loader

संजय राउत शुक्रवार को ईडी के सामने पेश होंगे, बागियों पर हमले जारी

महाराष्ट्र में शिवसेना के असंतुष्ट विधायकों और नेताओं पर हमले का कोई मौका संजय राउत चूक नहीं रहे हैं। हालांकि उद्धव ठाकरे इस्तीफा दे चुके हैं। लेकिन राउत ने गुरुवार को भी बागियों पर निशाना साधा। राउत ने यह भी कहा है कि वो 1 जुलाई को ईडी के सामने पेश होंगे।
शिवसेना सांसद संजय राउत ने गुरुवार को एक व्यक्ति को पीछे से छुरा घोंपने का स्केच ट्वीट किया और कहा, "वास्तव में ऐसा ही हुआ था। राउत ने गुरुवार को ही अपने पहले ट्वीट में शिवसेना का लोगो पोस्ट किया और 'जय महाराष्ट्र' ट्वीट किया। उद्धव ठाकरे ने बुधवार रात इस्तीफा देते हुए कहा था कि उन्हें 'अपनों' ने पीठ में छुरा घोंपा है। राउत ने गुरुवार को उसी की एक बार फिर से याद दिला दी।

गुरुवार को पत्रकारों से बातचीत में संजय राउत ने कहा कि शिवसेना सत्ता के लिए नहीं, बल्कि सत्ता शिवसेना के लिए पैदा हुई है।यह हमेशा से बालासाहेब ठाकरे का मंत्र रहा है। हम काम करेंगे और अपने दम पर एक बार फिर सत्ता में आएंगे।

ताजा ख़बरें
उद्धव ठाकरे के इस्तीफे की घोषणा के पल के बारे में बात करते हुए, राउत ने कहा, कल हम उस समय भावुक हो गए जब उद्धव ठाकरे ने मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया था। उद्धव ठाकरे पर सभी का भरोसा है, हर जाति और धर्म के लोग उनका समर्थन करते हैं। सोनिया गांधी और शरद पवार को उन पर भरोसा है।

उद्धव ने विद्रोह होने के बाद पार्टी कैडर के साथ अपनी बातचीत में कई बार कहा कि उन्हें पीठ में छुरा घोंपा गया है - क्योंकि असंतोष उनकी अपनी पार्टी में पनपा था, गठबंधन वाले दलों से नहीं। पिछले हफ्ते, उद्धव ने खुलासा किया कि उन्हें एकनाथ शिंदे के विद्रोह का आभास हुआ और शिंदे के साथ उनकी बात भी हुई। जब शिंदे ने उनसे कहा कि शिवसेना के कई विधायक बीजेपी से हाथ मिलाना चाहते हैं तो उद्धव ने उन विधायकों के नामों की सूची मांगी।

महाराष्ट्र से और खबरें
अपनी भावनात्मक अपील में, उद्धव ने पहले बताया कि कैसे एकनाथ शिंदे को शहरी विकास मंत्रालय मिला, एक विभाग जो आम तौर पर मुख्यमंत्री के पास रहता है। उद्धव ने एकनाथ शिंदे के बेटे श्रीकांत शिंदे का भी जिक्र किया जो शिवसेना सांसद हैं।

आदित्य ठाकरे ने पहले कहा था कि उद्धव ने विद्रोह शुरू होने से पहले एकनाथ शिंदे को मुख्यमंत्री पद की पेशकश की थी, लेकिन उन्होंने इस प्रस्ताव को स्वीकार नहीं किया और रोने लगे। एक महीने बाद विद्रोह हुआ।

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें