loader

मुंबई : लाल बाग़ का राजा मंडल इस बार नहीं बैठाएगा गणेश की प्रतिमा

कोरोना महामारी ने न सिर्फ आम आदमी की ज़िंदगी में उथल पुथल मचाई है, बल्कि धार्मिक आयोजनों पर भी इसका साया पड़ रहा है। मुंबई और महाराष्ट्र के सबसे लोकप्रिय गणेशोत्सव मंडल लाल बाग़ का राजा ने इस साल भगवान गणपति की प्रतिमा नहीं बिठाने का निर्णय किया है।

आरोग्य उत्सव

मंडल का कहना है कि सरकार ने चार फुट तक की प्रतिमा स्थापित करने की अनुमति दे रखी है, लेकिन लाल बाग़ के राजा की प्रसिद्धि इतनी है कि दर्शन के लिए लाखों भक्त जमा होने लगेंगे और उन्हें नियंत्रित करने में बहुत दिक्क़तें आएंगी। ऐसे में लोगों की सुरक्षा का ध्यान रखते हुए इस साल न कोई मूर्ति लगेगी, न ही विसर्जन किया जाएगा। मंडल ने कहा है कि इस साल गणेशोत्स्व की बजाय ‘आरोग्य उत्सव’ मनाया जाएगा।
महाराष्ट्र से और खबरें
मंडल ने इस बार 11 दिनों की गणपति बप्पा की मूर्ति स्थापित करने की बजाय 11 दिनों तक रक्तदान शिविर और प्लाज्मा थेरेपी कार्यक्रम आयोजित करने का निर्णय किया है।

महाराष्ट्र इस समय देश का सबसे ज्यादा संक्रमित प्रदेश है और यहाँ कोरोना मरीजों की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है। इस संकट को ध्यान में रखते हुए मंडल ने यह महत्वपूर्ण निर्णय लिया है। 

प्लाज़्मा दान

गणेशोत्सव मंडल के मानद सचिव सुधीर सालवी ने कहा, ‘मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे की अपील को ध्यान में रखते हुए हमने चिकित्सालय के साथ मिलकर प्लाज्मा थेरैपी के लिए सहयोग करने का निर्णय किया है। जो भी कोरोना से ठीक हुए हैं, उन्हें चिकित्सालय ले जाकर देखभाल के साथ उनसे प्लाज्मा दान कराया जाएगा।’

उन्होंने कहा कि ‘मुंबई में जिन चिकित्सालयों में रक्त  की कमी है, हमारे कार्यकर्ता वहाँ जाकर रक्तदान कर रहे हैं। इसके अलावा 11 दिनों तक विशेष रक्तदान मुहिम भी चलाई जाएगी।’

'मिशन प्लैटिना'

बता दें कि महाराष्ट्र में कोरोना से लड़ने के लिए मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने एक दिन पहले ही ‘मिशन प्लेटिना’ नामक मुहिम की शुरुआत की थी, जिसमें पाँच सौ कोरोना पीड़ितों पर प्लाज्मा थेरैपी का प्रयोग किया जाना है।

इस बार गणेशोत्सव नहीं होने से देश भर से लालबाग का राजा का दर्शन करने के लिए आने वाले लाखों श्रद्धालुओं को अगले साल का इंतजार करना होगा। लालबाग के राजा के दर्शन के लिए बड़े-बड़े नेता,अभिनेता से लेकर आम आदमी तक आया करते थे। इनमें उन लोगों की भी लम्बी कतार हुआ करती थी। जो पिछली बार मन्नत मानकर जाते थे और पूरी होने पर अपना चढ़ावा बप्पा के चरणों में चढ़ाते थे। यहाँ श्रद्धालुओं की औसतन पाँच  किलोमीटर लंबी कतारें लगती थीं और हर साल करोड़ों रुपये का चढ़ावा चढ़ाया जाता था।

करोड़ों का चढ़ावा

इस राशि का इस्तेमाल आयोजन मंडल वर्ष भर सामाजिक कार्यों में करता है। इस मंडल के कई अस्पताल और एम्बुलेंस हैं जहाँ गरीबों का निःशुल्क इलाज किया जाता है। प्राकृतिक आपदाओं में राहत कोष के लिए भी ‘लालबागचा मंडल’ आर्थिक रूप से मदद करता है। 1959 में ‘कस्तूरबा फंड’, 1947 में ‘महात्मा गांधी मेमोरियल फंड’ के लिए भी यहाँ से सहयोग दिया गया है।

शिवाजी के समय शुरू हुआ उत्सव

ऐतिहासिक तथ्यों के अनुसार, महाराष्ट्र में गणेशोत्सव का प्रारंभ छत्रपति शिवाजी महाराज के शासनकाल में प्रारंभ हुआ था। उन्होंने लोगों में राष्ट्रवाद और संस्कृति को बढ़ावा देने के लिए इसका आयोजन शुरू किया था। यह पेशवाओं के शासन काल तक चला, भगवान गणेश उनके पूज्य थे।
इसके बाद स्वतंत्रता आंदोलन के समय बाल गंगाधर तिलक ने लोगों को एकता के सूत्र में बाँधने के लिए गणेशोत्सव की दोबारा शुरुआत कराई, ताकि सभी लोग एक जगह एकत्र होकर गणेश जी की पूजा करें।
अंग्रेजों द्वारा सार्वजनिक रूप से लोगों के एकत्र होने पर पाबंदी लगाए जाने पर तिलक ने इस समारोह के माध्यम से राजनीतिक गतिविधियों को आगे बढ़ाया था। यहाँ धार्मिक कर्तव्यों के साथ-साथ स्वतंत्रता संग्राम और सामाजिक मुद्दों पर भी विचार विमर्श किया जाता था।

कहानी लाल बाग की

लाल बाग़ के राजा की शुरुआत को लेकर जो बताया जाता है वह कहानी इस प्रकार है। किसी जमाने में मुंबई का लाल बाग सब्जी, फल और अनाज व किराने का सबसे बड़ा थोक बाज़ार हुआ करता था। लेकिन यहाँ के व्यापारियों का कारोबार घाटे में चलने लगा तो उन्होंने एक खुली जगह पर लाल बाग के राजा के पंडाल की स्थापना की थी। लाल बाग के राजा की मूर्ति स्थापित हो जाने के बाद व्यापारियों की मनोकामना पूरी हो गयी। इसके बाद से ही यहाँ लाल बाग के राजा की स्थापना हर साल होने लगी।

मुसलमान ने दी थी ज़मीन

लाल बाग के गणपति का उत्सव साल दर साल और भव्य होता गया। इस मंडल की स्थापना वर्ष 1934 में अपने मौजूदा स्थान पर (लालबाग, परेल) हुई थी।
क्षेत्र के पूर्व पार्षद कुंवरजी जेठाभाई शाह, डॉ॰ वी.बी. कोरगाँवकर और स्थानीय निवासियों के लगातार प्रयासों के बाद इस ज़मीन के मालिक रजबअली तय्यबअली ने बाजार के निर्माण के लिए एक भूखंड देने का फ़ैसला किया।
इसी बाज़ार परिसर में हर साल लालबाग के राजा का आगमन बहुत शान के साथ होता है। मुम्बई में गणेश उत्सव के दौरान सभी की नज़र प्रसिद्ध 'लालबाग के राजा' पर होती है और इन्हें 'मन्नतों का गणेश' कहा जाता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
संजय राय
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें