loader

एनसीबी, समीर वानखेड़े ने मेरे बेटे पर ड्रग्स का झूठा केस बनाया था: सेवानिवृत्त एसीपी

ड्रग्स का झूठा मामला बनाने का एनसीबी और समीर वानखेड़े पर एक और गंभीर आरोप लगा है। मुंबई में एक सेवानिवृत्त सहायक पुलिस आयुक्त यानी एसीपी ने दावा किया है कि एनसीबी ने इसी साल उनके बेटे को एक झूठे मामले में गिरफ़्तार किया था। उन्होंने इस मामले में एक हलफ़नामा भी दिया है। एनसीबी और इसके मुंबई ज़ोन के डायरेक्टर समीर वानखेड़े क्रूज ड्रग्स केस मामले को लेकर चर्चा में रहे हैं। 

शाहरूख ख़ान के बेटे आर्यन ख़ान को इस मामले में गिरफ़्तार किए जाने के बाद वह काफ़ी ज़्यादा सुर्खियों में रहे। लेकिन उस कार्रवाई पर लगातार सवाल उठने के बाद समीर वानखेड़े संदेह के घेरे में आ गए हैं। इस मामले में महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने उनपर कई आरोप लगाए हैं जिसमें से एक यह भी है कि वह झूठे मामले बनाकर लोगों से अवैध उगाही का धंधा करते हैं। हालाँकि, वानखेड़े इन आरोपों को खारिज करते रहे हैं।

ताज़ा ख़बरें

नवाब मलिक द्वारा कई आरोप लगाए जाने के बाद अब इस मामले में सेवानिवृत्त एसीपी अनंत केंजले सामने आए हैं और अपने 26 वर्षीय बेटे श्रेयस के मामले को लेकर हलफनामा दाखिल किया है। श्रेयस को एनसीबी ने इस साल 22 जून को एक ड्रग्स केस में गिरफ़्तार किया था। आरोपी श्रेयस केंजले ने यह कहते हुए अदालत का दरवाजा खटखटाया है कि गिरफ्तारी के समय समीर वानखेड़े मौजूद थे, लेकिन पंचनामा में इसे दर्ज नहीं किया गया है।

श्रेयस ने अपने दावे की पुष्टि के लिए तर्क दिया है कि यह सीसीटीवी फुटेज को रिकॉर्ड में लेने पर सिद्ध हो जाएगा। उन्होंने याचिका में कहा है कि उनके अपार्टमेंट की इमारत में सीसीटीवी लगे हुए हैं और इसकी फुटेज से उनके दावे को सत्यापित किया जा सकता है। 

इंडिया टुडे की रिपोर्ट के अनुसार, श्रेयस ने अपने दावे की पुष्टि के लिए कहा है कि समीर वानखेड़े गिरफ्तारी की रात 9 बजकर 47 मिनट पर मेन गेट से बिल्डिंग में दाखिल हुए थे, कुछ मिनट बाद वह लिफ्ट में चढ़ गये और फिर उन्हें वीवी सिंह के साथ देखा जा सकता है। बता दें कि वीवी सिंह वही अफ़सर हैं जो आर्यन ख़ान मामले में जांच अधिकारी थे। 

एनसीबी ने कथित तौर पर श्रेयस केंजले के पास से 300 ग्राम हरी पत्तेदार गांजा और 436 एलएसडी ब्लाट बरामद किया था। पंचनामा में कहा गया है कि बरामद गांजा को पैक कर सील कर दिया गया था।

एसीपी अनंत केंजले ने हलफनामे में कहा है कि उन्होंने अपने आवास पर एनसीबी से पंचनामा मांगा लेकिन नहीं मिला। उन्होंने दावा किया है कि बाद में उन्होंने एनसीबी कार्यालय में फिर से पूछा, लेकिन कई घंटे तक नहीं उपलब्ध कराया गया तो उन्होंने एनसीबी को मेल किया।

उन्होंने दावा किया कि इसके तुरंत बाद अनंत केंजले को एक अज्ञात नंबर से कॉल आया जिसमें उनके बेटे ने उनसे बात की और कहा कि उन्हें मेल नहीं भेजना चाहिए था क्योंकि एनसीबी के अधिकारी अब उनके ख़िलाफ़ एक बड़ा मामला थोपेंगे।

महाराष्ट्र से और ख़बरें

आर्यन ख़ान केस

क्रूज ड्रग्स केस में एनसीबी आर्यन ख़ान को साज़िश रचने का जो आरोप लगाती रही थी और जिसकी बुनियाद पर वह दलीलें देती रही थी उन सभी को बॉम्बे हाईकोर्ट ने एक तरह से ध्वस्त कर दिया है। अदालत ने अपने जमानत वाले आदेश में कहा है कि आरोपियों- आर्यन ख़ान, अरबाज मर्चेंट, मुनमुन धमेचा के बीच साज़िश दिखाने वाले क़रीब-क़रीब कोई भी सकारात्मक सबूत नहीं हैं। 

हाई कोर्ट के विस्तृत आदेश आने के बाद महाराष्ट्र के मंत्री नवाब मलिक ने कहा है, 'हाई कोर्ट के आदेश से साबित होता है कि आर्यन ख़ान मामला किडनैपिंग और फिरौती का केस था। यह पूर्व नियोजित था लेकिन सार्वजनिक डोमेन में जारी एक सेल्फी ने योजना को विफल कर दिया। फर्जीवाड़े का खुलासा हो गया।'

ख़ास ख़बरें
बता दें कि नवाब मलिक जिस सेल्फी की बात कर रहे हैं वह किरन गोसावी की है और जिसे उसने एनसीबी हिरासत में आर्यन ख़ान के साथ लिया था। इसके बाद से यह मामला उजागर हुआ। इस मामले में नवाब मलिक एनसीबी मुंबई के ज़ोनल डायरेक्टर समीर वानखेड़े पर सवाल उठते रहे हैं।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें