loader

मलिक ने पूछा- महाराष्ट्र पुलिस से 5 बड़े केस लेने के पीछे एनसीबी का मंसूबा क्या?

ड्रग्स क्रूज मामले में एनसीबी और मुंबई में इसके ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर हमलावर रहे नवाब मलिक ने अब एनसीबी की एक और कार्रवाई पर गंभीर सवाल खड़े किए हैं।

महाराष्ट्र के मंत्री मलिक ने कहा है कि एनसीबी ने राज्य पुलिस के एंटी नारकोटिक्स सेल यानी एएनसी से अपने 'शीर्ष पांच मामलों' को केंद्रीय एजेंसी को स्थानांतरित करने के लिए कहा है। इसी को लेकर नवाब मलिक ने केंद्र सरकार के मंसूबों पर संदेह जताया है। उन्होंने ट्विटर पर एनसीबी के ख़त को ट्वीट किया है और लिखा है, इस पत्र को पढ़ने पर एनसीबी की मंशा संदिग्ध लगती है? जब एनडीपीएस अधिनियम में ऐसा करने का कोई प्रावधान नहीं है तो वे राज्य सरकार के अधिकारों का उल्लंघन करने की कोशिश क्यों कर रहे हैं? क्या कोई दूसरा मक़सद है? एनसीबी को भारत के नागरिकों को जवाब देना चाहिए।'

इसके अलावा सोशल मीडिया पर साझा किए गए एक वीडियो में उन्होंने दावा किया कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो यानी एनसीबी द्वारा राज्य की एजेंसी एएनसी को भेजे गए पत्र के लिए केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के फ़ैसले ज़िम्मेदार हैं।

नवाब मलिक ने जिस ख़त का ज़िक्र किया है उसे एनसीबी के महानिदेशक एस एन प्रधान ने 24 नवंबर को महाराष्ट्र के पुलिस महानिदेशक को लिखा है। उन्होंने कहा कि उस ख़त में एनसीबी को सौंपे जाने के लिए उपयुक्त पांच मामलों की सूची मांगी गई है।

एनसीपी नेता मलिक ने कहा कि पत्र में मांग की गई है कि राज्य सरकारें 'अंतर-राज्यीय और अंतरराष्ट्रीय' प्रभाव वाले मामलों की सूची तैयार करें और पूरे नेटवर्क का पता लगाने में मदद करने के लिए उन्हें एनसीबी को सौंपने पर विचार करें। इसको लेकर मलिक ने कहा, 'हम जानना चाहते हैं कि शीर्ष पांच मामलों के चयन के लिए मानदंड क्या है। क्या वे वही हैं जो सुर्खियों में रहे हैं?' 

ताज़ा ख़बरें

उन्होंने पूछा कि इस तरह के मामलों के स्थानांतरण के लिए नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटेंस (एनडीपीएस) अधिनियम में कोई प्रावधान नहीं होने के बावजूद राज्यों के अधिकारों का इस तरह से उल्लंघन क्यों किया जा रहा है। 

वैसे, इम मामले में केंद्रीय एजेंसी में केंद्र के मंसूबों पर सवाल उठाने वाले नवाब मलिक पहले एनसीबी मुंबई और बीजेपी नेताओं के संबंध पर सवाल उठा चुके हैं। क्रूज ड्रग्स मामले में एनसीपी नेता ने ये सवाल तब उठाए थे जब एक वीडियो सामने आया था।

उन्होंने बीजेपी से जुड़े केपी गोसावी और प्राइवेट डिटेक्टिव मनीष भानुशाली का वह वीडियो ट्वीट किया था जिसमें दोनों एक सफेद गाड़ी से उतरकर एनसीबी कार्यालय में घुसते दिखे थे। उन्होंने ट्वीट में लिखा था, 'किरण पी गोसावी और मनीष भानुशाली का उसी रात एनसीबी कार्यालय में प्रवेश करने का यह वीडियो है जिस रात क्रूज जहाज पर छापा मारा गया था।' हालाँकि इस मामले में बाद में एनसीबी ने सफाई दी थी कि वे क्रूज ड्रग्स मामले में गवाह थे। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

नवाब मलिक ने इसके अलावा एक और आरोप लगाया था कि मोहित कंबोज के रिश्तेदार को क्यों छोड़ा गया। मलिक का कहना था कि एनसीबी ने कॉर्डेलिया क्रूज़ ड्रग्स मामले में 11 अभियुक्तों को गिरफ़्तार किया था, लेकिन उनमें से तीन को छोड़ दिया गया। मलिक ने आरोप लगाया था कि बीजेपी नेताओं के दवाब में एनसीबी ने तीन लोग- ऋषभ सचदेव, प्रतीक गाबा और आमिर फ़र्नीचरवाला को हिरासत में लेने के कुछ घंटों बाद ही छोड़ दिया था। इनमें से एक ऋषभ सचदेव बीजेपी नेता मोहित कंबोज (भारतीय) का साला है। इस पर एनसीबी ने सफ़ाई दी थी कि क्रूज़ से 14 लोगों को हिरासत में लिया गया था, लेकिन छह लोगों को सबूतों के अभाव में छोड़ दिया था। 

इसके अलावा भी मलिक लगातार एजेंसी और समीर वानखेड़े पर सवाल खड़े करते रहे हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें