loader

शिवसेना के अस्तित्व के लिए असहज गठबंधन छोड़ना ज़रूरी: शिंदे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के भावुक भाषण के बाद बागी नेता एकनाथ शिंदे ने कांग्रेस और एनसीपी के साथ गठबंधन को बेमेल गठबंधन क़रार दिया और कहा कि महाराष्ट्र के हित में इससे निकलना ज़रूरी है।

एकनाथ शिंदे ने ट्वीट किया, 'पिछले ढाई साल में एमवीए सरकार ने केवल घटक दलों (कांग्रेस, एनसीपी) को फायदा पहुंचाया और शिवसैनिकों को भारी नुक़सान हुआ। पार्टी और शिवसैनिकों के अस्तित्व के लिए अप्राकृतिक गठबंधन से बाहर निकलना जरूरी है। अब महाराष्ट्र के हित में निर्णय लेने की ज़रूरत है।'

उनका यह ट्वीट तब आया है जब कुछ घंटे पहले ही महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने फेसबुक लाइव में कहा कि 'अगर विधायक सामने आकर बोलें तो इस्तीफा देने को तैयार हूं'। उन्होंने कहा कि 'मैं मुख्यमंत्री की कुर्सी के लिए बेकरार नहीं हूं। मैं तो संयोग से सीएम बना। शरद पवार ने प्रस्ताव किया था कि मैं मुख्यमंत्री बनूं।' हालांकि उद्धव का यह संबोधन महाराष्ट्र की जनता के नाम था लेकिन कुल मिलाकर यह संदेश बागी विधायकों और शिवसैनिकों को था। और उनके इस भाषण के बाद ही एकनाथ शिंदे का यह ट्वीट आया है।

शिंदे को शिवसेना विधायक दल का नेता नियुक्त करने के अलावा, बागी गुट ने एक प्रस्ताव में कहा है कि वैचारिक रूप से विरोध करने वाली कांग्रेस और शरद पवार की राकांपा के साथ गठबंधन को लेकर पार्टी कैडर में 'भारी असंतोष' है।
ताज़ा ख़बरें

हालाँकि शिंदे द्वारा उठाए गए सवालों का जवाब उद्धव ठाकरे ने अपने संबोधन में दिया था। उद्धव ने कहा कि वह "कुर्सी के लिए नहीं लड़ेंगे" और शिवसेना हिंदुत्व को कभी नहीं छोड़ेगी। उन्होंने कहा, 'अगर एक भी विधायक ने मुख्यमंत्री के रूप में मुझ पर आपत्ति जताई तो मैं इस्तीफा दे दूंगा। मैं अपना इस्तीफा तैयार रख रहा हूं। आप मुझे बताएं कि आप चाहते हैं कि मैं इस्तीफा दे दूं।' शिवसेना के 30 विधायकों द्वारा बागी एकनाथ शिंदे को अपने नेता के रूप में समर्थन देने के लिए राज्यपाल को लिखे जाने के तुरंत बाद ठाकरे ने यह संबोधन किया है। ठाकरे ने कहा, 'मुझे एकनाथ शिंदे के साथ गए विधायकों के फोन आ रहे हैं, वे दावा कर रहे हैं कि उन्हें जबरन ले जाया गया।'

eknath shinde says unnatural alliance congress shiv sena - Satya Hindi
महाराष्ट्र से और ख़बरें
उद्धव ठाकरे ने कहा है कि कांग्रेस और एनसीपी को आज भी मेरे ऊपर पूरा विश्वास है। हालाँकि, इस राजनीतिक तूफान के बीच एक मीडिया रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से कहा गया है कि कांग्रेस और एनसीपी एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री बनाने के पक्ष में हैं। एनडीटीवी ने सूत्रों के हवाले से कहा है कि महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के सत्तारूढ़ सहयोगी कांग्रेस और शरद पवार ने सुझाव दिया है कि बागी एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री के रूप में नामित किया जाए।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें