loader

महाराष्ट्र: विधान परिषद के लिए निर्विरोध चुने जाएंगे सीएम उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे विधान परिषद के लिए निर्विरोध निर्वाचित हो जाएंगे। कांग्रेस ने रविवार को कहा है कि वह उसके दो में से एक नेता का नामांकन वापस ले लेगी। महाराष्ट्र में विधान परिषद की 9 सीटों के लिए 21 मई को चुनाव होने हैं। 

महाराष्ट्र कांग्रेस के अध्यक्ष बाला साहेब थोराट ने कहा, ‘हमारे दो नेताओं ने नामांकन किया था लेकिन हमने इसमें से सिर्फ़ एक ही को मैदान में उतारने का फ़ैसला किया है।’ उन्होंने कहा कि राज्य की महा विकास अघाडी सरकार में शामिल तीनों दलों (शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी) की ओर से चुनाव में 5 उम्मीदवार उतारे जाएंगे। बीजेपी ने 4 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं। 

ख़ास ख़बरें

अब 9 सीटों के लिए 9 ही उम्मीदवार मैदान में हैं। ऐसे में चुनाव कराने की नौबत नहीं आएगी। नामांकन भरने की अंतिम तारीख़ 12 मई है और नाम वापस लेने की अंतिम तारीख़ 14 मई है। 

चूंकि उद्धव ठाकरे विधानसभा या विधान परिषद में से किसी भी सदन के सदस्य नहीं थे, इसलिए उन्हें मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के 6 माह के भीतर किसी एक सदन के लिए निर्वाचित होना ज़रूरी था। इससे पहले शिवसेना के प्रवक्ता संजय राउत ने कहा था कि उद्धव ठाकरे का मानना है कि विधान परिषद के लिए चुनाव निर्विरोध होना चाहिए। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

उद्धव ठाकरे के विधान परिषद का सदस्य बनने को लेकर ख़ासी गहमागहमी हुई थी क्योंकि कोरोना संकट के कारण इन चुनावों को टालने की स्थिति आ गई थी। राज्य कैबिनेट की ठाकरे को विधान परिषद का सदस्य मनोनीत करने की सिफ़ारिश पर राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने लंबे समय तक जवाब नहीं दिया था। बाद में चुनाव आयोग के राज्य में चुनाव कराने के निर्देश दिए थे। 

बीजेपी में घमासान जोरों पर 

दूसरी ओर, महाराष्ट्र बीजेपी में विधान परिषद चुनाव में टिकट बंटवारे को लेकर घमासान सड़कों पर आ गया है। बीजेपी ने गोपीचंद पडलकर, रणजीत सिंह मोहिते पाटिल, प्रवीण दटके और डॉ. अजीत गोपछडे को मैदान में उतारा है जबकि देवेंद्र फडणवीस सरकार में राजस्व मंत्री रहे एकनाथ खडसे, पंकजा मुंडे, विनोद तावड़े, चंद्रशेखर बावनकुले जैसे वरिष्ठ नेताओं को मौका नहीं दिया गया है। टिकट बंटवारे को लेकर वरिष्ठ नेता एकनाथ खडसे ने कहा है कि जिन्हें टिकट दिया गया है वे दूसरी पार्टी से आए नेता हैं तथा इसमें से एक ने ‘नरेंद्र मोदी गो बैक’ के नारे भी लगाए हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें