loader

शिवसेना : बिहारी होने पर इतराते नहीं थे सुशांत, संघर्ष के समय बिहार नहीं था साथ

फ़िल्म अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की रहस्यमय स्थितियों में हुई मौत पर राजनीति और तेज़ हो गई है। शिवसेना ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमला करते हुए कहा है कि उन्हें इस मामले में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए।
शिवसेना के मुखपत्र 'सामना' में छपे संपादकीय में कहा गया है कि 'पिछले कुछ सालों से सुशांत मुंबईकर थे, मुंबई ने उन्हें शोहरत दिलाई। संघर्ष के दिनों में बिहार उनके साथ नहीं खड़ा था।'
महाराष्ट्र से और खबरें

'बिहारी होने पर इतराते नहीं थे सुशांत'

इस लेख में कहा गया है कि सुशांत सिंह स्वयं कभी अपने बिहार कनेक्शन को लेकर बहुत मुखर नहीं थे और बिहारी होने पर नहीं इतराते थे। सामना के लेख में कहा गया है, 

'बिहार पुलिस इंटरपोल नहीं है। मुंबई पुलिस मामले में जाँच कर रही है और किसी दूसरे राज्य को इसमें शामिल नहीं होना चाहिए। हर किसी को सच जानने का अधिकार है, लेकिन यह सही बात नहीं है कि सिर्फ सीबीआई या बिहार पुलिस की सच सामने ला सकती है।'


'सामना' के लेख का अंश

शिवसेना ने बिहार पुलिस के प्रमुख गुप्तेश्वर पांडेय पर भी सवाल उठाया है और जाँच में उनकी दिलचस्पी को उनकी निजी ज़िंदगी और राजनीतिक महात्वाकांक्षा से जोड़ दिया है।

बिहार के पुलिस प्रमुख पर सवाल

सामना के लेख में कहा गया है कि बिहार पुलिस के महानिदेशक बीजेपी और जेडीयू के टिकट पर बिहार विधानसभा का चुनाव लड़ने की योजना बना चुके हैं और वह सुशांत सिंह राजपूत के कथित आत्महत्या के मुद्दे का राजनीतिक फ़ायदा उठाने की फिराक में हैं।
शिवसेना मुखपत्र अपने लेख में कहता है, 'यह हास्यास्पद है कि जो बीजेपी की उम्मीदवारी स्वीकार कर चुका हो वह अब मुंबई पुलिस पर सवाल उठा रहा है।'

सीबीआई जाँच को लेकर विवाद

इसके पहले मुंबई पुलिस कमिश्नर परम बीर सिंह ने पत्रकारों से कहा था, 'बिहार पुलिस को इस मामले में जाँच करने का कोई अधिकार नहीं है। हम इस मामले में क़ानूनी राय ले रहे हैं, हमने किसी को क्लीन चिट नहीं दी है, लेकिन शिकायतकर्ता यानी सुशांत के पिता अब तक हमारे पास नहीं आए हैं।'
यह विवाद तब भड़का जब बिहार सरकार ने सीबीआई जांच की सिफ़ारिश कर दी। महाराष्ट्र सरकार इस मामले की जाँच सीबीआई को सौंपने से इनकार कर चुकी है।
इसके अलावा महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस भी इस मामले की जाँच सीबीआई से कराने को लेकर महाराष्ट्र सरकार पर दबाव बनाया था। लेकिन महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने इससे इनकार करते हुए कहा था कि राज्य की पुलिस सुशांत सिंह राजपूत के मामले की जांच करने में सक्षम है और इस मामले को किसी और को सौंपना मुंबई पुलिस के लिए अपमानजनक होगा।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें