loader

मुंबई में फिर लॉकडाउन से मेयर ने नहीं किया इनकार

मुंबई में बढ़ते हुए कोरोना संक्रमण को देखते हुए सवाल उठने लगा है कि क्या इस महानगर में एक बार फिर लॉकडाउन लगाया जा सकता है। मेयर किशोरी पेडनेकर ने इस संभावना से इनकार नहीं किया है। उन्होंने कहा कि यह शहर के लोगों पर निर्भर करता है।

उन्होंने कहा, "यह चिंता की बात है। ट्रेन में सफर करने वाले ज़्यादातर लोग मास्क नहीं लगाते हैं। लोगों को सावधानी बरतनी चाहिए, वर्ना एक बार फिर लॉकडाउन लगाया जा सकता है।"

उन्होंने ज़ोर देकर कहा कि लॉकडाउन लोगों पर निर्भर करता है।

ख़ास ख़बरें

'स्थिति ख़तरनाक'

मंबई के मेयर के इस बयान के पहले ही महाराष्ट्र सरकार कह चुकी है कि स्थिति 'ख़तरनाक' है और उसे 'कड़े निर्णय' लेने पड़ सकते हैं। उप-मुख्यमंत्री अजित पवार ने कोरोना से जुड़ी सावधानियाँ नहीं बरती जाने पड़ निराशा जताई है।

उन्होंने कहा,

"कड़े कदम लेने पड़ सकते हैं, लोगों को इसके लिए तैयार रहना चाहिए। यदि समय रहते कुछ निर्णय नहीं लिए गए तो उसकी भारी कीमत चुकानी पड़ सकती है।"


अजित पवार, उप-मुख्यमंत्री, महाराष्ट्र

दूसरी लहर की चिंता

अजित पवार ने यह भी कहा कि दुनिया के कई जगहों पर महामारी की दूसरी लहर आई है।

मुंबई में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 493 नए मामले सामने आए। इसके साथ ही वहां कोरोना से प्रभावित लोगों की संख्या 3,34,569 हो गई। अब तक 11,420 लोग मारे जा चुके हैं।

इसके साथ ही संक्रमित लोगों की संख्या दूनी होने में लगने वाला समय भी कम हो गया है।

पास के ही ठाणे में 285 नए मामले आने के साथ ही कोरोना संक्रमित लोगों की संख्या 2,58,030 हो गई।

पूरे महाराष्ट्र राज्य में रविवार को कोरोना के 4,092 नए मामले सामने आए। इस पर राज्य सरकार ही नहीं, दूसरे लोग भी चिंता जता रहे हैं।

lockdown in mumbai due to corona again? - Satya Hindi

कोरोना ख़त्म?

इसके पहले जब कोरोना के मामले कम आने लगे तो यह सवाल पूछा जाने लगा था कि क्या कोरोना वाकई ख़त्म हो रहा है। यह सवाल पिछले सप्ताह उस समय पूछा जा रहा था जब देश के 707 ज़िलों में से 25 फ़ीसदी ज़िलों में कोरोना संक्रमण का एक भी मामला नहीं आया। लेकिन, 64 फ़ीसदी ज़िलों में हर रोज़ 20 से भी कम मामले आ रहे हैं। 3 फ़ीसदी यानी 21 ज़िलों में हर रोज़ 100 से ज़्यादा केस आ रहे हैं।

पिछले चार महीने में स्थिति काफ़ी ज़्यादा सुधारी है। सितंबर के मध्य में ही सिर्फ़ 9 फ़ीसदी ज़िले थे जहाँ कोई भी नया मामला नहीं आ रहा था जबकि 28 फ़ीसदी ज़िलों में हर रोज़ औसत रूप से कम से कम 100 नये मामले आ रहे थे। देश में हर रोज़ सबसे ज़्यादा जितने कोरोना संक्रमण के मामले आ रहे थे उसका अब 12 फ़ीसदी ही मामले आ रहे हैं। इसका मतलब साफ़ है कि संक्रमण का फैलना काफ़ी धीमा हो गया है। क्या इसका मतलब है कि संक्रमण ख़त्म होने को है?

उच्चतम शिखर पर नहीं!

देश में फ़िलहाल कोई भी ज़िला अपने पीक पर नहीं है। 31 जनवरी को पीक यानी शिखर का आधा भी सिर्फ़ 10 ज़िलों में था। इसमें से 9 ज़िले केरल में हैं। एक ज़िला छत्तीसगढ़ में है।

भारत में अभी कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर नहीं आई है जबकि दुनिया भर के कई देशों में ऐसा देखा गया है। इसमें अमेरिका व ब्राज़ील के अलावा, इंग्लैंड, स्पेन, इटली, फ्रांस, रूस जैसे यूरोपीय देश भी शामिल हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें