loader

मंदिर निर्माण की जल्दी बीजेपी को है या टीवी चैनलों को?

सुप्रीम कोर्ट में आज अयोध्या का मामला आना था। मामला आने का अर्थ यह कि सुप्रीम कोर्ट को आज बताना था कि इस मामले की सुनवाई कौन करेगा। उसने अपना काम किया और बताया कि तीन जजों की बेंच 10 जनवरी को इस मुद्दे पर पहली सुनवाई करेगी। 

लेकिन यदि आप टीवी चैनलों का हाल देखें तो वे सुबह से गाए जा रहे थे कि अयोध्या मामले में आज बहुत बड़ा कुछ होगा। पैनल पर एक्सपर्ट बिठा रखे थे जो अयोध्या मामले पर कुछ न कुछ कहे जा रहे थे, जबकि 29 अक्टूबर 2018 को ही कोर्ट ने कह दिया था कि जनवरी के पहले हफ़्ते में केवल बेंच तय होगी। तय था कि आज कुछ नहीं होना है। आज सिर्फ़ बेंच तय होगी। बेंच में जज कौन होंगे, यह भी अदालत को आज नहीं बताना था क्योंकि वह प्रशानसनिक मामला होता है जो अलग से तय होना है। तो आज जब जजों का नाम भी नहीं आना था तो भाई लोगों ने यह कैसे सोच लिया कि आज से सुनवाई शुरू हो जाएगी।

लेकिन मीडिया के अनपढ़ और अनजान पत्रकारों ने सुबह से ऐसा माहौल बना दिया कि जैसे आज बहुत-कुछ होना है। और जब सुप्रीम कोर्ट ने 60 सेकंड में बस इतना कहा कि तीन जजों की बेंच इसकी सुनवाई करेगी तो चैनल वाले चलाने लगे - अयोध्या मामले में तारीख़ पर तारीख़, अयोध्या में नई तारीख़, ‘दामिनी’ फ़िल्म से सनी देवल का मशहूर डायलॉग चुराते हुए। इससे जनता में संदेश क्या जाएगा - यही कि सुप्रीम कोर्ट किसी ख़ास मंशा से अयोध्या मामले में सुनवाई करने में देर-पर-देर कर रहा है और अयोध्या मामला लटकाए जा रहा है।

who is hastier for ram mandir in ayodhya bjp or tv channels - Satya Hindi

‘राम मंदिर का इंतज़ार कब तक?’

‘तारीख़ पर तारीख़’ के साथ ही एक टीवी चैनल ने यह सवाल भी किया कि ‘राम मंदिर का इंतज़ार कब तक?’ इसी चैनल ने शाम को यह हेडलाइन भी दी - राम मंदिर अब 6 दिन दूर। मानो मंदिर तो वहाँ बनना ही है, सुप्रीम कोर्ट को केवल मुहर लगानी है, वह भी 10 तारीख़ को यानी पहली सुनवाई में। इन वैशाखनंदनों को क्या यह नहीं पता कि सुप्रीम कोर्ट 10 जनवरी को फ़ैसला सुनाने नहीं जा रहा है? क्या इन अक़्ल के दुश्मनों को पता भी है कि सुप्रीम कोर्ट में मुक़दमा इस बात का नहीं है कि वहाँ राम का जन्म हुआ था या नहीं। मुक़दमा इस बात का है कि उस ज़मीन पर क़ानूनी अधिकार किसका है। यदि कोर्ट को लगा कि उस ज़मीन पर क़ानूनी अधिकार मुस्लिम वक़्फ़ बोर्ड का है तो भी क्या ज़बरदस्ती वहाँ राम मंदिर बनाया जाएगा?

  • साफ़ है टीवी चैनल जाने-अनजाने बीजेपी-आरएसएस-वीएचपी की ही लाइन ले रहे हैं जो चाहते हैं कि सुप्रीम कोर्ट इस मामले पर जल्द-से-जल्द और लोकसभा चुनाव से पहले फ़ैसला दे दे।
याद कीजिए, इस मामले में इलाहाबाद हाई कोर्ट का फ़ैसला 30 सितंबर 2010 को आया था। पिछले आठ सालों से इनको फ़ैसले की हड़बड़ी नहीं थी। बीजेपी की सत्ता के चार सालों में भी इनको हड़बड़ी नहीं थी। लेकिन 2018-19 में लोकसभा चुनाव पास आते ही इनको ग़ज़ब की हड़बड़ी हो गई।
  • हड़बड़ी क्यों? क्योंकि वे जानते हैं कि बीजेपी के ख़िलाफ़ जो माहौल बन रहा है, उसे उलटने का बस एक ही तरीक़ा है - अयोध्या पर फ़ैसला, फिर वह चाहे पक्ष में आए या विपक्ष में। क्योंकि उनके अनुसार यही वह रामबाण इलाज है जिससे वे मंदिर के नाम पर चुनावी धारा को अपने पक्ष में मोड़ सकते हैं।

इसीलिए इस मामले में संघ परिवार की दिलचस्पी तो समझ में आती है। लेकिन हमारे टीवी चैनलों को इस बात की हड़बड़ी क्यों है कि सुप्रीम कोर्ट जल्द-से-जल्द इस मामले को निपटाए? 1992 में सुप्रीम कोर्ट को दिए गए आश्वासन का उल्लंघन करके जिन लोगों ने बाबरी मसजिद गिराई, उनके ख़िलाफ़ मामला भी न जाने कितने सालों से चल रहा है। क्या कभी इन चैनलों ने उसके लिए भी 'तारीख़ पर तारीख़' का शीर्षक लगाया? क्या उन्हें वह मामला याद भी है?

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
नीरेंद्र नागर
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

मीडिया से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें