loader

शिंदे को बधाई वाले विज्ञापन में बाला साहेब के साथ उद्धव की भी तसवीर क्यों?

शिवसेना के बागी शिंदे खेमे की सरकार को बधाई देने वाले का एक विज्ञापन काफ़ी रोचक है। उसमें मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे और उपमुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस की बड़ी तसवीरें हैं। उसी विज्ञापन में ऊपर में बाईं तरफ़ बाला साहेब ठाकरे के साथ ही उद्धव ठाकरे और आदित्य ठाकरे की तसवीर है तो दूसरी तरफ़ प्रधानमंत्री मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और बीजेपी अध्यक्ष जेपी नड्डा की है। यह विज्ञापन पूरे पेज का है। तो इसके संकेत क्या हैं? क्या यह सिर्फ़ शिवसेना और बीजेपी के बीच गठबंधन को ही दिखाता है? या फिर इस विज्ञापन का मक़सद यह स्थापित करना है कि एकनाथ शिंदे शिवसेना का प्रतिनिधित्व करते हैं, शिवसेना नेताओं का सम्मान करते हैं और बाला साहेब ठाकरे की शिवसेना कीविरासत पर शिंदे का ही हक है?

इस विज्ञापन के मायने को समझने के लिए यह जानना ज़रूरी है कि दोनों खेमों के बीच ऐसा क्या चल रहा है कि राज्य के एक बड़े मराठी अख़बार में पहले पन्ने पर पूरे पेज का विज्ञापन दिया गया। सोशल मीडिया पर इसे साझा किया गया है।

हालाँकि, यह विज्ञापन आधिकारिक तौर पर किसी पार्टी की नहीं लगती है, लेकिन दिव्य मराठी के नाशिक एडिशन में छपे इस विज्ञापन में देखा जा सकता है कि नांदगाव विधानसभा मतदार संघ से आमदार सुहास आण्णा कांदे ने यह विज्ञापन दिया है। 

यह विज्ञापन ऐसे समय में आया है जब एक दिन पहले ही एकनाथ शिंदे ने मुख्यमंत्री और देवेंद्र फडणवीस ने उप मुख्यमंत्री पद की शपथ ली है।

शिंदे को अब सोमवार को विधानसभा में बहुमत साबित करना है। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से मुख्यमंत्री का पद छीनने के बाद महज चार दिनों के भीतर उन्हें परीक्षण से गुजरना होगा।

ताज़ा ख़बरें

आज ही सुप्रीम कोर्ट ठाकरे टीम की उस याचिका पर सुनवाई करने के लिए तैयार हुआ है जिसमें शिवसेना की ओर से लगाई गई ताज़ा याचिका में अनुरोध किया गया है कि बाग़ी नेता एकनाथ शिंदे और उनके समर्थक विधायकों को विधानसभा की कार्यवाही में हिस्सा लेने से रोका जाए। कोर्ट ने कहा है कि इस याचिका पर सुनवाई 11 जुलाई को होगी। हालाँकि तब तक सरकार सदन में बहुमत साबित कर चुकी होगी। 

उद्धव ठाकरे की टीम ने शिवसेना के शिंदे सहित 16 बागियों को अयोग्य घोषित करने की मांग भी की है। इस याचिका पर भी 11 जुलाई को ही सुनवाई होनी है। 

बहरहाल, उद्धव ठाकरे की सत्ता तो चली ही गई, कहा जा रहा है कि उद्धव ठाकरे टीम को अब शिवसेना को खोने का ख़तरा लग रहा है। एकनाथ शिंदे ने कहा है कि 55 में से 39 विधायकों के साथ उनका गुट वैध शिवसेना है और इसके आदेश व नियुक्तियाँ ठाकरे की टीम के लिए बाध्यकारी हैं। ठाकरे के सामने यही चुनौती है कि उनके पिता बाल ठाकरे द्वारा स्थापित पार्टी अब उनकी रहेगी या नहीं। 

महाराष्ट्र से और ख़बरें
ऐसा इसलिए कि एकनाथ शिंदे न तो शिवसेना से अलग हुए हैं और न ही उन्होंने अपने खेमे को किसी पार्टी में विलय कराया है। वह दो-तिहाई से ज़्यादा विधायकों के समर्थन का दावा कर रहे हैं और यह भी कि अब शिवसेना उनके हाथ में है। उद्धव ठाकरे खेमे का दावा है कि शिवसेना की कमान उनके ही हाथ में है और इसके लिए उन्होंने अदालत की शरण ली है। अब सबकुछ अदालत के फ़ैसले पर निर्भर करेगा, लेकिन मौजूदा स्थिति में तो शिंदे समर्थकों के हौसले बुलंद है ही। 
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें