loader

महाराष्ट्र संकट: कोश्यारी के बाद अब सीएम ठाकरे भी कोरोना पॉजिटिव

महाराष्ट्र में सियासी संकट के बीच मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। जिसके बाद उन्होंने अपने आपको आइसोलेट कर लिया है। कांग्रेस नेता कमलनाथ ने ठाकरे के कोविड पॉजिटिव होने की पुष्टि की है। इससे पहले राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी कोरोना पॉजिटिव हो गए थे। 

बुधवार दोपहर को उद्धव ठाकरे, शरद पवार और कमलनाथ की मुलाकात होनी थी लेकिन उद्धव ठाकरे की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद यह मुलाकात रद्द हो गई है। 

कमलनाथ ने कहा कि मुख्यमंत्री ठाकरे की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है लिहाजा डॉक्टरों ने उन्हें आइसोलेशन में रहने की सलाह दी है।

ताज़ा ख़बरें

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद कैबिनेट की बैठक हुई। इसमें 8 मंत्री गैर हाजिर रहे। 

भंग होगी विधानसभा?

महाराष्ट्र में हर पल सियासी समीकरण बदलते जा रहे हैं। एक ओर जहां शिवसेना के बागी विधायक सूरत से गुवाहाटी चले गए हैं। वहीं, दूसरी ओर शिवसेना सांसद और प्रवक्ता संजय राउत ने महाराष्ट्र में चल रही अनिश्चितता को और बढ़ा दिया है। राउत ने ट्वीट करके कहा है कि महाराष्ट्र में जिस तरह का राजनीतिक संकट चल रहा है वह विधानसभा भंग होने की ओर ले जा रहा है। 

इससे साफ हो गया है कि शिवसेना ने बागी विधायक एकनाथ शिंदे के सामने हथियार डाल दिए हैं और अब महाराष्ट्र की विधानसभा भंग हो सकती है। राजनीतिक पंडित राउत के इस ट्वीट का सिर्फ एक ही मतलब निकाल रहे हैं कि महाराष्ट्र में महा विकास आघाडी सरकार अब खत्म होने की दिशा में है। 

दूसरी ओर मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बेटे और राज्य के पर्यटन मंत्री आदित्य ठाकरे ने अपने टि्वटर हैंडल के बायो से मंत्री होने का जिक्र हटा दिया है। 

महाराष्ट्र से और खबरें

पाटील को लगाई फटकार

सूत्रों का कहना है कि शरद पवार ने महाराष्ट्र के गृह मंत्री दिलीप वलसे पाटील को जमकर फटकार लगाई है। पवार ने पाटील से पूछा कि 40 से ज्यादा विधायक और मंत्री मुंबई से बाहर चले गए लेकिन सुरक्षा विभाग सोता रहा और उसे कानों कान खबर नहीं लगी। 

जिस तरह एकनाथ शिंदे के साथ 40 से भी ज्यादा विधायकों का समर्थन हो गया है उससे ऐसा लगता है कि महाराष्ट्र में महा विकास आघाडी सरकार का अंत नजदीक आ गया है। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें