loader

महाराष्ट्र में फ़ैसले लेने में हमारी प्रमुख भूमिका नहीं: राहुल, बीजेपी बोली - भद्दा मजाक

महाराष्ट्र में चल रहे सियासी घमासान के बीच कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा है कि महाराष्ट्र सरकार में फ़ैसले लेने में कांग्रेस की प्रमुख भूमिका नहीं है। 

मंगलवार को ऑनलाइन प्रेस कॉन्फ़्रेंस के दौरान महाराष्ट्र में कोरोना संकट से जुड़े एक सवाल के जवाब में राहुल ने कहा, ‘मैं एक बात का अंतर साफ करना चाहूंगा। हम महाराष्ट्र में सरकार का समर्थन कर रहे हैं लेकिन हम फ़ैसला लेने वाले प्रमुख लोगों में से नहीं हैं।’ 

राहुल ने कहा, ‘हम पंजाब में फ़ैसला लेते हैं, छत्तीसगढ़, राजस्थान और पुडुचेरी में लेते हैं। सरकार चलाने और सरकार को समर्थन देने में अंतर होता है।’ इन राज्यों में कांग्रेस अपने दम पर सरकार चला रही है। 

ताज़ा ख़बरें

राहुल के बयान ने महाराष्ट्र में चल रही सियासी खींचतान को थोड़ा और उलझा दिया है। क्योंकि सरकार में भागीदारी होने के कारण यह माना जा रहा था कि राहुल उद्धव ठाकरे सरकार का कोरोना को लेकर सवालों पर बचाव करेंगे लेकिन उन्होंने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया कि कांग्रेस की सरकार में फ़ैसले लेने में प्रमुख भूमिका नहीं है। 

एक तरह से राहुल ने महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और एनसीपी प्रमुख शरद पवार के बीच चल रही खींचतान से खुद को दूर ही रखने की कोशिश की है। बताया गया है कि पवार लॉकडाउन को ख़त्म करने को तैयार नहीं होने के कारण ठाकरे से थोड़े नाराज हैं।

हालांकि राहुल ने कहा कि कोरोना घनी जगहों में ज़्यादा होता है और महाराष्ट्र ऐसा ही इलाक़ा है। उन्होंने कहा कि महाराष्ट्र बहुत कठिन लड़ाई लड़ रहा है और ऐसे में केंद्र सरकार को महाराष्ट्र सरकार को पूरा सहयोग करना चाहिए। 

कांग्रेस ने कहा है कि इस मामले में राहुल गांधी के बयान को तोड़-मरोड़कर पेश करने की कोशिश की गयी है। शिवसेना की ओर से कहा गया है कि उद्धव ठाकरे सरकार स्थिर है और उसे कोई ख़तरा नहीं है। एनसीपी प्रमुख शरद पवार की बेटी और पार्टी की सांसद सुप्रिया सुले ने कहा है कि उन्होंने राहुल गांधी के बयान को सुना है और उनके मुताबिक़, राहुल ने पूरी तरह सही कहा है। 

दूसरी ओर, एनसीपी नेता मजीद मेमन ने कहा, ‘यह कहना सही नहीं है कि कांग्रेस फ़ैसला लेने वाली प्रक्रिया का हिस्सा नहीं है। कांग्रेस के सदस्य कैबिनेट का हिस्सा हैं और वे बाहर से समर्थन नहीं दे रहे हैं। वे महाराष्ट्र सरकार द्वारा लिए फ़ैसलों पर हस्ताक्षर करते हैं।’ 

राहुल के बयान पर बीजेपी नेता शाइना एनसी ने कहा है कि राहुल गांधी का बयान महाराष्ट्र के लोगों के साथ भद्दा मजाक है। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

'जिम्मेदारी से भागने जैसा बयान'

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने इसे लेकर कहा है कि जब हालात राज्य सरकार के हाथ से निकल रहे हैं, तब इसका सारा ठीकरा मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे और शिवसेना के सिर डालने का प्रयास राहुल गांधी ने किया है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी का बयान अपनी जिम्मेदारी से भागने जैसा है। 

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें