loader

फडणवीस की नसीहत- संयम बरतें प्रज्ञा, वीर-ईमानदार थे करकरे

शहीद हेमंत करकरे पर बीजेपी और प्रज्ञा ठाकुर की स्थिति साँप-छछूंदर जैसी हो गयी है, जो न तो निगलते बन रही है और न ही उगलते। पार्टी कभी उस पर एक क़दम आगे बढ़ती है तो कभी दो क़दम पीछे हटती दिखाई देती है। एक दिन पहले अमित शाह ने कहा था कि प्रज्ञा ठाकुर की बात सही है और आज महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने कहा कि प्रज्ञा ठाकुर को संयम बरतना चाहिए। उन्होंने कहा कि हेमंत करकरे एक ईमानदार अधिकारी थे और महाराष्ट्र पुलिस सेवा में उनका योगदान सराहनीय था। फडणवीस ने कहा कि करकरे एक बहादुर पुलिस अधिकारी थे। उन्होंने यह भी कहा कि जहाँ तक गिरफ़्तारी के दौरान प्रज्ञा ठाकुर के साथ अत्याचार की बात है तो उसे ऐसे नहीं माना जा सकता। उन्होंने कहा कि गिरफ़्तारी के दौरान यदि किसी तरह की मारपीट हुई है तो बिना किसी औपचारिक शिकायत के उस पर कार्रवाई नहीं की जा सकती है। 

चूँकि प्रज्ञा ठाकुर को बीजेपी एक चुनावी मुद्दा बनाकर हिन्दू वोटों के ध्रुवीकरण की कोशिश में लगी हुई है, ऐसे में फडणवीस का यह बयान काफ़ी अहम है।

29 अप्रैल को चौथे चरण के मतदान में महाराष्ट्र की शेष 17 सीटों पर मतदान होने वाला है। इनमें से दस सीटें मुंबई महानगर और ठाणे ज़िले की हैं, जहाँ प्रज्ञा ठाकुर के बयान को लेकर लोगों में बीजेपी के ख़िलाफ़ हवा बन सकती है। और शायद फडणवीस ने इसी के चलते यह बयान देकर पार्टी की स्थिति स्पष्ट करने की कोशिश की है। लेकिन जिस तरह से बीजेपी या संघ के नेता प्रज्ञा ठाकुर के मुद्दे पर बयानबाज़ी कर रहे हैं उससे कई सवाल खड़े हो रहे हैं। क्या बीजेपी इस बार चुनाव प्रचार को लेकर असमंजस में है? पार्टी के चुनाव अभियान को देखकर तो कुछ ऐसा ही लगता है।

2014 के चुनाव अभियान में जहाँ पार्टी सिर्फ़ एक ही नारे ‘अच्छे दिन आने वाले हैं’ को लेकर चल रही थी वहीं इस बार चुनाव के हर चरण के साथ उसका नारा बदल रहा है। चुनाव पूर्व के प्रचार की शुरुआत ‘मोदी है तो मुमकिन है’ के साथ शुरू हुई थी, लेकिन उसके बाद ‘मैं भी चौकीदार’, राष्ट्रवाद -बालाकोट पर हवाई हमला और अब हिन्दू आतंकवाद पर पहुँच गया।

ताज़ा ख़बरें

मतदान के तीन चरण पूरे हो चुके हैं और चार चरण अभी बाक़ी हैं, लेकिन बीजेपी नेताओं के भाषणों को देखें तो यह अंदाज़ा लगाया जा सकता है कि उनमें एक दुविधा है? वे राष्ट्रवाद और सेना की उपब्धियों के नाम पर वोट माँगें या हिन्दू आतंकवाद के कार्ड के प्रज्ञा ठाकुर के नाम पर? हिन्दू आतंकवाद की बात प्रधानमंत्री मोदी ने महाराष्ट्र के वर्धा में अपनी सभा में उठायी थी। तब किसी ने यह नहीं सोचा था कि इस कड़ी में प्रज्ञा ठाकुर होंगी। वर्धा में अपने भाषण में मोदी ने हिन्दू आतंकवाद शब्द गढ़ने को लेकर कांग्रेस को घेरा था, उन्होंने कहा था कि किस तरह कांग्रेस ने आतंकवाद की नयी परिभाषा गढ़कर देश में नयी बहस शुरू कर दी थी। 

जब बीजेपी या यूँ कह लें कि राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ ने प्रज्ञा ठाकुर को उतारा तो वह तुरुप का पत्ता साबित होने की बजाय एक पहेली बन गयी जो अब लगता है बीजेपी और संघ को भी समझ में नहीं आ रही।

दरअसल, जेल में अपने ऊपर हुए कथित अन्याय की कहानी सुनाकर प्रज्ञा ठाकुर हिन्दुओं में सहानुभूति की लहर पैदा करना चाहती थी लेकिन उन्हें अपनी बेगुनाही की दास्ताँ सुनाने के लिए महाराष्ट्र के तत्कालीन एटीएस प्रमुख हेमंत करकरे को कठघरे में खड़ा करना था। हेमंत करकरे चूँकि मुंबई में आतंकियों से लड़ते हुए शहीद हुए थे, इसलिए जैसे ही प्रज्ञा ठाकुर ने उन पर आरोप लगाया, इस तरह बवाल खड़ा हुआ कि बीजेपी को उससे अपना पल्ला झाड़ना पड़ा।

संघ के बयान से भी नहीं थमा विवाद

विचार-विमर्श के बाद संघ के एम. जी. वैद्य का बयान आया कि प्रज्ञा ठाकुर ने अपने ऊपर हुए अन्याय की आपबीती बतायी है, उसे अलग नज़र से नहीं देखें। लेकिन ऐसे बयानों का भी मामला थमा नहीं। सोशल मीडिया पर लोगों की प्रतिक्रिया से बीजेपी में बेचैनी बढ़ी है। नरेंद्र मोदी अभी इस पर भाषण देने से थोड़ा बच रहे हैं लेकिन अमित शाह और अन्य नेता प्रज्ञा ठाकुर की अपनी सभाओं में चर्चा कर इस मुद्दे में संभावनाएँ तलाशने से नहीं चूक रहे। लेकिन देवेंद्र फडणवीस को शायद ऐसा लग रहा है कि यह मुद्दा महाराष्ट्र में पार्टी के ख़िलाफ़ जाएगा। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

मुंबई में क्या होगा असर?

मुंबई और ठाणे जिले की जिन 10 सीटों पर 29 अप्रैल को चुनाव होने जा रहे हैं वे सभी सीटें साल 2014 के चुनाव में बीजेपी-शिवसेना गठबंधन ने जीती थीं। ये सब शहरी क्षेत्र की सीटें हैं और यहाँ का मतदाता भी सोशल मीडिया से बड़े पैमाने पर जुड़ा है। प्रज्ञा ठाकुर और हेमंत करकरे को लेकर जो सोशल मीडिया पर चल रहा है उससे एक बात तो स्पष्ट है कि जनता प्रज्ञा ठाकुर के बयान से नाराज़ है। यह नाराज़गी अगर मतों में परिवर्तित हो गयी तो बीजेपी को बड़ा नुक़सान हो सकता है। लिहाज़ा मुख्यमंत्री अपनी पार्टी के शीर्ष नेतृत्व के बयानों से हटकर प्रज्ञा ठाकुर को ही संयम बरतने की सलाह दे रहे हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें