loader

कोरोना के ख़िलाफ़ लड़ाई में सभी राजनीतिक दल एकजुट

कोरोना राहत-कोष के साथ किसी प्रधानमंत्री या व्यक्ति या पद का नाम जोड़ना हास्यास्पद है और यह कहना तो अत्यंत विचित्र है कि ‘‘पीएम केयर्स फंड’’। क्या देश की चिंता सिर्फ एक ही व्यक्ति को है? क्या बाकी सब लोग ‘केयरलेस’ (लापरवाह) हैं? सोनिया गांधी का यह सुझाव ठीक है कि कुछ सरकारी ख़र्चों में भी 30 प्रतिशत की कटौती की जाए और सरकारी ख़र्चे पर विदेश यात्राएं बंद हों। 
डॉ. वेद प्रताप वैदिक

भारत की जनता को इस बात पर गर्व होना चाहिए कि देश के सभी राजनीतिक दल कोरोना वायरस के विरुद्ध एकजुट हो गए हैं। कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लिखे अपने पत्र में कुछ रचनात्मक सुझाव दिए हैं। केरल, राजस्थान, छत्तीसगढ़, पंजाब और दिल्ली के ग़ैर-भाजपाई मुख्यमंत्री लोग भाजपाई मुख्यमंत्रियों की तरह डटकर काम कर रहे हैं। 

ग़ैर-राजनीतिक समाजसेवी लोग तो गजब की सेवा कर रहे हैं। यह भी गौर करने लायक बात है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ तथा अन्य संगठनों ने तब्लीग़ी जमात के मामले का सांप्रदायिकीकरण करने का विरोध किया है। लेकिन हमारे कुछ टीवी चैनल इसी मुद्दे को अपनी टीआरपी की खातिर पीटे चले जा रहे हैं। 

ताज़ा ख़बरें

संतोष की बात यह भी है कि अमेरिकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने भारत से कोरोना की दवाई भिजवाने का अनुरोध किया है। इस दवाई का परीक्षण करके भारत में ही इसका जमकर प्रयोग क्यों नहीं किया जाए? भारत हमारे पड़ोसी देशों को यह दवाई बड़े पैमाने पर आगे होकर भेंट क्यों न करे?

जहां तक सोनिया गांधी के पांच प्रस्तावों का प्रश्न है, सबसे अच्छी बात तो यह है कि उन्होंने मोदी की इस घोषणा का स्वागत किया है कि सांसदों के वेतन में 30 प्रतिशत की कटौती और सांसद-निधि स्थगित की जाएगी। मैं सोचता हूं कि हर सांसद को स्वेच्छा से कम से कम पांच-पांच लाख रुपये कोरोना राहत-कोष में दे देने चाहिए। चुनावों में वे करोड़ों का इंतजाम करते हैं या नहीं? 

‘‘पीएम केयर्स फंड’’ नाम क्यों?

इस कोष के साथ किसी प्रधानमंत्री या व्यक्ति या पद का नाम जोड़ना हास्यास्पद है और यह कहना तो अत्यंत विचित्र है कि ‘‘पीएम केयर्स फंड’’। क्या देश की चिंता सिर्फ एक ही व्यक्ति को है? क्या बाकी सब लोग ‘केयरलेस’ (लापरवाह) हैं? यह सुझाव भी ठीक है कि कुछ सरकारी ख़र्चों में भी 30 प्रतिशत की कटौती की जाए। सरकारी ख़र्चे पर विदेश यात्राएं बंद हों। 20 हजार करोड़ रुपये के ‘सेंट्रल विस्टा’ के निर्माण-कार्य को बंद किया जाए। 

विचार से और ख़बरें
सोनिया का एक और सार्थक सुझाव है। वह भाजपाइयों और कांग्रेसियों दोनों पर लागू होता है। सुझाव यह है कि सरकारें और नेतागण अपने धुआंधार विज्ञापनों को रोकें और उस पैसे को कोरोना-युद्ध में लगाएं। सोनिया जी और मोदी जी अपनी पार्टी के करोड़ों कार्यकर्ताओं को घर से निकलकर दुखी लोगों की मदद करने के लिए क्यों नहीं कहते? तब्लीग़ियों को गाली देने और शर्मिंदा करने के बजाय जांच और इलाज के लिए उन्हें प्रेरित क्यों न किया जाए? आखिरकार, वे भी भारत माता की ही संतान हैं। 
(डॉ. वेद प्रताप वैदिक के ब्लॉग www.drvaidik.inसे साभार)

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
डॉ. वेद प्रताप वैदिक
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें