loader

नवाब मलिक : एनसीबी ने किया फ़र्जीवाड़ा, लोगों को झूठे मामलों में फँसाया

केंद्र सरकार की एजेन्सी नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) और महाराष्ट्र सरकार के बीच टकराव बढ़ता ही जा रहा है।

इसमें गुरुवार को एक नाटकीय मोड़ आया जब सत्तारूढ़ दल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के वरिष्ठ नेता नवाब मलिक ने एनसीबी पर गंभीर आरोप लगाए।

उन्होंने कहा कि इस केंद्रीय एजेन्सी ने उनके दामाद समीर ख़ान और दूसरे दो लोगों को इस साल जनवरी में एक झूठे मामले में फँसा दिया।

क्या कहना है नवाब मलिक का?

नवाब मलिक ने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर लोगों को दो तसवीरें दिखाईं और कहा कि ड्रग्स बरामदगी की जिस जगह को दिखाया जा रहा है, वह दरअसल एनसीबी का दफ़्तर है।

उन्होंने पहले उस तसवीर को दिखाया जिसके बारे में एनसीबी का कहना है कि वह ड्रग्स बरामदगी की जगह है।

उसके बाद उन्होंने फ़र्श और कुर्सियों की तसवीर दिखाई जिससे लगता है कि वह एनसीबी का दफ़्तर है। इससे यह लगता है कि ड्रग्स की बरामदगी एनसीबी के दफ़्तर में हुई।

फँसाने का आरोप

नवाब मलिक ने यह भी कहा कि एनसीबी का कहना है कि ड्रग्स की बरामदगी अपराध के स्थल से हुई थी।

एनसीपी के इस नेता ने एनसीबी पर दूसरे गंभीर आरोप भी लगाए। उन्होंने कहा कि दो सौ किलोग्राम गाँजा बरामद किया गया, लेकिन केमिकल एनलाइज़र रिपोर्ट में पाया गया कि वह हर्बल टुबैको यानी एक ख़ास किस्म का तंबाकू है, जो प्रतिबंधित नहीं है। उन्होंने कहा, 

यह वाकई चौंकाने वाला है कि एनसीबी के लोगों को तंबाकू और गाँजा में अंतर नहीं मालूम है।


नवाब मलिक, नेता, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी

मलिक ने कहा कि एनसीबी के लोगों के पास किट होता है, जिससे तुरन्त यह पता चल जाता है कि बरामद की हुई चीज ड्रग्स है या नहीं, इसके बावजूद ये लोग नहीं समझ पाए कि बरामद की गई वस्तु नारकोटिक्स है या नहीं। उन्होंने कहा, 

यह लोगों को झूठे मामले में फँसाने का साफ केस है और मैं यह बात पहले दिन से कह रहा हूँ कि फ़र्जीवाड़ा किया जा रहा है।


नवाब मलिक, नेता, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी

शरद पवार का आरोप

बता दें कि इसके पहले एनसीपी के सबसे बड़े नेता शरद पवार ने भी इस तरह का आरोप लगाया है।

पवार का कहना है कि केंद्र सरकार सीबीआई, प्रवर्तन निदेशालय, इनकम टैक्स और नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो का इस्तेमाल विपक्ष को दबाने के लिए कर रही है।

nawab malik slams NCB - Satya Hindi

पवार ने एनसीबी के कामकाज पर सवाल उठाते हुए कहा है कि यह एजेंसी केंद्र सरकार के दबाव में काम करती है और फ़िल्म इंडस्ट्री को बदनाम कर रही है।

शरद पवार ने एनसीबी के कामकाज पर सवाल उठाते हुए कहा कि यह केंद्र की बड़ी एजेंसी है, लेकिन मुंबई पुलिस की एन्टी नारकोटिक्स सेल के मुकाबले ड्रग्स के ख़िलाफ़ कम काम कर रही है। उन्होंने कहा कि एनसीबी ने पिछले कुछ महीनों में काफी कम मात्रा में ड्रग्स बरामद किया है जबकि मुंबई पुलिस की एएनसी ने ज्यादा ड्रग्स बरामद किया है।

शरद पवार ने आर्यन ख़ान मामले में कहा कि एनसीबी ने क्रूज़ पर छापेमारी के दौरान ऐसे गवाहों को चुना जिनके ऊपर पहले से केस दर्ज हैं। ऐसे में सवाल उठ रहा है कि कहीं समीर वानखेड़े के ऐसे लोगों से पहले से तो संबंध नहीं हैं।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें