loader

मनी लॉन्ड्रिंग केस: SC ने नहीं सुनी मलिक की जमानत याचिका

सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में महाराष्ट्र सरकार के कैबिनेट मंत्री और एनसीपी के नेता नवाब मलिक की जमानत याचिका पर सुनवाई से इनकार कर दिया। शीर्ष अदालत ने कहा कि नवाब मलिक इस मामले में जमानत के लिए ट्रायल कोर्ट के पास जाएं। नवाब मलिक की ओर से पेश हुए सीनियर एडवोकेट कपिल सिब्बल ने मलिक को गिरफ्तार किए जाने पर सवाल उठाया। 

बता दें कि जांच एजेंसी ईडी ने इस साल फरवरी में नवाब मलिक को गिरफ्तार कर लिया था। नवाब मलिक की गिरफ्तारी दाऊद इब्राहिम और अंडरवर्ल्ड से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में की गई थी। 

ताज़ा ख़बरें

जमानत याचिका को खारिज करते हुए जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने कहा कि यह मामला अभी शुरुआती दौर में है और अभी शीर्ष अदालत का इसमें दखल देना ठीक नहीं होगा। इसलिए जमानत के लिए नवाब मलिक के वकील को उचित अदालत के पास जाना चाहिए। जबकि कपिल सिब्बल ने अपनी दलील में कहा कि हाई कोर्ट ने यह टिप्पणी की थी कि इस मामले में जांच की कोई जरूरत नहीं है। लेकिन सॉलिसिटर जनरल ने उनकी दलील को काटते हुए कहा कि हाई कोर्ट ने इस तरह की कोई टिप्पणी नहीं की थी। 

क्या है मामला?

नवाब मलिक पर आरोप है कि उन्होंने दाऊद इब्राहिम के सहयोगी सरदार शाह वली खान, दाऊद इब्राहिम की बहन हसीना पारकर के साथ मिलकर एक डील की थी।

चार्जशीट दाखिल 

ईडी ने गुरूवार को इस मामले में चार्जशीट दाखिल कर दी है। चार्जशीट में ईडी ने नवाब मलिक के अलावा सॉलिड्स इन्वेस्टमेंट प्राइवेट लिमिटेड कंपनी, मलिक इंफ्रास्ट्रक्चर, दाऊद इब्राहिम के परिवार और दूसरे लोगों के नाम शामिल किए हैं। इस मामले में नवाब मलिक के ख़िलाफ़ यह पहली चार्जशीट है।

ईडी ने चार्जशीट में बताया है कि नवाब मलिक ने कुर्ला में हसीना पारकर और 1993 के बम धमाकों के आरोपी सरदार शाह वली खान से पौने 3 एकड़ का प्लॉट खरीदा था और इसके लिए पैसा भी दिया गया था। 

महाराष्ट्र से और खबरें

ईडी ने नवाब मलिक पर आरोप लगाया है कि मलिक ने जो पैसा सरदार शाह वली खान को दिया था वह पैसा हसीना पारकर के ज़रिए दाऊद इब्राहिम तक पहुंचा था जिसका इस्तेमाल टेरर फंडिंग में किया गया था।

ईडी ने चार्जशीट में बताया है कि नवाब मलिक ने यह डील 2003 से लेकर 2005 के बीच में की थी और उसके बाद मलिक ने इस ज़मीन पर निर्माण करके उसे किराए पर दे दिया था और इस प्रॉपर्टी से नवाब मलिक के परिवार के लोगों ने क़रीब 12 करोड़ रुपये की कमाई की थी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें