loader

शर्मनाक! गर्भवती हथिनी की मौत को भी सांप्रदायिक रूप दे दिया गया! 

केरल में गर्भवती हथिनी की मौत को सांप्रदायिक बनाने की कोशिश की गई। ठीक उसी तरह जिस तरह कुछ लोगों ने कोरोना महामारी के दौरान तब्लीग़ी जमात को दोषी ठहराते हुए की थी। हथिनी स्पष्ट रूप से ग़लती से मारी गयी थी, जानबूझकर नहीं। इसके बावजूद, कुछ लोग इस प्रकरण को सांप्रदायिक मोड़ देने की कोशिश कर रहे हैं और ऐसा करने का कारण स्पष्ट है। 
जस्टिस मार्कंडेय काटजू

केरल में पटाखों से भरा अनानास खाने से एक गर्भवती हथिनी की मौत हो गई और तुरंत कुछ राजनेता इस मुद्दे को सांप्रदायिक रूप देने की कोशिश में कूद पड़े। ठीक उसी तरह जिस तरह कुछ लोगों ने तब्लीग़ी जमात को दोषी ठहराते हुए कोरोना महामारी को सांप्रदायिक रूप देने की कोशिश की थी।

चूंकि दक्षिण भारत में अक्सर हिंदू मंदिरों में हाथियों का इस्तेमाल किया जाता है, इसलिए उन्हें मारना मुसलमानों के हिंदू विरोधी कृत्य के रूप में चित्रित किया जा रहा है। पूर्व केंद्रीय मंत्री और बीजेपी सांसद मेनका गांधी ने कई टीवी साक्षात्कारों में अप्रत्यक्ष रूप से मुसलमानों को दोषी ठहराया। उन्होंने कथित रूप से कहा कि "मलप्पुरम (जो केरल में एकमात्र मुसलिम बहुमत वाला जिला है) अपनी आपराधिक गतिविधियों, विशेष रूप से जानवरों के प्रति, के लिए जाना जाता है।”

ताज़ा ख़बरें

मेनका ने कहा कि केरल में हर हफ्ते एक हाथी की पिटाई के कारण मौत हो जाती है। उन्होंने दोषियों की गिरफ्तारी, केरल के संबंधित मंत्री के त्यागपत्र और वन सचिव को बर्खास्त करने की मांग की है और कहा है कि मलप्पुरम के लोग हमेशा से समस्याएं पैदा करते रहे हैं। 

पीछे न रहते हुए केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने कहा कि केंद्र सरकार ने मामले को गंभीरता से लिया है और दोषियों को पकड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ेगी। अन्य राजनेता, विराट कोहली, रतन टाटा और पशु कार्यकर्ताओं जैसी हस्तियां भी विलाप कर रही हैं कि मानो आसमान गिर गया हो।

लेकिन सच्चाई क्या है? सबसे पहली बात, यह घटना पलक्कड़ जिले में हुई, न कि मलप्पुरम में। दूसरी, यह इसलिए हुई क्योंकि जंगली सुअर अक्सर कृषि फसलों को नष्ट कर देते हैं, इसलिए इन पटाखों का उपयोग केरल के कुछ हिस्सों में किसानों द्वारा ऐसे जंगली सुअरों को मारने के लिए किया जाता है। 

हथिनी स्पष्ट रूप से ग़लती से मारी गयी थी, जानबूझकर नहीं। इसके बावजूद, कुछ लोग इस प्रकरण को सांप्रदायिक मोड़ देने की कोशिश कर रहे हैं और ऐसा करने का कारण स्पष्ट है। 

विचार से और ख़बरें

भारतीय अर्थव्यवस्था गहरी मंदी में है, कई उद्योगों ने या तो उत्पादन बंद कर दिया है या उत्पादन में भारी कटौती की है जिससे बेरोज़गारी रिकॉर्ड स्तर पर दर्ज की गई है। कोरोना लॉकडाउन ने अर्थव्यवस्था को और गर्त में धकेल दिया है और केंद्र सरकार को इस बारे में कोई जानकारी नहीं है कि क्या करना है।

इससे बड़े पैमाने पर सार्वजनिक विरोध और प्रदर्शनों का होना अवश्यंभावी है, इसलिये ध्यान भटकाने के लिये इस तरह के बयान दिये जा रहे हैं। अब समय आ गया है जब भारतीय लोगों को सच्चाई को देखना चाहिए और उन तत्वों को बेनकाब करना चाहिए, जो हमारे लोगों को राजनीतिक लाभ के लिए धार्मिक आधार पर विभाजित करने का प्रयास कर रहे हैं।

भारत कई धर्मों, जातियों, भाषाई और जातीय समूहों वाला बड़ी विविधताओं का देश है। हमारे लोगों में एकता और शक्तिशाली एकजुट लोगों का संघर्ष ही एकमात्र समृद्धि का मार्ग है। अपने निहित स्वार्थ के लिए नापाक तत्वों द्वारा उकसाकर धार्मिक और अन्य प्रकार की कलह, आगे आने वाली आपदा का पक्का रास्ता है।

'सत्य हिन्दी'
की ताक़त बनिए

गोदी मीडिया और विशाल कारपोरेट मीडिया के मुक़ाबले स्वतंत्र पत्रकारिता का साथ दीजिए और उसकी ताक़त बनिए। 'सत्य हिन्दी' की सदस्यता योजना में आपका आर्थिक योगदान ऐसे नाज़ुक समय में स्वतंत्र पत्रकारिता को बहुत मज़बूती देगा। याद रखिए, लोकतंत्र तभी बचेगा, जब सच बचेगा।

नीचे दी गयी विभिन्न सदस्यता योजनाओं में से अपना चुनाव कीजिए। सभी प्रकार की सदस्यता की अवधि एक वर्ष है। सदस्यता का चुनाव करने से पहले कृपया नीचे दिये गये सदस्यता योजना के विवरण और Membership Rules & NormsCancellation & Refund Policy को ध्यान से पढ़ें। आपका भुगतान प्राप्त होने की GST Invoice और सदस्यता-पत्र हम आपको ईमेल से ही भेजेंगे। कृपया अपना नाम व ईमेल सही तरीक़े से लिखें।
सत्य अनुयायी के रूप में आप पाएंगे:
  1. सदस्यता-पत्र
  2. विशेष न्यूज़लेटर: 'सत्य हिन्दी' की चुनिंदा विशेष कवरेज की जानकारी आपको पहले से मिल जायगी। आपकी ईमेल पर समय-समय पर आपको हमारा विशेष न्यूज़लेटर भेजा जायगा, जिसमें 'सत्य हिन्दी' की विशेष कवरेज की जानकारी आपको दी जायेगी, ताकि हमारी कोई ख़ास पेशकश आपसे छूट न जाय।
  3. 'सत्य हिन्दी' के 3 webinars में भाग लेने का मुफ़्त निमंत्रण। सदस्यता तिथि से 90 दिनों के भीतर आप अपनी पसन्द के किसी 3 webinar में भाग लेने के लिए प्राथमिकता से अपना स्थान आरक्षित करा सकेंगे। 'सत्य हिन्दी' सदस्यों को आवंटन के बाद रिक्त बच गये स्थानों के लिए सामान्य पंजीकरण खोला जायगा। *कृपया ध्यान रखें कि वेबिनार के स्थान सीमित हैं और पंजीकरण के बाद यदि किसी कारण से आप वेबिनार में भाग नहीं ले पाये, तो हम उसके एवज़ में आपको अतिरिक्त अवसर नहीं दे पायेंगे।
जस्टिस मार्कंडेय काटजू
सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें

अपनी राय बतायें

विचार से और खबरें

ताज़ा ख़बरें

सर्वाधिक पढ़ी गयी खबरें