loader

ऐसी नफ़रत! 3 के हाथ-पैर तोड़े और ट्रैक्टर से कुचला

इतनी नफ़रत! पहले दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। हाथ-पैर और पसलियाँ तोड़ डालीं। फिर ट्रैक्टर से बांधा। क़रीब आधा किलोमीटर घसीटा। यही नहीं, ट्रैक्टर से उन्हें बार-बार रौंदा। मौत होने तक। एक नहीं, तीन को मौत के घाट उतारा। और आरोपी? आरोपी तो ख़ुद ट्रैक्टर चलाकर थाने पहुँच गया घटना की जानकारी देने के लिए।

विवाद मामूली ज़मीन का था। मृतक और हत्या के आरोपी क़रीबी रिश्तेदार चचेरे भाई ही हैं। लेकिन जब नफ़रत हावी हुई तो अमानवीयता की सारी हदें लाँघ दीं।

ख़ास ख़बरें

घटना मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से लगे होशंगाबाद ज़िले की है। एक ही परिवार के तीन लोगों की बर्बरता से हत्या कर दी गई। ज़मीन के विवाद को लेकर हत्या करने वाले मृतकों के परिवार के क़रीबी रिश्तेदार हैं। पुलिस ने कुल 10 लोगों के ख़िलाफ़ हत्या का केस दर्ज करते हुए सात लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार वारदात होशंगाबाद ज़िले की सिवनी मालवा तहसील से 20 किलोमीटर दूर आयपा गाँव की है। ज़मीन को लेकर विवाद हुआ। राजेन्द्र सिंह, कुंअर सिंह और उनके पिता बालाराम ने 15 दिन पहले आधा एकड़ ज़मीन खरीदी थी। इसी ज़मीन से लगी अन्य आधा एकड़ ज़मीन का सौदा भी बालाराम परिवार ने कर लिया था। अगले 15 दिनों में दूसरी ज़मीन भी वे खरीदने वाले थे। 

इसी गाँव में रहने वाले चचेरे भाई अनवर यदुवंशी को भाइयों द्वारा सौदा करना रास नहीं आया था। असल में ख़रीदी गई ज़मीन अनवर के घर के पीछे थी। अनवर स्वयं ज़मीन को खरीदने का इच्छुक था। उसने भाइयों के सामने अपनी इच्छा का इजहार भी कर दिया था। मगर सौदा करने में भाई पीछे नहीं रहे थे।

पुलिस के अनुसार, अनवर ने शनिवार को अपने साथियों को लेकर बालाराम के परिवार पर हमला बोल दिया। राजेन्द्र, कुंअर और बालाराम को अनवर एवं उसके साथियों ने पहले तो दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, तीनों के हाथ-पैर और पसलियाँ तोड़ डालीं।

बाद में अनवर ने तीनों को अपने ट्रैक्टर से बांधा और घसीटते हुए क़रीब आधा किलोमीटर दूर स्थित अपने घर ले आया। भनक लगने पर बालाराम की पत्नी और उनका पोता आयुष मौक़े पर पहुँचा तो आरोपियों ने इन्हें भी जमकर पीटा। कोई बीच-बचाव के लिए नहीं आया। पिटाई से सभी बेसुध हो गये।

ख़ुद आरोपी ने पुलिस को बताया

अनवर और उसके साथी यहीं पर नहीं रुके। अनवर ने अपना ट्रैक्टर कुंवर सिंह, राजेन्द्र सिंह और आयुष पर कई मर्तबा चढ़ा दिया। तीनों की मौक़े पर ही मौत हो गई। बाद में ट्रैक्टर चलाकर अनवर सिवनी मालवा थाने पहुँच गया। पूरी घटना की जानकारी पुलिस को उसने दी।

इसके बाद पुलिस हरकत में आयी। मौक़े पर पहुँची। क्षत-विक्षत शव सड़क पर मिले। पुलिस ने इन्हें अपने कब्जे में लिया। बुरी तरह जख्मी बालाराम और उसकी पत्नी को अस्पताल पहुँचाया।

पुलिस ने अनवर समेत कुल 10 लोगों के ख़िलाफ़ हत्या और अन्य धाराओं में अपराध दर्ज किया है। आरोपियों में तीन महिलाएँ भी शामिल हैं। सात लोगों को अब तक गिरफ्तार किया गया है।

ग्रामीणों ने साधी चुप्पी

बताया गया है कि पूरे घटनाक्रम को कई लोगों ने देखा। बावजूद इसके मामले को लेकर कोई कुछ बोलने को तैयार नहीं है। सभी ने चुप्पी साध रखी है। दरअसल, अनवर और उसके साथियों का गाँव में ख़ासा खौफ है। इसी वजह से कोई चश्मदीद सामने नहीं आ रहा है। पुलिस पूरे मामले की बारीकी से छानबीन कर रही है।

होशंगाबाद एसपी संतोष सिंह गौर का कहना है कि दोनों परिवारों में रंजिश हाल ही में हुई है। ज़मीन खरीदी का विवाद है। चूँकि कोई रिपोर्ट पहले नहीं हुई, लिहाजा पुलिस ने कोई हस्तक्षेप नहीं किया।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजीव श्रीवास्तव
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मध्य प्रदेश से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें