loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

महाराष्ट्र: गढ़चिरौली में पुलिस मुठभेड़ में 26 माओवादी मारे गए

महाराष्ट्र में शनिवार को पुलिस के साथ मुठभेड़ में कम से कम 26 माओवादी मारे गए हैं। पुलिस का कहना है कि मारे गए माओवादियों की पहचान अब तक नहीं हो सकी है। मुठभेड़ तब हुई जब पुलिस कमांडो की टीम जंगलों में तलाशी अभियान चला रही थी। 

घटना मुंबई से क़रीब 900 किलोमीटर दूर गढ़चिरौली ज़िले में हुई। वह क्षेत्र छत्तीसगढ़ सीमा क्षेत्र से लगा है। इस मामले में अधिकारियों ने पहले कहा था कि कार्रवाई में चार पुलिस कर्मी भी गंभीर रूप से घायल हो गए और उन्हें इलाज के लिए हेलीकॉप्टर से नागपुर ले जाया गया। घायल पुलिसकर्मियों की पहचान रविंद्र नैतम, सर्वेश्वर अतराम, महरू कुदमेठे और टीकाराम कटांगे के रूप में हुई है।

ताज़ा ख़बरें

पीटीआई की रिपोर्ट के अनुसार, ज़िला पुलिस अधीक्षक अंकित गोयल ने कहा है कि जंगल से अब तक 26 नक्सलियों के शव बरामद किए गए हैं। उन्होंने कहा कि मुठभेड़ सुबह मर्दिनटोला वन क्षेत्र के कोरची में तब हुई जब सी-60 पुलिस कमांडो की एक टीम अतिरिक्त एसपी सौम्या मुंडे के नेतृत्व में तलाशी अभियान चला रही थी।

पुलिस ने दावा किया है कि गढ़चिरौली पुलिस के लगभग 100 इलीट सी-60 कमांडो ने ऑपरेशन को अंजाम दिया, लेकिन 'द इंडियन एक्सप्रेस' ने सूत्रों के हवाले से ख़बर दी है कि सी-60 कमांडो के 16 दल थे जिनकी कुल संख्या 500 से अधिक थी।

रिपोर्ट में कहा गया है कि पुलिस को जंगल में माओवादियों के डेरा डाले जाने की पूर्व जानकारी थी। सूत्रों के हवाले से कहा गया है, 'समूह में मुख्य रूप से सीपीआई (माओवादी) की गढ़चिरौली मंडल समिति के सदस्य सुखलाल के नेतृत्व में कोरची दलम के सदस्य शामिल थे। लेकिन इसमें किसी और संगठन के सदस्य भी रहे होंगे।' 

रिपोर्ट में कहा गया है कि मुठभेड़ लंबी चली थी और माना जाता है कि माओवादियों ने कड़ा प्रतिरोध किया।

एक अन्य रिपोर्ट में कहा गया है कि अधिकारी ने कहा कि प्रारंभिक सूचना के अनुसार नक्सलियों ने पुलिस कर्मियों पर गोलीबारी की थी जिसके बाद पुलिस ने भी जवाबी कार्रवाई की। रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि मारे गए लोगों में एक शीर्ष विद्रोही नेता के शामिल होने का संदेह है।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

पुलिस अधिकारी ने कहा है कि कुछ दिन पहले यहां से पुलिस ने 2 लाख के इनामी माओवादी मंगारु मांडवी को गिरफ्तार किया था। नक्सली मंगारु पर हत्या और पुलिस पर हमला करने के कई केस दर्ज हैं।

बता दें कि इससे पहले एक बार गढ़चिरौली में ऐसे अभियान में इससे ज़्यादा संख्या में माओवादी मारे गए थे। 23 अप्रैल, 2018 को गढ़चिरौली पुलिस ने दो अलग-अलग झड़पों में 40 माओवादियों को मार गिराया था। तब जहाँ एटापल्ली तहसील के बोरिया-कास्नासुर इलाक़े में जहां 34 माओवादी मारे गए थे, वहीं एक ही समूह के छह लोगों को अहेरी तहसील में कथित तौर पर फरार होने के दौरान मार गिराया गया था। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें