loader

सुप्रीम कोर्ट : चुनाव आयोग नहीं तय कर सकता स्टार प्रचारक

ऐसे समय जब चुनाव आयोग की निष्पक्षता पर कई बार सवाल उठ चुके हैं, सुप्रीम कोर्ट ने उसे कड़ी फटकार लगाई है। सर्वोच्च न्यायाल ने कांग्रेस नेता कमलनाथ को मध्य प्रदेश उपचुनाव में 'स्टार प्रचारक' के पद से हटाने के चुनाव आयोग के फ़ैसले पर रोक लगा दी है।
 इसके साथ ही उसने चुनाव आयोग से पूछा है, “किसी को पार्टी के स्टार प्रचारक की सूची से हटाने वाले आप कौन होते है? यह फ़ैसला आप करेंगे या पार्टी का नेता करेगा?”
याद दिला दें कि एक के बाद कई विवादास्पद बयान देने के बाद चुनाव आयोग ने 30 अक्टूबर को कमलनाथ को मध्य प्रदेश उपचुनावों में कांग्रेस पार्टी के 'स्टार प्रचारक' के पद से हटा दिया था। आयोग ने कहा था कि कमलनाथ ने चुनाव आचार संहिता का कई बार उल्लंघन किया है।
ख़ास ख़बरें
सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश जस्टिस एस. ए. बोबडे ने कहा, 

“आपको यह हक़ कहां से मिला है कि आप किसी राजनीतिक दल के नेता का निर्धारण कर सकें? यह आप तय करेंगे या पार्टी तय करेगी कि उसका स्टार प्रचारक कौन होगा?”


जस्टिस एस. ए. बोबडे, मुख्य न्यायाधीश

विवादों में कमलनाथ

कमलनाथ ने इसके पहले भारतीय जनता पार्टी की उम्मीदवार इमरती देवी को 'आइटम' कह दिया था, जिस पर आयोग ने उन्हें नोटिस दिया था। मध्य प्रदेश के इस पूर्व मुख्यमंत्री ने डाबरा में कांग्रेस उम्मीदवार का प्रचार करते हुए कहा था कि वह तो सीधे-साधे हैं जबकि उनकी विरोधी 'आइटम' हैं। 
इसके पहले इमरती देवी ने कमलनाथ पर निशाना साधते हुए कहा था, “कमलनाथ अपनी सरकार को बनाए रखने के लिए कांग्रेस के अनेक सक्रिय और जुझारू विधायकों को पांच लाख रुपये महीना दिया करते थे। विधायकों को यह राशि अपना मुंह बंद रखने के लिए दी जाती थी।”
supreme court slams election commission on removing kamalnath from star campaigner lists - Satya Hindi
कमलनाथ सरकार में महिला एवं बाल विकास विभाग की मंत्री रहीं इमरती देवी विशुद्ध रूप से ज्योतिरादित्य सिंधिया की समर्थक हैं। कमलनाथ की सरकार को गिराने के लिए जिन मंत्रियों ने कांग्रेस विधायक पद से इस्तीफे दिये थे, उनमें इमरती देवी भी ऊपरी पायदान पर रहीं थीं। बाद में वे तमाम साथी विधायकों के साथ कांग्रेस को छोड़कर बीजेपी में शामिल हो गई थीं।
 इमरती देवी की गिनती बेहद तेज-तर्रार नेताओं में होती है। वे अनुसूचित जाति वर्ग से हैं। अनेक बार अपने अटपटे बयानों को लेकर सुर्खियों में रही हैं, या यूं भी कह सकते हैं कि उनके बयानों पर बवाल होते रहते हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें