। प्रतिमा की स्थापना करने वालों ने अगले दिन छिंदवाड़ा-नागपुर हाइवे को जाम किया था। छिंदवाड़ा से लेकर भोपाल और मध्य प्रदेश के साथ ही पड़ोसी राज्य महाराष्ट्र से भी बयानबाज़ी हुई थी। छत्रपति शिवाजी महाराज के अनुयाइयों ने कमलनाथ सरकार की जमकर आलोचना की थी।

मसले के तूल पकड़ते ही मुख्यमंत्री कमलनाथ और छिंदवाड़ा से कांग्रेस सांसद उनके बेटे नकुल नाथ हरकत में आए थे। मामले को ठंडा करने के लिए नकुलनाथ ने तो यहाँ तक एलान कर दिया था कि अपने ख़र्चे पर वह नये सिरे से शिवाजी महाराज की प्रतिमा की स्थापना करायेंगे। नकुलनाथ ने 19 फ़रवरी को शिवाजी महाराज की प्रतिमा की स्थापना के लिए सौंसर में भव्य समारोह के आयोजन की घोषणा भी कर रखी है।

सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को सरकार पर हमला किया। वह सड़क मार्ग से भोपाल से छिंदवाड़ा पहुँचे। रास्ते भर उन्होंने सभाएँ कीं। कमलनाथ सरकार को जमकर कोसा। सौंसर में शिवराज ने पैदल मार्च करने के साथ ही जनसभा की।

जनसभा में शिवराज ने कांग्रेस को कठघरे में खड़ा करते हुए कहा कि महापुरुषों का अपमान करना कांग्रेस का शगल बन गया है, कभी आज़ाद की प्रतिमा का अपमान करते हैं तो कभी वीर सावरकार का अपमान किया जाता है। उन्होंने कहा कि आम्बडेकर का अपमान तो कांग्रेस लगातार कर रही है। जनसभा में शिवराज ने यह भी कहा, ‘छत्रपति शिवाजी महाराज का तुम अपमान करते रहो और हम चुप बैठे रहें, यह हो नहीं सकता। कमलनाथ जी, ज़रूरत पड़ी तो अपने महापुरुषों के सम्मान में अपना ख़ून भी दे देंगे।’

शिवराज ने नकुलनाथ को अपने ख़र्च पर प्रतिमा की स्थापना संबंधी बयान पर निशाने पर लेते हुए कहा, ‘पहले तो मूर्ति गिराकर छत्रपति शिवाजी महाराज का अपमान किया गया और उसके बाद पैसों का दम्भ भरा गया। सौंसर की जनता में इतना सामर्थ्य है कि वे जनभागीदारी से प्रतिमा को ससम्मान पुनः स्थापित कर सकें।’ शिवराज ने सवाल खड़ा करते हुए कहा, ‘शिवाजी महाराज की प्रतिमा लगवाना ही थी तो गिरवाई क्यों?’

मध्य प्रदेश से और ख़बरें

पांढुर्ना में भी शिवाजी की प्रतिमा लगाएंगे: नकुल

छिंदवाड़ा सांसद नकुलनाथ ने शनिवार सुबह ट्वीट करके कहा कि, ‘सौंसर की तरह पांढुर्ना शहर के अंबिका चौक पर भी छत्रपति शिवाजी महाराज की प्रतिमा की स्थापना की जाएगी।’ नकुलनाथ ने शुक्रवार को शिवराज सिंह चौहान पर वीर शिवाजी के नाम पर राजनीति करने का आरोप लगाया था। देखना है कि अब यह राजनीति यहीं थमती है या और तूल पकड़ती है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें