loader

बचाव में उतरीं शिल्पा, बोलीं- राज ने इरोटिक फ़िल्में बनाईं न कि अश्लील

अश्लील फ़िल्म रैकेट मामले में फ़िल्म अभिनेत्री शिल्पा शेट्टी अपने पति राज कुंद्रा के बचाव में उतर आई हैं। शिल्पा ने इस मामले में कहा है कि उनके पति इरोटिक फ़िल्में बनाते थे न कि अश्लील। बता दें कि मुंबई पुलिस की क्राइम ब्रांच ने शिल्पा से शुक्रवार को 6 घंटे से भी अधिक वक़्त तक पूछताछ की थी। क्राइम ब्रांच के अफ़सरों के सामने ही शिल्पा ने यह बयान दिया है। 

शिल्पा ने कहा है कि हॉटशॉट्स ऐप में उनका कोई रोल नहीं है। उन्होंने यह भी कहा है कि उन्हें इस ऐप से किसी तरह का कोई वित्तीय फ़ायदा नहीं मिला है। 

शिल्पा ने क्राइम ब्रांच के अफ़सरों को यह समझाने की कोशिश भी कि उनके बिजनेसमैन पति राज कुंद्रा अश्लील फ़िल्में बनाने के काम में शामिल नहीं हैं। उन्होंने अफ़सरों को बताया कि इरोटिक और अश्लील फ़िल्मों में क्या अंतर है। 

इंडिया टुडे के मुताबिक़, शिल्पा शेट्टी ने यह भी कहा कि हॉटशॉट्स ऐप पर क्या कंटेंट जाता है, इसके बारे में उन्हें पता नहीं था। उन्होंने कहा कि बाक़ी ओटीटी प्लेटफ़ॉर्म और वेब सीरीज पर जो कंटेंट जा रहा है, वह अश्लील किस्म का है। क्राइम ब्रांच की टीम शिल्पा के बयानों में कितनी सच्चाई है, इसकी जांच करेगी। 

ताज़ा ख़बरें

आमने-सामने बैठाकर पूछताछ 

सूत्रों से जानकारी मिली है कि क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने शुक्रवार को पहले शिल्पा शेट्टी से अकेले में लगभग 2 घंटे तक पूछताछ की। उसके बाद राज कुंद्रा और उन्हें आमने-सामने बैठाकर सवाल-जवाब किए गए। 

दरअसल, राज कुंद्रा क्राइम ब्रांच को शिल्पा शेट्टी की इस अश्लील फ़िल्म रैकेट में भागीदारी के बारे में कुछ जानकारी नहीं दे रहे थे जिसके बाद क्राइम ब्रांच के अधिकारियों ने फैसला किया कि शिल्पा शेट्टी और राज कुंद्रा को आमने-सामने बैठाकर पूछताछ की जाए। 

27 जुलाई तक हिरासत में 

राज कुंद्रा को अश्लील फिल्में बनाने के आरोप में क्राइम ब्रांच ने सोमवार रात को गिरफ़्तार कर लिया था। इससे पहले क्राइम ब्रांच ने कई घंटे तक कुंद्रा से पूछताछ की थी। मंगलवार को उन्हें मुंबई की किला कोर्ट अदालत में पेश किया गया था, जहां से इस बिजनेसमैन को 27 जुलाई तक की पुलिस हिरासत में भेज दिया गया। 

Raj kundra film racket case Shilpa Shetty denies  - Satya Hindi

क्या है मामला?

दरअसल, इसी साल फरवरी में मुंबई क्राइम ब्रांच ने वेब सीरीज के नाम पर अश्लील फिल्में बनाने के रैकेट का भंडाफोड़ किया था जिसमें गहना वशिष्ठ नाम की मॉडल की गिरफ्तारी हुई थी। इसी मामले में मुंबई क्राइम ब्रांच की प्रॉपर्टी सेल ने गुजरात के सूरत से तनवीर हाशमी को गिरफ्तार किया था। 

तनवीर हाशमी ने पुलिस को पूछताछ में बताया था कि वह अश्लील फिल्मों को मोबाइल एप्स पर अपलोड करने का काम किया करता था। तनवीर से पुलिस ने जब पूछताछ की तो उसने उमेश कामत नाम के शख्स के बारे में जानकारी दी। इसके बाद इसी मामले में उमेश कामत को भी गिरफ्तार किया गया था। 

दरअसल, उमेश कामत राज कुंद्रा की कंपनी में बतौर मैनेजिंग डायरेक्टर काम कर रहा था। उमेश की गिरफ़्तारी के बाद राज कुंद्रा भी सवालों के घेरे में आये थे। मुंबई क्राइम ब्रांच ने उस वक्त खुलासा किया था कि वेब सीरीज के नाम पर अश्लील फिल्में बनाने का यह रैकेट देश-विदेश तक फैला हुआ है। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें

उमेश कामत ने क्राइम ब्रांच के अधिकारियों को जानकारी दी थी कि इस तरह की अश्लील फिल्मों की अपलोडिंग की जानकारी राज कुंद्रा को थी। लेकिन तब पक्के सुबूत नहीं होने के चलते राज कुंद्रा को पुलिस गिरफ़्तार नहीं कर सकी थी।

क़ुबूल किया अपराध 

मुंबई क्राइम ब्रांच ने राज कुंद्रा को सोमवार को पूछताछ के लिए बुलाया था। राज कुंद्रा से जब अश्लील फिल्मों को बनाने और फिर उन्हें एप्स पर अपलोड करने के बारे में पूछा गया तो पहले तो कुंद्रा ने इससे इनकार किया लेकिन कड़ाई से पूछताछ के बाद उन्होंने इस रैकेट में शामिल होने की बात क़ुबूल कर ली। कुंद्रा के इसी क़ुबुलनामे के बाद उनकी गिरफ़्तारी हो गयी। 

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें