loader

प्रधानमंत्री मोदी ने आख़िर मानी अपनी महाभूल!

राष्ट्र के नाम प्रधानमंत्री के अभिभाषण की सबसे ख़ास बात क्या है? संभवतः पहली बार उन्होंने अपनी किसी भूल को सार्वजनिक तौर पर स्वीकार किया है। उन्होंने बहुत स्पष्ट कहा कि देश को किसी भी सूरत में लॉकडाउन से बचाया जाना चाहिए। लॉकडाउन बस अंतिम विकल्प होना चाहिए।

प्रधानमंत्री को यह ज्ञान कहाँ से आया? निस्संदेह उस पहले लॉकडाउन के अनुभव से, जिसे उन्होंने मार्च के महीने में अचानक एक रात देश पर पहले पंद्रह दिन के लिए थोप दिया था और बाद में इसे और बढ़ाया था।

वह लॉकडाउन इस देश के लाखों- बल्कि- करोड़ों लोगों के लिए कितना भयावह साबित हुआ- इसके असली आँकड़े सामने आने बाक़ी हैं। जब वे आएंगे तो शायद हम पाएँगे कि वाक़ई लॉकडाउन ने इस देश का कोरोना से ज़्यादा नुक़सान किया, यह बहुत सारे लोगों के लिए जानलेवा साबित हुआ। बहुत सारे लोगों की इसने दशकों से जमी गृहस्थी उजाड़ दी, लोगों से उनका क़ारोबार छीन लिया। और यह लॉकडाउन तब आया था जब देश में कोरोना के मामले तीन अंकों से आगे नहीं बढ़े थे।

ताज़ा ख़बरें

यह सवाल बार-बार पूछा गया कि क्या प्रधानमंत्री ने इतना बड़ा फ़ैसला करने से पहले कोई विचार-विमर्श किया था? किसी समिति ने उन्हें लॉकडाउन का सुझाव दिया था? लॉकडाउन के साल भर होने पर बीबीसी ने एक कार्यक्रम में बताया कि उसने आरटीआई से जो जानकारी इकट्ठा की, उससे यही समझ में आता है कि बिना किसी विचार-विमर्श के यह लॉकडाउन हुआ।

लेकिन दूध का जला छाछ भी फूँक-फूँक कर पीता है। शायद यही वजह है कि लगातार पाँच दिन से ढाई लाख से ज़्यादा मामले आने के बाद भी उन्हें लॉकडाउन के एलान की हिम्मत नहीं पड़ रही है। वे यह अलोकप्रिय फ़ैसला अब राज्य सरकारों से करवाना चाहते हैं। यही नहीं, उनका सुझाव है कि राज्य सरकारें ही मज़दूरों को समझाएँ कि वे अपनी जगह न छोड़ें।

जाहिर है कि प्रधानमंत्री के वक्तव्य से साफ़ हो गया कि अब सरकार को कोई उपाय नहीं सूझ रहा है। वह धीरज और सब्र से कोरोना के विरुद्ध युद्ध लड़ने का सुझाव दे रही है। लेकिन इस देश ने यह सब्र और धीरज साल भर दिखाया है। अगर किसी ने नहीं दिखाया तो अपने राजनीतिक मंसूबों को सबसे ज़्यादा महत्व देने वाले इस देश के नेताओं ने, धर्म की दुकानें चला रहे और राजनीति से ताक़त पा रहे तथाकथित धार्मिक ने और उस उद्धत भक्त समुदाय ने जो प्रधानमंत्री के कहने पर ताली-थाली बजाता रहा, दीए जलाता रहा और सोसाइटियों में घूम-घूम कर सबको मजबूर करता रहा कि वे भी यह काम करें- उनकी इच्छा या सहमति हो या नहीं। बाद में इसी उद्धत समुदाय ने राम मंदिर के लिए घर-घर जाकर चंदा इकट्ठा करने का काम किया। 

अब प्रधानमंत्री ने इनको नई भूमिका सौंपी है- अपने-अपने इलाक़ों में लॉकडाउन के अनुशासन पर अमल करवाने की। कहने की ज़रूरत नहीं कि इससे फिर एक तरह के विजिलैंटिज़्म का ख़तरा पैदा होता है।

यह वह जन भागीदारी नहीं है जो स्वतःस्फूर्त ढंग से लोगों की मदद के लिए शुरू हो जाती है। कोविड और लॉकडाउन के दौरान इस जन भागीदारी ने सचमुच अहम भूमिका निभाई। लॉकडाउन में हज़ारों मामूली संगठनों और लाखों गुमनाम लोगों ने भूख से बेहाल लोगों को खाना खिलाया। अब वही लोग कोविड के बीमारों के लिए बेड, ऑक्सीजन और दवाएँ जुटाने की भागदौड़ में लगे हैं। इनको किसी प्रधानमंत्री के निर्देश की ज़रूरत नहीं पड़ी। लेकिन जब प्रधानमंत्री निर्देश देकर कुछ करवाते हैं- ख़ास तौर पर अनुशासन पालन करवाने का काम- तो वह एक अलग आयाम ग्रहण करने लगता है।

pm modi address to nation on covid surge and lockdown - Satya Hindi

दरअसल, ज़रूरत स्वास्थ्य सेवाओं के आधारभूत ढाँचे को बेहतर बनाने की है- बेहतर अस्पतालों की, ऑक्सीजन की आश्वस्तिदायी सप्लाई की, दवाओं की। अगर हमने यह सब तैयार किया होता तो कोविड इतना ख़तरनाक न होता। लेकिन संकट यह है कि इस देश में नैतिकता की सबसे ज़्यादा दुहाई वे लोग देते हैं जो काले पैसे पर दवाएँ और इंजेक्शन ख़रीदना चाहते हैं और उनकी मदद राजनीतिक दलों के नेता भी करते हैं जो इंजेक्शनों की जमाखोरी करते बेशर्मी से पकड़े जाते हैं।

विचार से ख़ास

काश कि प्रधानमंत्री ने ऐसे लोगों के ख़िलाफ़ पुलिस-प्रशासन को कुछ सख़्त होने को कहा होता। लेकिन दरअसल इसी भ्रष्टाचार की वजह से हम वह तंत्र इन तमाम वर्षों में बना नहीं पाए जिससे लोगों को कोविड से लड़ने से मदद मिलती। अगर इस देश में बस इसी साल दिए गए चुनावी चंदे और धार्मिक चंदे का हिसाब देखा जाए तो बहुत संभव है कि यह पता चले कि इसमें बहुत सारा पैसा विकास योजनाओं, अस्पतालों, स्कूलों और ज़रूरी सेवाओं के लिए तय की गई रक़म की सेंधमारी से आया है। बंगाल के चुनावों में एक हज़ार करोड़ की रक़म का सामान बरामद होने की जो सूचना चुनाव आयोग ने जारी की, वह क्या बताती है? वह किनका पैसा था?

यह एक उदास करने वाली तसवीर है। इस उदासी को प्रधानमंत्री को प्रधानमंत्री का भाषण तोड़ता नहीं, कुछ और गहरा करता है- आख़िर इसके साथ यह खयाल जुड़ा हुआ है कि यह सरकार मनमाने फ़ैसले लेती है, सुविचारित नहीं। लॉकडाउन को लेकर प्रधानमंत्री की स्वीकृति यही बताती है।

(प्रियदर्शन के फेसबुक वाल से)
सत्य हिन्दी ऐप डाउनलोड करें

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
प्रियदर्शन ।
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें