loader
अजय पंडिताफ़ोटो साभार: ट्विटर/सलमान निज़ामी

अजय पंडिता की हत्या: अधिकांश मुसलिम कश्मीरी पंडितों के ख़िलाफ़ नहीं

अजय पंडिता ने अपने गाँव में सरपंच का चुनाव जीता था। शायद 95% मतदाता मुसलिम थे, यह दर्शाता है कि कश्मीरी मुसलमानों में से अधिकांश आज कश्मीरी पंडितों के ख़िलाफ़ नहीं हैं बल्कि उन्हें अतीत में पंडितों के प्रति किए गए घोर अपराध का एहसास है। मेरा मानना है कि 99% लोग अच्छे हैं, चाहे हिंदू, मुसलिम, सिख, ईसाई आदि कोई भी हों। इसलिए 99% कश्मीरी मुसलमान अच्छे लोग हैं जिन्हें कश्मीरी पंडितों से कोई दुश्मनी नहीं है।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू

कश्मीर के अनंतनाग ज़िले के एक गाँव में 40 साल के कश्मीरी पंडित सरपंच अजय पंडिता की आतंकवादियों द्वारा हत्या ने कश्मीरी पंडितों के पुराने घावों को न सिर्फ़ कुरेदा है बल्कि इस घटना ने पंडित समुदाय के साथ 1990 के दशक में कश्मीर घाटी में हुए भयंकर अत्याचार की छवि को पुनर्जीवित कर दिया है। ऐसी स्थिति होने के बावजूद इस समय सभी को शांत विचार-विमर्श की ज़रूरत है, न कि भावनात्मक प्रतिक्रिया की।

अजय पंडिता का परिवार 1990 के दशक में कश्मीर से पलायन कर गया था जब कश्मीरी पंडितों पर उग्रवाद और हमले अपने चरम पर थे। लगभग 2 साल पहले ही अजय पंडिता कश्मीर लौटे थे। उन्होंने अपने गाँव में सरपंच का चुनाव लड़ा और जीता। यह तथ्य कि शायद 95% मतदाता मुसलिम थे, यह दर्शाता है कि कश्मीरी मुसलमानों में से अधिकांश आज कश्मीरी पंडितों के ख़िलाफ़ नहीं हैं बल्कि उन्हें अतीत में पंडितों के प्रति किए गए घोर अपराध का एहसास है। यह केवल एक छोटा अल्पसंख्यक भाग है जो पंडितों के प्रति शत्रुता का भाव रखता है लेकिन चिंता की बात यह है कि यह अल्पसंख्यक भाग सशस्त्र है। बाक़ी के निहत्थे बहुमत लोग केवल अपनी जान गँवाने के डर से, मशीनगन से लैस कुछ मुट्ठी भर लोगों के सामने मूकदर्शक बने रहेंगे।

ताज़ा

हालाँकि कश्मीरी पंडित लगभग 80 लाख कश्मीर की कुल आबादी में से केवल 4 लाख थे यानी सभी कश्मीरियों का लगभग 5%, वे सदियों से कश्मीरी मुसलमानों के साथ सौहार्द और सद्भाव से रहते थे। उनकी परेशानी केवल 1947 में शुरू हुई जब भारत का विभाजन निराधार दो राष्ट्र सिद्धांत के आधार पर हुआ।

विभाजन का पूरा उद्देश्य जो ब्रिटिश शासकों द्वारा एक ऐतिहासिक झाँसा था, यह सुनिश्चित करना था कि एकजुट भारत पश्चिमी उद्योग के लिए चीन की तरह एक आधुनिक औद्योगिक विशाल और एक शक्तिशाली प्रतिद्वंद्वी के रूप में न उभरे। भारत में उपलब्ध सस्ते श्रम के कारण भारतीय उद्योग अपने उत्पादों को पश्चिमी उद्योगों के महंगे उत्पादों की तुलना में बहुत सस्ते दाम पर बेच सकते थे। अगर ऐसा होता तो पश्चिमी उद्योगों का महंगा माल कौन खरीदता? क्या उनके बड़े पैमाने पर बंद होने के कारण बेरोज़गारी नहीं फैलती?

इसलिए विकसित देशों का पूरा खेल भारत को चीन की तरह आधुनिक औद्योगिक विशालकाय देश बनने से रोकना है। और ऐसा करने के लिए वे अपने स्थानीय एजेंटों का इस्तेमाल कर लोगों के बीच धार्मिक, जातिगत, भाषाई, जातीय और क्षेत्रीय नफ़रत को बढ़ावा देते हुए इन सभी के बीच संघर्ष पैदा करते हैं।

एक बार जब हम विकसित देशों द्वारा रचे इस साज़िश को समझ लें तो कश्मीर सहित भारतीय उपमहाद्वीप में हो रही सभी चीज़ें पूर्ण रूप से स्पष्ट हो जाएँगी। मगर तब तक भड़काऊ एजेंट (जो कश्मीर में आतंकवादी हैं) का उपयोग करके सांप्रदायिक आग को बढ़ावा दिया जाता रहेगा।

मेरा मानना है कि 99% लोग अच्छे हैं, चाहे हिंदू, मुसलिम, सिख, ईसाई आदि कोई भी हों। इसलिए 99% कश्मीरी मुसलमान अच्छे लोग हैं जिन्हें कश्मीरी पंडितों से कोई दुश्मनी नहीं है।

विचार से ख़ास
कश्मीर की समस्या का एकमात्र समाधान भारत और पाकिस्तान (बांग्लादेश सहित) के साथ एक धर्मनिरपेक्ष सरकार के तहत दृढ़ संकल्पित देशभक्त, आधुनिक दिमाग वाले नेताओं के नेतृत्व में, कश्मीर को साथ लेकर इस पुनर्मिलित भारत को तेज़ी से आधुनिकीकरण और औद्योगीकरण की ओर ले जाना है। यद्यपि मुझे विश्वास है कि यह पुनर्मिलन अपरिहार्य है क्योंकि भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश वास्तव में एक समान संस्कृति वाले देश हैं, मुग़ल काल से एक रहे हैं। यह अब से 10-15 साल बाद ही होगा। तब तक, मुझे यह कहते हुए दुख हो रहा है कि कश्मीर में अशांति बनी रहेगी और कश्मीरी पंडित कश्मीर में असुरक्षित रहेंगे।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें