loader

फडणवीस ने क्यों स्वीकार किया डिप्टी सीएम का पद?

30 जून का दिन महाराष्ट्र की सियासत में लंबे वक्त तक याद रखा जाएगा। इस दिन जो हुआ उसकी उम्मीद किसी ने भी नहीं की थी। राज्य में बीजेपी के सबसे बड़े नेता और मुख्यमंत्री रहे देवेंद्र फडणवीस उप मुख्यमंत्री बने जबकि कुछ देर पहले ही उन्होंने नई सरकार में शामिल होने से इनकार किया था। लेकिन बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के अनुरोध पर वह सरकार में शामिल हो गए।

शिवसेना में हुई बग़ावत और बागी गुट के बीजेपी नेताओं से नजदीकी के बाद जब राज्य में बीजेपी की सरकार बनने को लेकर हालात साफ हुए तो फडणवीस को बधाई देने वालों का तांता लग गया था। 

सभी का यह मानना था कि फडणवीस ही राज्य के अगले मुख्यमंत्री होंगे और एकनाथ शिंदे उनकी सरकार में उप मुख्यमंत्री बनेंगे। लेकिन जो हुआ वह हैरान करने वाला था।

ताज़ा ख़बरें

सारे न्यूज़ चैनलों में यह खबर चलने के बाद कि फडणवीस 30 जून की शाम को मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे, फडणवीस और शिंदे सामने आए। यहां फडणवीस ने एलान किया कि एकनाथ शिंदे मुख्यमंत्री पद की शपथ लेंगे और वह बाहर रहकर सरकार का पूरा समर्थन करेंगे। 

लेकिन उसके बाद क्यों खुद बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को उनसे सरकार में शामिल होने का अनुरोध करना पड़ा।

फिर केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने ट्विटर पर ही इस बात की जानकारी दी कि जेपी नड्डा के अनुरोध पर फडणवीस ने बड़ा मन दिखाते हुए महाराष्ट्र राज्य और वहां की जनता के हित में सरकार में शामिल होने का फैसला किया है।

निश्चित रूप से फडणवीस जब राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं तो वह किसी सरकार में उपमुख्यमंत्री नहीं रहना चाहेंगे। एकनाथ शिंदे के डिप्टी मंत्री बनने से फडणवीस का जो कद महाराष्ट्र की सियासत में है, उस पर थोड़ा बहुत असर होगा ही।

हालांकि बीजेपी का एक धड़ा यह कहकर फडणवीस की तारीफ कर रहा है कि उन्होंने पार्टी के आदेश को सर्वोपरि माना लेकिन यहां यह बात अहम है कि थोड़ी देर पहले ही सरकार से बाहर रहने की बात मीडिया के सामने कहने वाले फडणवीस अगर शिंदे की सरकार में डिप्टी सीएम बनने के लिए राजी हुए तो इसके पीछे कोई कहानी जरूर है। 

Devendra Fadnavis deputy CM Maharashtra  - Satya Hindi

शायद बीजेपी का केंद्रीय नेतृत्व यह नहीं चाहता था कि दूसरे राजनीतिक दल से आने वाले एकनाथ शिंदे की सरकार में बीजेपी की पकड़ ना हो और वह भी तब जब नई सरकार उसके ही समर्थन से बने। 

इसलिए उसने अपने बड़े नेता फडणवीस को इस बात के लिए मनाया कि वह शिंदे की सरकार में उप मुख्यमंत्री बनें। ऐसा होने से राज्य सरकार पर बीजेपी की पकड़ भी मजबूत रहेगी। 

फडणवीस की नाराजगी 

बीजेपी ने एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बनाने के पीछे हिंदुत्व की विचारधारा का सम्मान करने की बात कही है लेकिन यह दिख रहा है कि जब केंद्रीय नेतृत्व ने एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बनाने का फैसला किया होगा तो निश्चित रूप से फडणवीस इससे नाराज हुए होंगे। 

महाराष्ट्र से और खबरें

फडणवीस को मनाने के लिए ही नड्डा और शाह जैसे आला नेताओं को आगे आना पड़ा। 

बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष को खुद राज्य बीजेपी के किसी नेता से अनुरोध करना पड़ा हो कि आप सरकार में शामिल हों, ऐसा कम से कम बीजेपी में देखने को नहीं मिला है।
आने वाले दिनों में एकनाथ शिंदे को असली शिवसेना किसकी है, इस बात की लड़ाई तो लड़नी ही होगी। विधानसभा में बहुमत साबित करने के अलावा देवेंद्र फडणवीस जैसे बड़े नेता को साथ लेकर भी चलना होगा।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें