loader

हिरेन की मौत का मामला : पुलिस अफ़सर सचिन वझे पद से हटाए गए

मुकेश अंबानी सुरक्षा मामले में विवादों के घेरे में आए मुंबई पुलिस के अफ़सर सचिन वझे को पद से हटा दिया गया है। महाराष्ट्र के गृह मंत्री अनिल देशमुख ने कहा है कि मनसुख हिरेन की मौत की जाँच पूरी होने तक सचिन वजे को मुंबई पुलिस की अपराध ख़ुफ़िया ईकाई से हटा दिया गया है। 

देशमुख ने विधान परिषद में यह ऐलान किया है। उन्होंने कहा, "पुलिस अफ़सर सचिन वझे को जाँच पूरी तक क्राइम ब्रांच से हटाया जाता है। विपक्ष की लगातार हो रही माँग के मद्देनज़र यह कदम उठाया गया है।"

उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र पुलिस मनसुख हिरेन की मौत के मामले की जाँच करेगी। 

ख़ास ख़बरें

क्या है मामला?

बता दें कि 25 फरवरी को उद्योगपति मुकेश अंबानी के घर के पास जिलेटिन लदी जो गाड़ी पाई गई थी, वह मनुख हिरेन की थी। पुलिस का कहना है कि मनसुख की गाड़ी 18 फरवरी को चुरा ली गई थी। लेकिन यह रहस्य तब और गहरा हो गया जब हिरेन की लाश थाणे के पास समुद्र में पाई गई। 

महाराष्ट्र विधानसभा में विपक्ष के नेता देवेंद्र फड़नवीस ने सचिन वझे के ख़िलाफ़ कार्रवाई की माँग की थी। गृह मंत्री देशमुख ने कहा कि जाँच में वझे के दोषी पाए जाने पर उनके ख़िलाफ़ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। 

बता दें कि इसके पहले ही मनसुख हिरेन की मौत के मामले में महाराष्ट्र एटीएस ने हत्या का केस दर्ज कर लिया। एंटी टेररिस्ट स्क्वाड यानी एटीएस के बड़े अधिकारी का कहना है कि इस मामले में आईपीसी की धारा 302 के तहत हत्या, धारा 120 बी यानी आपराधिक साज़िश रचने और धारा 201 के तहत सुबूत मिटाने का केस मनसुख की पत्नी की शिकायत के बाद दर्ज किया गया है।

mansukh hire death case : mumbai police officer sachin vaze removed - Satya Hindi
दिवंगत मनसुख हिरेन

एटीएस करेगा जाँच

महाराष्ट्र सरकार ने शुक्रवार को ही मनसुख हिरेन की मौत की जाँच एटीएस को सौंपने का ऐलान किया था। माना जाता है कि इस मामले को एटीएस को इसलिए जाँच सौंपी गई है क्योंकि इस मामले के पीछे आतंकियों का हाथ होने की आशंका है।  

एटीएस के एक बड़े अधिकारी ने कहा था कि चूँकि इस मामले की जाँच मुंबई क्राइम ब्रांच की क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट भी कर रही थी इसलिए सीआईयू से भी इस केस के तमाम कागजात और सबूत अपने कब्जे में ले लिए हैं। एटीएस ने इस मामले की जाँच करने के लिए तीन टीमों का गठन कर दिया है। इस जाँच की निगरानी एक डीसीपी स्तर का अधिकारी करेगा और समय-समय पर पूरी जानकारी एटीएस चीफ़ को देता रहेगा। स्कॉर्पियो गाड़ी से जिलेटिन की छड़ें मिली थीं और एक आतंकी संगठन ने इसकी ज़िम्मेदारी ली थी तो इस मामले की जांच आतंकी एंगल से भी की जाएगी।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें