loader
प्रतीकात्मक तसवीर।

नागपुर अस्पताल में एक बेड पर कोरोना के दो-दो मरीज़! कम पड़े बेड?

पूरे महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण की भयावह होती तसवीर के बीच नागपुर अस्पताल की तसवीरें परेशान करने वाली हैं। वायरल फ़ोटो में दावा किया गया है कि नागपुर के सरकारी अस्पताल में एक-एक बेड पर कोरोना के दो-दो मरीज़ों को रखा गया। जाहिर है कोरोना जैसे ज़्यादा संक्रामक बीमारी में एक बेड पर दो मरीज़ों को रखना बहुत ज़्यादा घातक है। यह रिपोर्ट उस शहर से आई है जहाँ कोरोना संक्रमण के मामले हाल के दिनों में काफ़ी ज़्यादा बढ़े हैं और हर रोज़ संक्रमण के मामले क़रीब तीन हज़ार आ रहे हैं। 

नागपुर में सोमवार को भी कोरोना के 3100 नये मामले सामने आए और 55 लोगों की मौत हो गई। यहाँ अब तक क़रीब 2 लाख 22 हज़ार संक्रमण के मामले आए हैं। 

ताज़ा ख़बरें

अब जो तसवीरें एक-एक बेड पर दो-दो मरीज़ों की सामने आई हैं उसके बारे में दावा किया गया है कि वे नागपुर गवर्नमेंट मेडिकल कॉलेज हॉस्पिटल यानी जीएमसीएच की हैं। एनडीटीवी की रिपोर्ट में कहा गया है कि तसवीरों में देखा जा सकता है कि दो-दो मरीज़ों को बेड पर रखा गया है।

रिपोर्ट के अनुसार, अधिकारियों का कहना है कि निजी अस्पतालों में महंगे इलाज के कारण लोगों की भीड़ सरकारी अस्पतालों में आ रही है। साथ ही डॉक्टर अधिक गंभीर मरीजों को जीएमसीएच में रेफर कर रहे हैं। लेकिन अस्पताल के शीर्ष चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि एक बेड पर दो मरीज़ों को रखने के हालात को ठीक कर दिया गया है।

'एनडीटीवी' की रिपोर्ट के अनुसार, अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक अविनाश गवांडे ने कहा, 'प्रोटोकॉल के अनुसार, सिर्फ़ कोरोना के गंभीर रोगियों और शहर के बाहर से लाए जा रहे ज़्यादातर गंभीर-बीमार लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया जाता है। जीएमसीएच में काम का बोझ बहुत अधिक है। हम बेड बढ़ा रहे हैं, लेकिन अभी स्थिति सामान्य है, हर बेड पर एक ही मरीज है।'

अस्पताल में ऐसे हालात के बीच बीजेपी नेता चंद्रकांत बावनकुले ने आरोप लगाया कि कोरोना मरीज़ों को उन वार्डों में भर्ती कराया जा रहा है जहाँ अन्य बीमारियों के मरीजों का इलाज किया जा रहा है।

रिपोर्ट के अनुसार राज्य के एक पूर्व मंत्री बावनकुले ने कहा, 'नागपुर में बेड नहीं हैं और मौत के इस नाच में कुंभकर्ण की तरह सरकार सो रही है।' उन्होंने कहा कि जब नागपुर से महाराष्ट्र सरकार में तीन मंत्री थे, उनमें से कोई भी शहर में नहीं था। उन्होंने कहा, 'कोई योजना नहीं है और ये मंत्री परेशान नहीं हैं। वे कहीं और व्यस्त हैं।'

महाराष्ट्र से और ख़बरें

बता दें कि महाराष्ट्र देश में सबसे ज़्यादा कोरोना से प्रभावित राज्य है। रविवार को ही राज्य में एक दिन में 40 हज़ार से ज़्यादा संक्रमण के मामले आए थे। सोमवार को 31 हज़ार से ज़्यादा मामले आए। क़रीब हफ़्ते भर से राज्य में हर रोज़ 30 हज़ार से ज़्यादा मामले आ रहे हैं। इस बीच राज्य में 28 मार्च से ही रात का कर्फ्यू लगा दिया गया है। सार्वजनिक सभाओं पर भी प्रतिबंध लगाया जा चुका है। 

इस तेज़ी से बढ़ते संक्रमण के बीच ही रविवार को हुई टास्कफ़ोर्स की बैठक में संबंधित अधिकारियों ने इस पर चिंता जताई कि कोरोना से जुड़े दिशा-निर्देशों का ठीक से पालन नहीं हो रहा है। संक्रमण की रफ़्तार पर चिंता जताते हुए टास्कफ़ोर्स के लोगों ने कहा कि इससे मरीजों के इलाज की सुविधा पर बुरा असर पड़ सकता है, जो चिंता का विषय है।

viral photo claimed 2 corona patients in a ded in nagpur hospital - Satya Hindi

प्रमुख सचिव (सार्वजनिक स्वास्थ्य) प्रदीप व्यास ने कहा कि संक्रमण तेज़ी से फैल रहा है। उन्होंने कहा कि मुख्य सुविधाएँ, विशेष रूप से बेड, वेंटिलेटर और ऑक्सीजन की आपूर्ति जल्द ही कम पड़ जाएँगी। टास्क फ़ोर्स के सदस्य डॉ. शशांक जोशी ने कहा, 'लॉकडाउन अंतिम उपाय है, लेकिन हमें इस पर विचार करना होगा क्योंकि स्वास्थ्य सुविधाओं का ढांचा चरमरा रहा है। निजी क्षेत्र में कोई बिस्तर उपलब्ध नहीं है और सार्वजनिक क्षेत्र के बिस्तर भी तेजी से भर रहे हैं।'

सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

महाराष्ट्र से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें