loader

ऋृषि कपूर की मृत्यु पर मर्माहत बॉलीवुड, प्रधानमंत्री ने बताया 'पावरहाउस ऑफ़ टैलेंट'

इरफ़ान ख़ान की मृत्यु के एक दिन बाद ही ऋषि कपूर के गुजर जाने से भारतीय फ़िल्म उद्योग गंभीर सदमे में हैं। ये दोनों ही अभिनेता अपनी - अपनी किस्म के फ़िल्मों के सुपर स्टार थे, कई पुरस्कारों से नवाजे गए थे और इनके फ़ैन्स की संख्या करोड़ों में है।

सदी के महानायक कहे जाने वाले अमिताभ बच्चन ने ऋषि कपूर की मृत्यु पर गहरी संवेदना और दुख जताया है। उन्होंने ट्वीट किया, 'वह चले गए, ऋषि कपूर चले गए.. मैं बर्बाद हो गया।' 

तमिल फ़िल्मों के सुपर स्टार रजनीकांत ने कहा, 'मेरा दिल टूट गया...ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे...मेरा प्यारा दोस्त! '

 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गहरी संवेदना व्यक्त की है। उन्होंने ऋषि कपूर को 'पावरहाउस ऑफ़ टैलेंट' क़रार दिया। उन्होंने ट्वीट किया, 'बहुमुखी प्रतिभा संपन्न और जिन्दादिल.....यही थे ऋषि कपूर जी। वह प्रतिभा के धनी थे। मैं सोशल मीडिया पर उनके साथ हुई बातचीत हमेशा याद रखूँगा। वह फ़िल्म और भारत की प्रगति को लेकर बहुत ही उत्साहित थे। उनकी मौत से मर्माहत हूँ। उनके परिवार और फैन्स को संवेदना। ओम शांति।' 
कांग्रेस नेता राहुल गाँधी ने भी ऋषि कपूर की मौत पर गहरी संवेदना व्यक्त की। उन्होंने कहा, 'किवंदति बन चुके एक और अभिनेता की मृत्यु से भारतीय सिनेमा के लिए यह भयावह सप्ताह हो गया। वह एक लाजवाब अभिनेता थे, कई पीढ़ियों में उनके करोड़ों फैन्स थे, उनकी बहुत ही याद आएगी। उनके परिवार, दोस्तों और फैन्स के लिए मेरी संवेदना!'
केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने भी ट्वीट कर दुख जताया। उन्होंने कहा, 'ऋषि कपूर की हठात मृत्यु झकझोर देने वाली हौ। वह एक महान अभिनेता ही नहीं, एक  अच्छे इन्सान भी थे। उनके परिवार, दोस्तों और फैन्स के लिए गहरी संवेदना! ओम शांति!'
कांग्रेस नेता और लेखक शशि थरूर ने ट्वीट किया, 'यह जान कर दुख हुआ कि मुंबई के चैंपियन स्कूल में मेरे सीनियर रहे ऋषि कपूर एक बेहतर दुनिया को चले गए। मैंने 1967-68 में उनके साथ ड्रामा में कंपीट किया था। बॉबी के रोमांटिक हीरो से लेकर अंतिम फ़िल्म में एक परिपक्व अभिनेता के रूप में वह उभरे। ईश्वर उन्हें शांति दे।' 
अभनेता फ़रहान अख़्तर ने ट्वीट किया, 'मैं बहुत ही दुखी हूँ। इस क्षति की भरपाई नहीं हो सकती, फ़िल्म उद्योग को, उन सबको जो उन्हें निजी रूप से जानते थे। लव यू ऋषि अंकल।'
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

श्रद्धांजलि से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें