loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

पाँच रुपये दीजिए और लॉकडाउन से बचिए!

यदि आपको मौक़ा मिले तो आप लॉकडाउन पसंद करेंगे या हर घंटे पाँच रुपये देना? चौंकिए नहीं, लॉकडाउन से बचने के लिए यह तरकीब प्रशासन ने ही निकाली है। महाराष्ट्र के नाशिक शहर प्रशासन का यह मामला है। प्रशासन का मानना है कि कोरोना संक्रमण के फैलने से रोकने के लिए भीड़ नहीं हो इसके लिए लॉकडाउन लगाया जाता है, लेकिन यदि भीड़ कम करने के दूसरे तरीक़े अपनाए जाएँ तो बेहतर होगा। 

यही सोच के साथ नाशिक प्रशासन ने लोगों से बाज़ार में निकलने के लिए शुल्क वसूलना शुरू कर दिया है। शहर को लॉकडाउन का ऐसा डर इसलिए है कि महाराष्ट्र में काफ़ी तेज़ी से संक्रमण बढ़ा है और इसको रोकने के लिए ज़िले और शहर के स्तर पर लॉकडाउन लगाया जा रहा है। 

ताज़ा ख़बरें

अब तक कई ज़िलों और शहरों में काफ़ी सख्ती की गई है। महाराष्ट्र ही देश में सबसे ज़्यादा प्रभावित राज्य है। 30 जनवरी को महाराष्ट्र में 27 हज़ार से ज़्यादा कोरोना के नये मामले सामने आए। रविवार को राज्य में एक दिन में 40 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले आए थे। सोमवार को 31 हज़ार से ज़्यादा मामले आए। क़रीब हफ़्ते भर से राज्य में हर रोज़ 30 हज़ार से ज़्यादा मामले आ रहे हैं। इस बीच राज्य में 28 मार्च से ही रात का कर्फ्यू लगा दिया गया है। सार्वजनिक सभाओं पर भी प्रतिबंध लगाया जा चुका है। अब लॉकडाउन लगाए जाने की चर्चा भी चल रही है।

लॉकडाउन की इसी आशंका के मद्देनज़र नासिक शहर प्रशासन ने ऐसा फ़ैसला लिया। 'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, नासिक शहर के पुलिस आयुक्त दीपक पांडे ने कहा, 'हम नासिक में फैले कोरोना को रोकने के लिए एक अलग दृष्टिकोण अपना रहे हैं। हम बाज़ार में प्रवेश करने के लिए प्रति व्यक्ति 5 रुपये का टिकट एक घंटे के लिए जारी कर रहे हैं। यह शहर को लॉकडाउन से बचाने का प्रयास है।'

ऐसा फ़ैसला तब लिया गया है जब महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा कि अब लॉकडाउन की तैयारी करें।

हालाँकि, लॉकडाउन का विरोध भी हो रहा है। बीजेपी से ही नहीं, उद्धव सरकार के गठबंधन के सहयोगी दल एनसीपी से भी। एनसीपी नेता नवाब मलिक का कहना है कि लॉकडाउन से लोगों की नौकरियाँ जाएँगी और अर्थव्यवस्था तबाह हो जाएगी। बीजेपी ने तो विरोध-प्रदर्शन की चेतावनी दी है।

एनसीपी के प्रवक्ता और राज्य मंत्री नवाब मलिक ने कहा, 'अधिकांश कैबिनेट सदस्य लॉकडाउन के ख़िलाफ़ हैं। पहले लॉकडाउन में लोगों को बड़ी संख्या में अपनी नौकरी गंवानी पड़ी और अर्थव्यवस्था ध्वस्त हो गई।'

pay 5 rupees an hour to enter market  to avoid lockdown in nashik city - Satya Hindi

एनसीपी के मलिक ने कहा कि दूसरे लॉकडाउन के बजाय स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे को मज़बूत करने, टीकाकरण को बढ़ावा देने और कोविड नियमों को लागू करने के लिए सभी प्रयास किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा, 'निगरानी बहुत ख़राब है। परिणामस्वरूप, लोग बिना मास्क के सड़कों पर घूम रहे हैं। वार्ड अधिकारियों पर ज़िम्मेदारी तय की जानी चाहिए।' 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

शिवसेना सांसद और पार्टी के नेता संजय राउत ने कहा कि उन्होंने ठाकरे से बात की थी और सुझाव दिया था कि लॉकडाउन के बजाय और सख्त अंकुश लगाया जा सकता है।

उन्होंने कहा था कि लॉकडाउन अर्थव्यवस्था के लिए नुक़सानदेह हो सकता है। राउत ने कहा, 'मैं पूर्ण लॉकडाउन के पक्ष में नहीं हूँ। श्रमिक वर्ग, व्यवसाय और आर्थिक चक्र प्रभावित होंगे। मैंने सीएम से बात की और वह भी उसी दृष्टिकोण के पक्ष में हैं।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें