loader

देपसांग, डोकलाम और अरुणाचल में नए सिरे से घुसपैठ कर रहा है चीन

दोनों देशों की सेनाओं और राजनयिकों के बीच जो बातचीत चल रही है उसमें कई जगहों से सैनिकों के पीछे हटने पर सहमति का दावा किया गया है लेकिन पैंगोंग त्सो झील इलाक़े पर फिंगर-4 से फिंगर-8 तक के आठ किलोमीटर तक के इलाक़े से चीनी सैनिकों को पीछे कर लेने के बारे में दोनों देशों के अधिकारी मौन हैं। 
रंजीत कुमार

15 जून को गलवान घाटी में ख़ूनी झड़प के एक सप्ताह बाद 22 जून को चीनी और भारतीय सेना के कमांडरों के बीच बैठक में कई सहमतियाँ हुईं और इसके बाद इन पर मुहर लगाने के लिये 24 जून को दोनों देशों के विदेश मंत्रालयों के संयुक्त सचिव स्तर के आला अधिकारियों के बीच वीडियो पर लम्बी वार्ता हुई। इस बातचीत में चीन ने 15 जून की ख़ूनी गलवान झड़प के लिये भारतीय सेना को ज़िम्मेदार ठहराने वाले आरोप लगाए, लेकिन दोनों ने सहमति दिखाई कि गत छह जून को कमांडरों की पहली बैठक के चार दिनों बाद दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच हुई बातचीत की भावना का दोनों सेनाएँ आदर करेंगी और छह जून की कमांडरों की बैठक में हुई सहमति को ज़मीन पर लागू करेंगी।

ताज़ा ख़बरें

लेकिन चीन का रवैया अबतक इसके पलट रहा है। चीन की रणनीति रहती है कि वह दुश्मन के इलाक़े में चार क़दम आगे बढ़े और वार्ता टेबल पर दो क़दम पीछे हट कर यह कहे कि दोनों पक्षों के बीच सम्मानजनक समझौता हुआ है। लेकिन इस प्रक्रिया में चीन को दो क़दम ज़मीन अपने पास रखने का लाभ तो मिल ही जाएगा। जून, 2017 के दौरान भूटान के डोकलम इलाक़े में 73 दिनों तक चली घुसपैठ के बाद जो सहमति बनी थी उसमें यही हुआ। चीनी और भारतीय सेनाओं को दो-दो सौ मीटर पीछे जाने को कहा गया  जबकि चीनी सेना को पूरा डोकलाम इलाक़ा खाली कर देना चाहिये था क्योंकि वह भूटान का भूभाग है। अब ताज़ा रिपोर्ट है कि चीन ने डोकलाम इलाक़े में सौ मीटर और आगे तक अपने सैनिकों को बढ़ा दिया है।

इसी तरह 24 जून को जहाँ एक ओर दोनों देशों के आला राजनयिक टेबल पर बातचीत के ज़रिये एक-दूसरे को भरोसा दिला रहे थे वहीं चीन ने 3488 किलोमीटर लम्बी वास्तविक नियंत्रण रेखा पर नये मोर्चे खोलने के क़दम उठा कर अपने नापाक इरादों के संकेत दिये हैं। गलवान घाटी में जहाँ झड़प हुई और जहाँ से चीनी सैनिकों को पीछे धकेलने का दावा किया गया था वहाँ चीनी सेना ने अपनी क़िलेबंदी और मज़बूत कर ली है। इसके अलावा चीनी सेना द्वारा अरुणाचल प्रदेश के इलाक़े में भी घुसपैठ करने की रिपोर्टें मिली हैं।

लद्दाख के देपसांग सीमांत इलाक़े में, जहाँ 2013 में चीनी सेना 20 किलोमीटर भीतर घुसी थी और जिसे तब की सरकार ने वापस जाने को मजबूर किया था वहाँ चीनी सेना के फिर घुसने की रिपोर्टें हैं जिन पर 24 जून की शाम तक आधिकारिक स्तर पर चुप्पी बरती गई है।
चीनी सेना द्वारा वास्तविक नियंत्रण रेखा और इलाक़ों में घुसने की रिपोर्टों के बारे में विपक्षी दलों द्वारा सफ़ाई माँगे जाने पर सत्तारुढ़ पक्ष के प्रवक्ताओं ने बेतुका जवाब दिया है कि 1962 के युद्ध के पहले भी तो चीनी सेना ने भारत के 38 हज़ार वर्गकिलोमीटर इलाक़े पर क़ब्ज़ा कर लिया था।

बहरहाल, 24 जून को दिन भर भारतीय और चीनी विदेश मंत्रालयों के आला अधिकारियों की बातचीत के बारे में भारतीय पक्ष ने इतना ही बताया है कि भारत-चीन सीमांत इलाक़ों पर सलाह और समन्वय के लिये वर्किंग मैकेनिज़्म (डब्ल्यूएमसीसी) की 15वीं बैठक में दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हुए कि छह जून को दोनों देशों के सैन्य कमांडरों के बीच जो सहमति बनी थी इसका तेज़ी से क्रियान्वयन  किया जाए। जहाँ एक ओर दोनों देशों के आला राजनयिक छह जून की सहमति को लागू करने की बातें कर रहे थे चीनी सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा के गलवान घाटी सहित दूसरे इलाक़ों में घुसपैठ कर रही थी और अपनी सैन्य तैनाती बढ़ा रही थी। साफ़ है कि चीन बातचीत का झाँसा देकर भारतीय सेना को भ्रम में रखना चाहता है और उसे जवाबी सैन्य क़दम उठाने से रोकने की रणनीति पर चल रहा है।

हालाँकि 22 जून को चीनी सेना के शिन्च्यांग इलाक़े के कमांडर मेजर जनरल ल्यु लिन और लेह स्थित 14 कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह के बीच 11 घंटे तक हुई गहन बातचीत को भारत ने सकारात्मक, रचनात्मक और सौहार्दपूर्ण की संज्ञा दी लेकिन 24 जून को भारतीय विदेश मंत्रालय के देर शाम जारी बयान से इस आशय के संकेत नहीं मिलते हैं कि तनाव और टकराव के इलाक़ों से चीनी सेना अपने ढाँचागत निर्माण को तोड़ देगी।

सबसे अहम सवाल बना हुआ है- पैंगोंग त्सो झील के ऊपर आठ पर्वतीय चोटियों में से फिंगर-चार से फिंगर-आठ तक के बीच आठ किलोमीटर के इलाक़े पर चीनी सेना ने अपनी क़िलबंदी क्यों और मज़बूत कर ली है। इस इलाक़े पर गत पाँच मई को हुई झड़प के पहले तक भारतीय सेना फिंगर-चार से लेकर फिंगर-8 तक की चोटी तक गश्ती करती रही है लेकिन अब वहाँ भारतीय सैनिकों को जाने से चीनी सेना ने रोक लिया है।

विचार से ख़ास

दोनों देशों की सेनाओं और राजनयिकों के बीच जो बातचीत चल रही है उसमें कई जगहों से सैनिकों के पीछे हटने पर सहमति का दावा किया गया है लेकिन पैंगोंग त्सो झील इलाक़े पर फिंगर-4 से फिंगर-8 तक के आठ किलोमीटर तक के इलाक़े से चीनी सैनिकों को पीछे कर लेने के बारे में दोनों देशों के अधिकारी मौन हैं। इस इलाक़े में चीनी सेना द्वारा बड़ी तोपों और मशीन गनों के तैनात करने की रिपोर्टें हैं। इसलिये चीनी सेना द्वारा जब वास्तविक नियंत्रण रेखा के कुछ इलाक़ों से पीछे हटने की बातें की जा रही हैं तो यही शंका पैदा होती है कि कहीं चार क़दम आगे बढ़ने के बाद दो क़दम पीछे जाने की रणनीति के तहत चीन पैंगोंग झील की चोटियों के इलाक़े पर अपनी स्थायी मौजूदगी तो नहीं बनाने में कामयाब होगा?  भारतीय सेना के लिये फिंगर-4 से फिंगर 8 तक की चोटी पर बैठना सामरिक तौर पर बैठना काफ़ी अहम है क्योंकि यहाँ से दोलतबेग ओल्डी मार्ग पर भारतीय सैन्य आवाजाही को निशाना बनाया जा सकता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता प्रमाणपत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
रंजीत कुमार
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें