loader

महाराष्ट्र: गवर्नर से मिलेगी बीजेपी, शिवसेना ने बुलाई विधायकों की बैठक

चुनाव नतीजे आने के बाद से ही महाराष्ट्र में राजनीतिक अस्थिरता का माहौल है। चुनाव नतीजों में जब बीजेपी-शिवसेना गठबंधन को 161 सीटें मिली थीं तो यह माना गया था कि हफ़्ते भर के भीतर सरकार का गठन हो जायेगा। क्योंकि दोनों दलों ने गठबंधन में रहकर चुनाव लड़ा था। लेकिन नतीजे आने के बाद शिवसेना के 50:50 फ़ॉर्मूले को माने जाने की जिद और बीजेपी के इसके लिये तैयार न होने के कारण मामला फंस गया। और अब दो हफ़्ते हो चुके हैं लेकिन सरकार किसकी बनेगी, इसे लेकर तसवीर साफ़ नहीं है। इस सारी सियासी उथल-पुथल के बीच देवेंद्र फडणवीस आज राज्य के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाक़ात करेंगे। 

महाराष्ट्र की विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को ख़त्म हो रहा है, ऐसे में तीन दिन बेहद अहम हैं। अगर इन तीन दिनों में कोई दल दावा पेश नहीं करता है तो राज्य में राष्ट्रपति शासन लग सकता है। इससे पहले शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत जब राज्यपाल से मिले थे तो ख़बरों के मुताबिक़ उन्होंने महाराष्ट्र में दूसरा सबसे बड़ा दल होने की हैसियत से उन्हें सरकार बनाने के लिये बुलाने का अनुरोध किया था। 

ताज़ा ख़बरें

क्या कम हुई तल्खी?

चुनाव नतीजे आने के बाद बुधवार को पहली बार बीजेपी-शिवसेना के नेता मिले। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और शिवसेना के नेताओं ने एक बैठक में हिस्सा लिया। बैठक के बाद बीजेपी के वरिष्ठ नेता सुधीर मुनगंटीवार का बयान आया कि बीजेपी और शिवसेना साथ हैं और सरकार भगवा गठबंधन की ही बनेगी। लेकिन शिवसेना की तरफ़ से झुकने के कोई संकेत नहीं मिल रहे हैं और वह अपने 50:50 के फ़ॉर्मूले, जिसके तहत वह महाराष्ट्र की सत्ता में समान भागीदारी और राज्य में मुख्यमंत्री का पद ढाई साल के लिये चाहती है। लेकिन बीजेपी इसके लिये तैयार नहीं है। 

 Maharashtra Assembly ending on November 9 - Satya Hindi
बैठक में मौजूद मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस व अन्य नेता।
तो सवाल यह खड़ा होता है कि आख़िर इस विवाद का समाधान होगा कैसे? सरकार गठन के मसले पर देवेंद्र फडणवीस दिल्ली में अमित शाह और नागपुर में संघ प्रमुख मोहन भागवत से भी मिल चुके हैं लेकिन अब तक समस्या का कोई हल निकलता नहीं दिख रहा है।

गडकरी को मिलेगी कमान?

राजनीतिक गलियारों में इस बात की जोरदार चर्चा है कि शिवसेना एक ही स्थिति में बीजेपी के साथ सरकार बनाने के लिए राजी हो सकती है कि जब वह फडणवीस को बदल दे। यानी मुख्यमंत्री की कुर्सी पर कोई दूसरा शख़्स आये और इस दौड़ में केंद्रीय मंत्री और बीजेपी के पूर्व अध्यक्ष नितिन गडकरी का नाम प्रमुखता से लिया जा रहा है। 

चुनाव नतीजे आने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जिस अंदाज में फडणवीस का समर्थन किया था, उसके बाद यही लगा था कि फडणवीस ही मुख्यमंत्री बनेंगे क्योंकि चुनाव में भी उन्हीं को मुख्यमंत्री प्रोजेक्ट किया गया था। लेकिन अब जब बात फंस गई है तो यह कहा जा रहा है कि बीजेपी क्या अपनी सरकार को बचाने के लिये फडणवीस के बजाय गडकरी को कमान देगी? ऐसा वह गोवा में कर चुकी है जब बीजेपी की सरकार बनवाने के लिये केंद्र में तत्कालीन रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर को गोवा जाना पड़ा था। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

इससे पहले राज्य में यह चर्चा जोरों पर थी कि शिवसेना और एनसीपी मिलकर सरकार बना सकते हैं और कांग्रेस इसे बाहर से समर्थन दे सकती है लेकिन बुधवार को शरद पवार ने फिर दुहराया कि उन्हें विपक्ष में बैठने का जनादेश मिला है और कहा कि बीजेपी-शिवसेना को सरकार बनानी चाहिये। पवार ने एनसीपी-शिवसेना की सरकार बनने की बात को भी खारिज कर दिया था। 

कांग्रेस में चल रहा मंथन

माना जा रहा है कि कांग्रेस आलाकमान शिवसेना के नेतृत्व वाली सरकार को समर्थन देने के लिये सहमत नहीं दिख रहा है। हालाँकि इस मुद्दे पर पार्टी के अंदर मंथन चल रहा है और पार्टी के महासचिव मल्लिकार्जुन खड़गे बहुत जल्द महाराष्ट्र के विधायकों से मिल सकते हैं। क्योंकि कुछ दिन पहले महाराष्ट्र कांग्रेस के बड़े नेता सोनिया गाँधी से मिलने दिल्ली पहुंचे थे तो उन्होंने बीजेपी की सरकार बनने से रोकने के लिये कांग्रेस की ओर से क़दम उठाये जाने का अनुरोध आलाकमान से किया था। कांग्रेस से इस दिशा में क़दम उठाने का आग्रह सांसद हुसैन दलवई भी कर चुके हैं। दलवई शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत से भी मिल चुके हैं। 

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने पार्टी के नवनिर्वाचित विधायकों की बृहस्पतिवार को मुंबई में अपने आवास पर बैठक बुलाई है। इससे पहले जब उद्धव ने बैठक बुलाई थी तो विधायकों ने उनसे कहा था कि ढाई साल के मुख्यमंत्री के फ़ॉर्मूले पर बीजेपी से लिखित में आश्वासन लिया जाना चाहिए।

क्या झुकेगी शिवसेना?

शिवसेना के तेवर देखकर नहीं लगता कि वह झुकेगी। लेकिन कहा जा रहा है कि नितिन गडकरी को महाराष्ट्र की कमान देने पर वह राजी हो सकती है। क्योंकि शिवसेना यहां तक कह चुकी है कि बीजेपी के पास अगर बहुमत है तो वह सरकार बनाने की कोशिश करे, हम उसे पहले विधानसभा में हरायेंगे और फिर सरकार बनाने की तैयारी करेंगे। संजय राउत ने जब 170 विधायकों के समर्थन होने का दावा किया था तो राजनीतिक गलियारों में हैरानी हुई थी कि जिस पार्टी के पास सिर्फ़ 56 विधायक हों और कुछ निर्दलीयों का समर्थन उसे हासिल हो तो वह कैसे 170 विधायकों के समर्थन का दावा कर सकती है। 

 Maharashtra Assembly ending on November 9 - Satya Hindi
आदित्य ठाकरे को भावी सीएम बताने वाले होर्डिंग।

कुल मिलाकर तीन दिनों में इस बात का पता चल जायेगा कि क्या महाराष्ट्र में कोई सरकार बनेगी या नहीं? या फिर राष्ट्रपति शासन लगेगा। भगवा गठबंधन की सरकार बनना शिवसेना के रुख पर निर्भर है जबकि कांग्रेस अगर शिवसेना-एनसीपी की सरकार को समर्थन देने पर विचार करे तो भी राज्य में नई सरकार बन सकती है। फिलहाल सभी राजनीतिक दल सियासी सौदेबाज़ी में जुटे हैं और बहुत संभलकर ही पत्ते खोल रहे हैं।  

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें