loader

उद्धव ठाकरे ने बागी मंत्रियों के विभाग छीने, दूसरे मंत्रियों को सौंपे

महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने शिवसेना के बाग़ी मंत्रियों से उनके विभाग छीन लिए हैं। सीएम ने ऐसे कम से कम आठ बागी मंत्रियों को हटा दिया गया है।

एक आदेश में कहा गया है कि इन बागी मंत्रियों की ज़िम्मेदारियों को अन्य मंत्रियों के बीच पुनर्वितरित कर दिया गया है ताकि 'जन कल्याण कार्य रुके नहीं'। शहरी विकास और लोक निर्माण विभाग के विभाग जो पहले बाग़ी समूह के नेता एकनाथ शिंदे के पास थे, अब सुभाष देसाई को सौंप दिए गए हैं। मुख्यमंत्री ने कैबिनेट मंत्रियों के अलावा राज्य मंत्रियों के भी पर कतरे हैं।

ताज़ा ख़बरें

बागी मंत्री गुलाबराव पाटिल से जलापूर्ति और स्वच्छता के विभाग छीन लिए गए हैं और ये विभाग अब अनिल परब को विभाग सौंपे गए हैं। कृषि और पूर्व सैनिकों के कल्याण विभाग दादाजी भूसे से छीनकर अब संदीपन भुमरे को सौंप दिए गए हैं।

उदय सावंत के पास उच्च शिक्षा और तकनीकी शिक्षा विभाग थे जो अब आदित्य ठाकरे को सौंपे गए हैं। संजय बंसोडे, सतेज पाटिल और विश्वजीत कदम के बीच शंभूराज देसाई के तीन विभागों का बँटवारा किया गया है। राजेंद्र पाटिल के मंत्रालय का बँटवारा विश्वजीत कदम, प्राजक्ता तानपुरे, सतेज पाटिल और अदिति तटकरे में किया गया है।

अब्दुल सत्तार के तीन विभागों को अब प्राजक्त तानपुरे, सतेज पाटिल और अदिति तटकरे को दिए गए हैं। ओमप्रकाश कुडू के चार प्रभारों को अब अदिति तटकरे, सतेज पाटिल, संजय बंसोडे और दत्तात्रेय भरने के बीच वितरित किए गए।
बागी मंत्रियों पर यह कार्रवाई ऐसे समय में हुई है जब महाराष्ट्र सरकार को गिराने की धमकी देने वाली शिवसेना के भीतर तकरार सुप्रीम कोर्ट तक पहुँच गई है।
कोर्ट में यह मामला इसलिए पहुँचा है क्योंकि विधानसभा के डिप्टी स्पीकर ने शिवसेना की अयोग्यता याचिका पर शनिवार को 16 बागी विधायकों को नोटिस जारी किया है। सभी विधायकों को उनका लिखित जवाब दाखिल करने के लिए 27 जून शाम 5.30 बजे तक का वक्त दिया गया है। इसी के ख़िलाफ़ बागी सुप्रीम कोर्ट गए हैं।
महाराष्ट्र से और ख़बरें
बता दें कि पिछले कुछ दिनों से चल रही तकरार के बीच अब उद्धव ठाकरे गुट ने सख्ती शुरू की है। एक दिन पहले ही महाराष्ट्र के मंत्री आदित्य ठाकरे ने राज्य में गहराते राजनीतिक संकट के बीच बागियों को पार्टी छोड़ने और चुनाव लड़ने की चुनौती दी है। पार्टी प्रवक्ता संजय राउत ने भी कुछ ऐसी ही खुली चुनौती दी है और कहा है कि मंत्री एकनाथ शिंदे के नेतृत्व में शिवसेना के बागी पार्टी से बाहर निकलकर उद्धव ठाकरे के पिता बाला साहेब ठाकरे के नाम पर वोट न मांगें, वे अपने बाप के नाम पर वोट मांगें।बहरहाल, आदित्य ठाकरे ने कहा, 'अगर आप में हिम्मत है तो शिवसेना छोड़िए, दल बदल करिए और लड़िए। अगर आपको लगता है कि हमने जो किया है वह गलत है और उद्धव जी का नेतृत्व गलत है और हम सभी गलत हैं, तो इस्तीफा दें और चुनाव का सामना करें। हम तैयार हैं।'
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें