loader

अंबानी मामला: चोरी की है कार, चिठ्ठी में लिखा- 'ये तो ट्रेलर था'

देश के सबसे अमीर व्यक्ति मुकेश अंबानी के घर एंटीलिया के पास से मिली संदिग्ध कार मामले में बड़ा खुलासा हुआ है। मुंबई क्राइम ब्रांच की जांच में यह बात सामने आई है कि अंबानी के घर के पास जिस स्कॉर्पियो कार से जिलेटिन की छड़ें बरामद हुई थीं, वह चोरी की है। इस कार को मुंबई से सटे विक्रोली से 8 दिन पहले चोरी किया गया था। 

मुंबई क्राइम ब्रांच अब आरटीओ की मदद से इस गाड़ी के मालिक तक पहुंचने की कोशिश कर रही है। 

ताज़ा ख़बरें

सीसीटीवी से मिलेगा सुराग

जैसे-जैसे मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच की जांच आगे बढ़ रही है वैसे-वैसे इस मामले में एक के बाद एक कई खुलासे होते जा रहे हैं। इस स्कॉर्पियो  कार की एक सीसीटीवी फुटेज भी सामने आई है जिसमें बुधवार-गुरुवार की रात को एक बजे के करीब एक शख्स को गाड़ी को पार्क करते हुए देखा गया था। 

सीसीटीवी में यह भी बात सामने आई है कि कार का ड्राइवर कार पार्क करने के 2 घंटे तक कार में ही बैठा रहा था। इससे पहले इस कार को हाजी अली के सिग्नल पर भी देखा गया था और वहां भी यह कार पार्किंग में खड़ी देखी गई थी। क्राइम ब्रांच की अभी तक की जांच में यह बात भी सामने आई है कि इस गाड़ी के अंदर से 8 से 10 नंबर प्लेट भी मिली हैं जो कि फर्जी हैं। साथ ही इस कार का नंबर भी जांच में फर्जी पाया गया है।

जिलेटिन की छड़ों का नागपुर कनेक्शन

स्कॉर्पियो कार से जिलेटिन की जो छड़ें बरामद हुई थीं वह नागपुर की एक कंपनी ने बनाई हैं, जिसका पता जिलेटिन की छड़ों पर लिखा हुआ बताया जा रहा है। जांच में यह बात भी सामने आई है कि जिस कंपनी का नाम इन जिलेटिन की छड़ों पर लिखा हुआ है उस कंपनी ने कई सरकारी कंपनियों को भी जिलेटिन की इस तरह की छड़ों की सप्लाई की थी। 

वैसे, आमतौर पर जिलेटिन की इस तरह की छड़ों का इस्तेमाल मोटे पत्थरों को तोड़ने एवं फिल्म की शूटिंग के दौरान गाड़ियों को उड़ाने एवं विस्फोट करने के लिए किया जाता है। क्राइम ब्रांच की एक टीम नागपुर की इस कंपनी के मालिक से भी पूछताछ कर रही है कि हाल फिलहाल के समय में इस तरह की जिलेटिन की छड़ों को किन-किन लोगों को सप्लाई किया गया था।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

पूरे परिवार को दी धमकी 

इस स्कॉर्पियो कार से क्राइम ब्रांच को एक चिट्ठी भी मिली है जिसमें मुकेश अंबानी एवं उनके परिवार को धमकी दी गई है। चिट्ठी में लिखा है कि "यह तो अभी ट्रेलर था आगे देखते रहिए होता है क्या।" फिलहाल इस पूरे मामले की जांच मुंबई क्राइम ब्रांच की टीम अपनी करीब आठ टीमों के साथ कर रही है और यह पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि आखिरकार हाई सिक्योरिटी जोन वाले इस इलाके में इस तरह की वारदात को किसने अंजाम दिया। क्राइम ब्रांच इस मामले की जांच आतंकी साज़िश के एंगल से भी कर रही है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सोमदत्त शर्मा
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें