loader

महाराष्ट्र: 361 जाँच सैंपलों में से 61% डबल म्यूटेंट के केस मिले

महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के मामले दूसरे राज्यों की अपेक्षा काफ़ी तेज़ी से क्यों फैल रहे हैं? वैसे तो इसका स्पष्ट कारण नहीं पता चला है लेकिन इसका एक कारण 'डबल म्यूटेंट' हो सकता है। जाँच किए गए सैंपल में से 61 फ़ीसदी मामलों में 'डबल म्यूटेंट' के संक्रमण का मामला पाया गया है। 

'डबल म्यूटेंट' का सीधा मतलब यह है कि इसमें दो म्यूटेंट हैं। 24 मार्च को केंद्र सरकार ने कहा था कि देश में एक नये क़िस्म का कोरोना पाया गया है- डबल म्यूटेंट। इससे संक्रमित लोग देश के 18 राज्यों में पाए गए हैं। तब कहा गया था कि 15-20 फ़ीसदी सैंपल में डबल म्यूटेंट मिला था। नये क़िस्म के कोरोना के रूप में तब तक यूके स्ट्रेन या वैरियंट, दक्षिण अफ़्रीकी स्ट्रेन और ब्राज़ीलियन स्ट्रेन जैसे नाम आ रहे थे। लेकिन भारत में 'डबल म्यूटेंट' के संक्रमण का मामला सामने आया था। 

ताज़ा ख़बरें

भारत में जो डबल म्यूटेंट मिला है वह दो अलग-अलग म्यूटेंट का गठजोड़ है। इसमें से एक म्यूटेंट ई484क्यू है और दूसरा एल452आर। इन दोनों म्यूटेंट जब अलग-अलग होते हैं तो इनकी पहचान ज़्यादा तेज़ी से फैलने वाले के तौर पर की गई है और ये कुछ हद तक टीकाकरण या कोरोना ठीक होने से बनी एंटीबॉडी को मात भी दे देते हैं।

लेकिन इन दोनों के गठजोड़ से बने वायरस के बारे में अभी पता नहीं चला है कि यह कितनी तेज़ी से फैलता है और कितना घातक है। अभी इसकी पुष्टि की जानी बाक़ी है।

ताज़ा सैंपल की जो रिपोर्ट आई है उसको नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ़ वायरोलॉजी यानी एनआईवी पुणे ने तैयार किया है। 

एनआईवी ने महाराष्ट्र में जनवरी से लेकर मार्च तक 361 कोरोना पॉजिटिव सैंपल की जीनोम सिक्वेंसिंग की। इसमें से 220 मामलों में डबल म्यूटेंट पाया गया। 'द इंडियन एक्सप्रेस' की रिपोर्ट के अनुसार 10 अप्रैल को बैठक में एनआईवी के अधिकारियों ने सरकारी अधिकारियों को प्रजेंटेशन के माध्यम से इसका जानकारी दी। 

राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि डबल म्यूटेंट की भूमिका को महाराष्ट्र की दूसरी लहर में खारिज नहीं किया जा सकता है। राज्य में हर दिन क़रीब 60,000 नए मामले दर्ज किए जा रहे हैं और 5.64 लाख सक्रिय मामले हैं।

एनआईवी के आँकड़ों से पता चलता है कि जनवरी में इस डबल म्यूटेंट के तीन केस अकोला और एक केस ठाणे में आया था। फरवरी में 13 ज़िलों के 50 फ़ीसदी सैंपल में इस डबल म्यूटेंट की पुष्टि हुई थी। 

double mutant found in 61% samples tested in maharashtra - Satya Hindi

इससे पहले 24 मार्च को केंद्र सरकार ने यह भी कहा था कि देश में कई और क़िस्म के कोरोना संक्रमण पाए गए हैं। इसमें यूके स्ट्रेन, दक्षिण अफ्रीकी स्ट्रेन और ब्राज़ीलियन स्ट्रेन शामिल हैं। 

सामान्य तौर पर माना जाता है कि जब म्यूटेशन होता है तो वह पहले से ज़्यादा तेज़ी से फैलने वाला होता है और वैक्सीन या कोरोना से बनी एंटीबॉटी को मात दे सकता है। इसका मतलब है कि यदि इस तरह का मामला हुआ तो पहले से संक्रमित व्यक्ति भी फिर से कोरोना संक्रमण का शिकार हो सकते हैं। इस तरह इसका एक डर यह है कि हर्ड इम्युनिटी बेअसर साबित हो सकती है। हालाँकि, डबल म्यूटेंट के असर के बारे में इस तरह का शोध अभी तक होना बाक़ी है। यह भी साफ़ नहीं है कि क्या इसी वजह से महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण तेज़ी से फैल रहा है। 

देश में आए 1 लाख 84 हज़ार केस

देश में कोरोना संक्रमण के फिर रिकॉर्ड मामले आए हैं। मंगलवार को एक दिन में 1 लाख 84 हज़ार 372 पॉजिटिव केस आए। एक दिन पहले ही 1 लाख 61 हज़ार 736 मामले आए थे। इससे पहले रविवार को क़रीब 1 लाख 68 हज़ार मामले आए थे। हालाँकि, यह आम तौर पर देखा गया है कि सोमवार को संक्रमण के मामले कम आते रहे हैं और बाद में मामले फिर से बढ़ने लग जाते हैं। और ऐसा ही हुआ भी। मंगलवार को केस बढ़ गए।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

स्वास्थ्य विभाग ने बुधवार को 24 घंटे में जो आँकड़े जारी किए हैं उसके मुताबिक़ 1027 लोगों की मौत हो गई। देश में अब तक 1 लाख 72 हज़ार 85 लोगों की मौत हो चुकी है। अब तक कुल 1 करोड़ 38 लाख 73 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले आ चुके हैं और 1 करोड़ 23 लाख से ज़्यादा ठीक भी हो चुके हैं। फ़िलहाल देश में 13 लाख 65 हज़ार से ज़्यादा सक्रिय मामले हैं। 

देश में कोरोना से सबसे ज़्यादा प्रभावित महाराष्ट्र है। राज्य में मंगलवार को संक्रमण के 60,212 नए मामले सामने आए और 281 लोगों की मौत हुई। सोमवार को यह आंकड़ा 51,751 था तो महाराष्ट्र सरकार ने राहत की सांस ली थी लेकिन एक बार फिर यह ऊंचाई पर पहुंच गया है। रविवार को यह आंकड़ा 63,294 था।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें