loader

नवाब मलिक, देशमुख राज्यसभा चुनाव में वोट नहीं डाल सकते: कोर्ट

मुंबई की एक विशेष अदालत ने गुरुवार को कहा है कि गिरफ़्तार राकांपा नेता- नवाब मलिक और अनिल देशमुख राज्यसभा चुनाव में वोट नहीं डाल सकते हैं। अदालत ने दोनों नेताओं द्वारा दायर याचिकाओं को खारिज कर दिया। उनमें राज्यसभा चुनाव में मतदान के लिए शुक्रवार को विधानसभा जाने की अनुमति मांगी गई थी। 

मनी लॉन्ड्रिंग के अलग-अलग मामलों में गिरफ्तार नवाब मलिक और देशमुख दोनों ने राज्य की छह सीटों पर आगामी राज्यसभा चुनाव में वोट डालने के लिए एक दिन की जमानत की मांग करते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया था। दोनों अब हाईकोर्ट जा सकते हैं। महाराष्ट्र के पूर्व मंत्री अनिल देशमुख के वकील ने आदेश की प्रमाणित प्रति जल्द से जल्द मांगी है ताकि वे आज उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटा सकें।

ताज़ा ख़बरें

कोर्ट का यह फ़ैसला मतदान से एक दिन पहले आया है। इस चुनाव में हर वोट काफी मायने रखता है। महाराष्ट्र की छह राज्यसभा सीटों पर 10 जून को चुनाव होने हैं। राज्य की 6 राज्यसभा सीटों के लिए 7 उम्मीदवारों के मैदान में उतरने से माहौल गरमा गया है।

महाराष्ट्र में भारतीय जनता पार्टी के 105 विधायक हैं। जिनमें से दो राज्यसभा सांसद तो आराम से चुने जा सकते हैं। राज्य में राज्यसभा सांसद को चुनने के लिए 42 वोटों की ज़रूरत है। इस हिसाब से बीजेपी के पास दो सांसद चुनने के बाद कुल 21 वोट बचते हैं। अगर बीजेपी निर्दलीय विधायकों और कुछ छोटी पार्टियों को अपने खेमे में कर लेती है तो फिर बीजेपी की तीसरी सीट निकल सकती है। ऐसा ही कुछ शिवसेना भी करना चाहेगी।

शिवसेना को एक उम्मीदवार चुनने के बाद 27 वोटों की ज़रूरत पड़ेगी जिसमें उसे कांग्रेस, एनसीपी और निर्दलीय विधायकों को इकट्ठा करना होगा।

शिवसेना ने दो उम्मीदवार संजय राउत, संजय पवार को उतारा है। बीजेपी ने तीन उम्मीदवार उतारे हैं- पीयूष गोयल, अनिल बोंडे और धनंजय महादिक। एनसीपी और कांग्रेस ने एक-एक उम्मीदवार प्रफुल्ल पटेल और इमरान प्रतापगढ़ी को नामित किया है।

ऐसी ही स्थिति में महाविकास अघाडी के लिए एनसीपी के इन दो नेताओं के वोट काफी मायने रखते हैं। बता दें कि महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक फरवरी में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा मनी लॉन्ड्रिंग मामले में गिरफ्तारी के बाद से जेल में हैं। राज्य के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख भी इसी तरह के आरोपों में जेल में हैं।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

अदालत में दायर अपनी याचिका में नवाब मलिक ने बताया था कि वह एक निर्वाचित विधायक हैं और राज्यसभा के लिए एक प्रतिनिधि चुनने में अपने निर्वाचन क्षेत्र के निवासियों का प्रतिनिधित्व करने के लिए कर्तव्यबद्ध हैं।

राज्यसभा के इस चुनाव में छोटे दल और निर्दलीय के 29 विधायक एक बड़ी भूमिका निभाएंगे। राजनीतिक दल अपने-अपने उम्मीदवारों को जीताने के लिए विधायकों को अपने पाले में करने की कसरत कर रहे हैं। विधायकों की तोड़फोड़ की आशंका के मद्देनज़र उन्हें होटलों में ठहराया गया है।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें