loader

मालेगांव: बड़ी संख्या में इकट्ठा हुए मुसलिम समुदाय के लोग, हिजाब डे मनाया

कर्नाटक से हिजाब को लेकर शुरू हुआ विवाद अब अदालतों के बाद दूसरे राज्यों तक पहुंचने लगा है। शुक्रवार को महाराष्ट्र के मालेगांव में हजारों की संख्या में मुसलिम समुदाय के लोग इकट्ठा हुए और शुक्रवार के दिन को हिजाब डे के तौर पर मनाया। इतनी बड़ी संख्या में लोग जमीयत उलेमा ए हिंद के आह्वान पर इकट्ठा हुए थे। 

इस दौरान हुई सभा में प्रदर्शनकारियों ने कहा कि हिजाब उनका अधिकार है और इस पर लगे बैन को वापस लिया जाना चाहिए। कई संगठनों ने इसे समर्थन भी दिया है। 

इस प्रदर्शन को पुलिस की इजाजत के बिना आयोजित किया गया था। पुलिस ने इस मामले में नियमों का उल्लंघन करने पर जमीयत उलेमा ए हिंद के चार पदाधिकारियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है।

ताज़ा ख़बरें

इसके अलावा एआईएमआईएम के स्थानीय विधायक को नियमों का उल्लंघन करने और प्रदर्शन स्थल पर जाकर भाषण देने पर नोटिस जारी किया गया है। 

उधर, इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने तुरंत सुनवाई से इनकार कर दिया है। सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि इस मामले में सही समय आने पर सुनवाई की जाएगी। सीजेआई एनवी रमना ने कहा कि इस तरह की बातों को राष्ट्रीय स्तर तक ना लाएं। 

कर्नाटक हाई कोर्ट ने गुरुवार को कहा था कि स्कूल और कॉलेजों में तब तक किसी तरह के धार्मिक कपड़े ना पहने जाएं जब तक अदालत इस मामले में कोई फैसला नहीं करती। कर्नाटक की एक छात्रा ने याचिका दायर कर इसे चुनौती दी है। 

महाराष्ट्र से और खबरें

अदालत ने कहा कि हम नहीं जानते कि क्या हो रहा है लेकिन यह सोचा जाना चाहिए कि क्या इस तरह की बातों को दिल्ली लाना ठीक है। सीजेआई ने कहा कि हम यहां पर सभी नागरिकों के मौलिक अधिकारों की सुरक्षा करने के लिए ही बैठे हैं। 

सुनवाई के दौरान सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि जब कर्नाटक हाई कोर्ट का कोई आदेश इस मामले में नहीं आया है तो इसे सुप्रीम कोर्ट में कैसे चुनौती दी जा रही है। उन्होंने कहा कि इस मामले में हाई कोर्ट को फैसला करने दिया जाए और इसे किसी भी तरह का धार्मिक या राजनीतिक रंग नहीं दिया जाना चाहिए।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें