loader

हठ करने पर किसानों का ही नुक़सान होगा!

मुझे भय है कि आंदोलनकारी किसानों की ओर से कठोर स्वभाव और हठी होना केवल हिंसा को ही जन्म देगा, जैसा कि जनवरी 1905 में सेंट पीटर्सबर्ग में ख़ूनी रविवार को हुआ था, या अक्टूबर 1795 में पेरिस में वेंडीमाइरे में, जहाँ नेपोलियन की तोपों से 'व्हिफ़ ऑफ़ ग्रेपशॉट' के द्वारा एक बड़ी भीड़ को तितर-बितर कर दिया गयाI इसलिये मेरा मानना है कि 3 दिसंबर को किसान खुले दिमाग़ से सरकार के प्रस्ताव पर विचार करें।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू

हरियाणा पुलिस द्वारा कई बाधाओं और रोकने के बावजूद, भारतीय संसद द्वारा हाल ही में पारित किए गए तीन किसान क़ानून के ख़िलाफ़  'दिल्ली चलो' के नारे के साथ किसानों ने पंजाब से दिल्ली की ओर कूच किया। कुछ अन्य राज्यों के किसान भी आंदोलन में शामिल हो गए हैं।

1 दिसंबर को किसानों और सरकार के बीच बातचीत हुई। जिसका कोई नतीजा नहीं निकला। अब अगले दौर की बातचीत 3 दिसंबर को होगी। किसान इस बात पर अड़े हैं कि सरकार तीनों क़ानूनों को वापस ले। 

ख़ास ख़बरें

यह सच है कि भारतीय किसानों की कुछ वास्तविक शिकायतें हैं, उनमें से प्रमुख यह है कि उन्हें अपने उत्पादों के लिए पर्याप्त पारिश्रमिक मूल्य नहीं मिलते हैं। उन्हें यह भी आशंका है कि नए क़ानून उनके हितों के लिए हानिकारक हो सकते हैं, और उन्हें कुछ कॉरपोरेटों की दया पर जीवित रहने की आशंका है।

फिर भी मैं सम्मान के साथ प्रस्तुत करता हूँ कि अगर उन्होंने आगे भी आंदोलन जारी रखा तो आंदोलन उनके लिए हित से ज़्यादा अहित ही साबित होगा। आंदोलन द्वारा अब तक उन्होंने अपनी बात रखी है, और अपनी एकजुटता का प्रदर्शन किया।

आंदोलनकारी किसानों को एक बात समझनी चाहिए: प्रशासन का एक सिद्धांत है कि सरकार को कभी भी दबाव के सामने घुटने नहीं टेकने चाहिए, क्योंकि अगर वह करती है, तो इस से सरकार को कमज़ोर समझा जाएगा, और तब और माँगें, दबाव बढ़ाए जाएँगे। इसलिए अगर किसानों को लगता है कि इस आंदोलन से वे सरकार को घुटने टिकवा देंगे और उन्हें  पूरी तरह से आत्मसमर्पण करने पर मजबूर कर देंगे, तो वह उनकी भूल हैI

केंद्रीय कृषि मंत्री के माध्यम से सरकार ने सभी मुद्दों पर किसानों के साथ बातचीत की है, और अब उनके लिए यह प्रस्ताव स्वीकार करने का समय आ गया हैI हर संघर्ष में एक आगे बढ़ने का वक़्त होता है और एक बातचीत करने का या पीछे हटने काI

इसमें कोई संदेह नहीं है कि पहले की वार्ता विफल रही और मंगलवार की बातचीत भी बेनतीजा रही लेकिन कोई और प्रयास करने से कोई नुक़सान नहीं है। संयुक्त राज्य अमेरिका और चीन के बीच 1950-51 की कोरियाई युद्ध के बाद वार्ता कई बार विफल रही, लेकिन अंततः एक सफल समझौता हुआ। इसी प्रकार संयुक्त राष्ट्र अमेरिका और उत्तरी वियतनाम की युद्ध के दौरान कई बार असफल वार्ता हुईं, लेकिन अंततोगत्वा जनवरी 1973 में एक समझौता हुआ I यहाँ भी ऐसा हो सकता है।

देखिए वीडियो, क्या सरकार किसानों के आगे झुकेगी?
मुझे भय है कि आंदोलनकारी किसानों की ओर से कठोर स्वभाव और हठी होना केवल हिंसा को ही जन्म देगा, जैसा कि जनवरी 1905 में सेंट पीटर्सबर्ग में ख़ूनी रविवार को हुआ था, या अक्टूबर 1795 में पेरिस में वेंडीमाइरे में, जहाँ नेपोलियन की तोपों से 'व्हिफ़ ऑफ़ ग्रेपशॉट' के द्वारा एक बड़ी भीड़ को तितर-बितर कर दिया गयाI इसलिये मेरा मानना है कि 3 दिसंबर को किसान खुले दिमाग़ से सरकार के प्रस्ताव पर विचार करें और सरकार से सहमति बनाने का प्रयास करें।
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए


गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें