loader

चुनाव आयोग ने 'आइटम' शब्द पर कमलनाथ से माँगा जवाब

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ की मुश्किलें बढ़ गई हैं। बीजेपी की महिला उम्मीदवार इमरती देवी के लिए 'आइटम' शब्द का इस्तेमाल करने पर चुनाव आयोग ने उन्हें नोटिस जारी कर 48 घंटे के अंदर जवाब देने को कहा है। 

क्या कहा था कमलनाथ ने?

याद दिला दें कि मध्य प्रदेश में हो रहे उपचुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार सुरेश राजे का प्रचार करने गए कमलनाथ ने बीजेपी उम्मीदवार पर आपत्तिजनक टिप्पणी कर दी थी। उन्होंने मंच से कहा था,  'सुरेश राजे हमारे उम्मीदवार हैं, सरल स्वभाव के सीधे- साधे हैं। यह उसके जैसे नहीं है, क्या है उसका नाम? मैं क्या उसका नाम लूं आप तो उसको मुझसे ज्यादा अच्छे से जानते हैं, आपको तो मुझे पहले ही सावधान कर देना चाहिए था, 'यह क्या आइटम है'।
इस पर कमलनाथ का चौतरफा विरोध तो हुआ ही, खुद कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने भी उनकी आलोचना की। राहुल गांधी ने कहा, 'मुझे ऐसी भाषा पसंद नहीं है, मैं ऐसी भाषा की सराहना नहीं करता हूं।'

अड़े हुए हैं कमलनाथ

कमलनाथ से जब राहुल गांधी की टिप्पणी को लेकर सवाल हुआ तो उन्होंने कहा कि 'वह राहुल गांधी की राय है, मैं तो पहले ही कह चुका हूं कि मैंने किस संदर्भ में कहा था।' 
कमलनाथ ने इस पर इमरती देवी से माफ़ी मांगने से इनकार कर दिया था। उन्होंने कहा था,

'मैं क्यों माफी मागूंगा? मैंने तो कह दिया है कि मेरा किसी का अपमान करने का कोई इरादा नहीं था। अगर कोई अपमानित महसूस करता है तो मुझे इसके लिए खेद है।'


कमलनाथ, पूर्व मुख्यमंत्री, मध्य प्रदेश

सोनिया से शिकायत

बीजेपी नेता और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान इस मुद्दे को कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गांधी तक ले गये। उन्होंने सोनिया गांधी को एक पत्र लिखा है। पत्र में अपनी काबीना की सदस्य इमरती देवी के ख़िलाफ़ की गई टिप्पणी का उल्लेख करते हुए शिवराज ने कमलनाथ के ख़िलाफ़ कार्रवाई करने की मांग की है। 
शिवराज ने कहा है, ‘नारी जाति का अपमान करने वाले नेता कमलनाथ को पीसीसी चीफ़ और मध्य प्रदेश विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष जैसे अहम पद से हटा देना चाहिए।’ मुख्यमंत्री चौहान ने कमलनाथ को पार्टी से निकालने की मांग भी सोनिया गांधी से अपने पत्र में की है।

भावुक हुईं इमरती देवी

इमरती देवी भी खुलकर मैदान में आ गयी हैं। कमलनाथ की टिप्पणी से जुड़े सवालों के जवाब देने से पहले इमरती देवी मीडिया के कैमरों के सामने रोती हुई नज़र आईं।
इमरती देवी ने कमलनाथ पर निशाना साधा है। उन्होंने  नाथ को 'राक्षस' क़रार दिया। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल से आये कमलनाथ संस्कारहीन हैं। इमरती देवी ने कमलनाथ सरकार में सहयोगी मंत्री रहीं विजय लक्ष्मी साधो (कमलनाथ की टिप्पणी वाले वायरल वीडियो में साधो भी ठहाका लगाती नज़र आ रही हैं) को भी नहीं बख्शा।
इमरती देवी ने कमलनाथ की सरकार में रहते हुए कथित रूप से झेले गये अपमानों का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा, ‘मंत्री होने के बावजूद कमलनाथ कभी सम्मान नहीं देते थे। बैठने तक को नहीं कहते थे और चंद मिनटों में चलता कर देते थे।’
अब चुनाव आयोग से नोटिस मिलने पर कमलनाथ का क्या जवाब होगा, यह देखना दिलचस्प होगा।
मध्य प्रदेश में 28 विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव होने जा रहे हैं। तीन नवंबर को वोट डाले जाने हैं, 10 नवंबर को वोटों की गिनती होगी।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें