loader
फ़ोटो साभार: ट्विटर/छगन भुजबल

शाहरूख बीजेपी से जुड़ जाएँगे तो 'ड्रग्स चीनी पाउडर हो जाएगा': छगन भुजबल

क्रूज ड्रग्स केस में फँसे शाहरूख ख़ान के बेटे आर्यन ख़ान के मामले में महाराष्ट्र के मंत्री छगन भुजबल ने बीजेपी पर तंज कसा है। उन्होंने कहा है कि अगर शाहरूख ख़ान बीजेपी में शामिल हो जाएँगे तो 'ड्रग्स चीनी पाउडर बन जाएगा'। आर्यन ख़ान पर ड्रग्स मामले में बीजेपी लगातार निशाने पर है। एनसीपी लगातार एनसीबी की कार्रवाई पर सवाल उठा रही है और क्रूज ड्रग्स कार्रवाई में बीजेपी से जुड़े लोगों का हाथ होने का आरोप लगा रही है। 

छगन भुजबल शनिवार को राज्य के बीड ज़िले में एक सार्वजनिक कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। तब वह उस मुंबई क्रूज ड्रग्स मामले का ज़िक्र कर रहे थे जिसमें शाहरूख ख़ान के बेटे आर्यन ख़ान आरोपी हैं। 

ताज़ा ख़बरें

आर्यन ख़ान के ख़िलाफ़ मामला उनके वाट्सऐप चैट पर आधारित है। आर्यन के पास से न तो कोई ड्रग्स मिला है और न ही मेडिकल जाँच में ड्रग्स के सेवन की पुष्टि हुई है। आर्यन को नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी ने गिरफ्तार किया था और ज़मानत याचिका खारिज होने के बाद फ़िलहाल वह न्यायिक हिरासत में हैं।

आर्यन ख़ान इन दिनों जेल में बंद हैं। विशेष एनडीपीएस अदालत ने आर्यन को जमानत देने से इनकार कर दिया है। इसके बाद आर्यन ने जमानत के लिए बॉम्बे हाई कोर्ट का दरवाज़ा खटखटाया है। हाई कोर्ट में इस मामले में मंगलवार यानी 26 अक्टूबर को सुनवाई होगी। 

इस बीच शाहरूख़ ने गुरुवार को मुंबई की आर्थर रोड जेल में जाकर आर्यन से मुलाक़ात की थी। इसी बीच एनसीबी की टीम गुरुवार को ही शाहरूख़ ख़ान के मुंबई स्थित घर पर पहुँची थी।

एनसीपी के वरिष्ठ नेता भुजबल ने आरोप लगाया कि गुजरात के मुंद्रा बंदरगाह पर जब्त 3,000 किलोग्राम हेरोइन के मामले की जाँच करने के बजाय एनसीबी शाहरूख ख़ान के पीछे पड़ी है।

भुजबल ने कहा, 'अगर शाहरूख ख़ान बीजेपी में शामिल होते हैं तो ड्रग्स चीनी पाउडर बन जाएगी।'

बता दें कि इस मामले में महाराष्ट्र सरकार के मंत्री और एनसीपी नेता नवाब मलिक लगातार एनसीबी के ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े और बीजेपी पर हमलावर हैं। उन्होंने हाल ही में वानखेड़े पर ये आरोप लगाए थे कि वह मालदीव और दुबई में गए थे। उन्होंने आरोप लगाया था कि कहीं समीर वानखेड़े ने मालदीव में कुछ फ़िल्मी सितारों से कोई कार्रवाई नहीं करने के एवज में कोई वसूली तो नहीं की थी? वानखेड़े ने इन आरोपों को खारिज कर दिया और कहा कि वे मालदीव में तो छुट्टी मनाने गए थे लेकिन दुबई में नहीं गए थे। 

chhagan bhujbal criticizes bjp over shah rukh khan son aryan khan drugs case - Satya Hindi

मलिक ने कहा कि फ़िल्म इंडस्ट्री के लोगों को सिर्फ़ वाट्सऐप चैट के आधार पर गिरफ़्तार किया जा रहा है। इससे पहले मलिक ने वानखेड़े पर आरोप लगाए थे कि उन्होंने एनसीबी के तीन अलग अलग केसों में एक ही व्यक्ति फ्लेचर पटेल को गवाह बनाया था। 

कुछ दिनों पहले ही नवाब मलिक ने प्रेस कॉन्फ्रेंस करके एनसीबी पर हमला बोला था कि जब क्रूज ड्रग्स मामले में छापेमारी की थी तो उसने वहाँ से 11 लोगों को हिरासत में लिया था। मलिक ने कहा था कि एनसीबी के अधिकारी बीजेपी कार्यकर्ता मनीष भानुशाली और केपी गोसावी के साथ आरोपियों को लेकर एनसीबी के दफ़्तर पहुंचे थे। उन्होंने आरोप लगाया था कि बीजेपी नेता मोहित कंबोज को जैसे ही इस बात की जानकारी लगी कि उनके साले ऋषभ सचदेवा को एनसीबी ने हिरासत में ले लिया है तो मोहित के दबाव के बाद ऋषभ सचदेवा और दो अन्य दूसरे लोग प्रतीक गाबा और आमिर फर्नीचरवाला को छोड़ दिया गया।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

बीजेपी कार्यकर्ता मनीष भानुशाली और केपी गोसावी का खुलासा भी नवाब मलिक ने ही किया था और आरोप लगाए थे कि दो प्राइवेट लोग आख़िरकार एनसीबी की इस कार्रवाई में कैसे शामिल हो गए थे। इस पर एनसीबी ने कहा था कि वे उसके गवाह थे। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें